बच्चों के सीखने और विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियां जरूरी – बीईओ BEO Aajtak24 News

 

बच्चों के सीखने और विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियां जरूरी – बीईओ BEO Aajtak24 News 

चाम्पा - ग्रामीण बच्चों की प्रतिभा निखारकर उनमें हुनर विकसित करने के लिए ग्राम सोंठी की शिक्षिका ममता जायसवाल द्वारा संचालित स्वैच्छिक समर कैंप का समापन बीईओ एम डी दीवान एवं बीआरसी हीरेन्द्र बेहार के आतिथ्य में हुआ।कार्यक्रम की शुरुआत अतिथियों द्वारा मां सरस्वती की पूजा अर्चना कर की गई। तत्पश्चात बच्चों के द्वारा सरस्वती वंदना प्रस्तुत की गई। अतिथि द्वय का स्वागत शिवप्रकाश जायसवाल एवं ममता जायसवाल द्वारा गुलदस्ता भेंटकर किया गया। इस अवसर पर अपने उद्बोधन में बीईओ एम डी दीवान ने कहा बच्चों के सीखने और उनके विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियां बहुत जरूरी है। इससे वे क्रिएटीव होते है और उनका आत्मविश्वास बढ़ता है। यह कार्य ममता ने बखूबी किया है बच्चों का हुनर और उनकी उत्सुकता देखकर लग रहा है यह कैम्प उनके लिए काफी फायदेमंद रहा है। निश्चित ही उनकी प्रतिभा सामने आई है। यह जिले का एकमात्र स्वैचिछक समर कैम्प है । उन्होंने कहा कि घर की बेटी जब खुद होकर बिना कहे काम करती है तो सब बहुत खुश होते है। वैसे ही ममता हमारे विकासखंड की बेटी है जो स्वैच्छिक रूप से बिना निर्देश के इस भीषण गर्मी में बच्चों के लिए समर कैंप संचालित की जो हमारे ब्लॉक एवं जिले के लिए गौरव की बात है। यह सबके लिए प्रेरणादायक साबित होगा। उन्होंने बच्चों से कहा कि आप लोग जो भी सीखे है उसको घर एवं स्कूल पर भी करे और अनुशासन में रहकर पढ़ाई कर नाम रोशन करें। बीआरसी हीरेन्द्र बेहार ने स्वैचिछक समर कैंप की सराहना करते हुए कहा कि निश्चित ही बच्चों में हुनर विकसित हुआ है। उनमें सोचने और कुछ नया करने आत्मविश्वास विकसित हुआ है। उन्होंने ममता जायसवाल को बधाई देते हुए कहा कि आप निरंतर शैक्षिक गतिविधि के अलावा बच्चों हुनर विकास पर फ़ोकस करेंगे । ममता जायसवाल ने समर कैम्प के अपने उद्देश्य को बताते हुए कहा कि कमजोर वर्ग के ग्रामीण परिवेश में पले बढ़े इन बच्चों को समर कैंप के माध्यम से उन्हे सिखाना और उनका विकास करना है। उन्हें उचित माहौल और प्लेटफॉर्म नही मिलने से उनकी प्रतिभा छुपी की छुपी रह जाती है। मैं कोरोना काल एवं उसके बाद से समर कैंप संचालित करती हूं जिससे बच्चों को अपनी प्रतिभा तराशने का अवसर मिलता है। समर कैंप के बच्चे भी अपने अनुभवों का साझा कर कहा कि समर कैम्प। हर साल चलना चाहिए ताकि हम सबअपनी प्रतिभा निखार सके। अतिथियों के द्वारा समर कैंप में साज सज्जा, रंगीलो, मेहंदी, नृत्य,पेंटिंग, लेखन सहित अनेक गतिविधियों में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पाने वालो को पुरस्कार का वितरण किया गया। यही नही जितने बच्चें कैम्प में आते थे सबको सांत्वना पुरस्कार दिया गया। आभार प्रदर्शन ममता जायसवाल ने किया। इस अवसर पर शिवप्रकाश जायसवाल एवं सुशील शर्मा उपस्थित थे।


bachchon ke seekhane aur vikaas ke lie rachanaatmak gatividhiyaan jarooree – beo 
chaampa - graameen bachchon kee pratibha nikhaarakar unamen hunar vikasit karane ke lie graam sonthee kee shikshika mamata jaayasavaal dvaara sanchaalit svaichchhik samar kaimp ka samaapan beeeeo em dee deevaan evan beeaarasee heerendr behaar ke aatithy mein hua.kaaryakram kee shuruaat atithiyon dvaara maan sarasvatee kee pooja archana kar kee gaee. tatpashchaat bachchon ke dvaara sarasvatee vandana prastut kee gaee. atithi dvay ka svaagat shivaprakaash jaayasavaal evan mamata jaayasavaal dvaara guladasta bhentakar kiya gaya. is avasar par apane udbodhan mein beeeeo em dee deevaan ne kaha bachchon ke seekhane aur unake vikaas ke lie rachanaatmak gatividhiyaan bahut jarooree hai. isase ve krieteev hote hai aur unaka aatmavishvaas badhata hai. yah kaary mamata ne bakhoobee kiya hai bachchon ka hunar aur unakee utsukata dekhakar lag raha hai yah kaimp unake lie kaaphee phaayademand raha hai. nishchit hee unakee pratibha saamane aaee hai. yah jile ka ekamaatr svaichichhak samar kaimp hai . unhonne kaha ki ghar kee betee jab khud hokar bina kahe kaam karatee hai to sab bahut khush hote hai. vaise hee mamata hamaare vikaasakhand kee betee hai jo svaichchhik roop se bina nirdesh ke is bheeshan garmee mein bachchon ke lie samar kaimp sanchaalit kee jo hamaare blok evan jile ke lie gaurav kee baat hai. yah sabake lie preranaadaayak saabit hoga. unhonne bachchon se kaha ki aap log jo bhee seekhe hai usako ghar evan skool par bhee kare aur anushaasan mein rahakar padhaee kar naam roshan karen. beeaarasee heerendr behaar ne svaichichhak samar kaimp kee saraahana karate hue kaha ki nishchit hee bachchon mein hunar vikasit hua hai. unamen sochane aur kuchh naya karane aatmavishvaas vikasit hua hai. unhonne mamata jaayasavaal ko badhaee dete hue kaha ki aap nirantar shaikshik gatividhi ke alaava bachchon hunar vikaas par fokas karenge . mamata jaayasavaal ne samar kaimp ke apane uddeshy ko bataate hue kaha ki kamajor varg ke graameen parivesh mein pale badhe in bachchon ko samar kaimp ke maadhyam se unhe sikhaana aur unaka vikaas karana hai. unhen uchit maahaul aur pletaphorm nahee milane se unakee pratibha chhupee kee chhupee rah jaatee hai. main korona kaal evan usake baad se samar kaimp sanchaalit karatee hoon jisase bachchon ko apanee pratibha taraashane ka avasar milata hai. samar kaimp ke bachche bhee apane anubhavon ka saajha kar kaha ki samar kaimp. har saal chalana chaahie taaki ham sabapanee pratibha nikhaar sake. atithiyon ke dvaara samar kaimp mein saaj sajja, rangeelo, mehandee, nrty,penting, lekhan sahit anek gatividhiyon mein pratham, dviteey evan trteey sthaan paane vaalo ko puraskaar ka vitaran kiya gaya. yahee nahee jitane bachchen kaimp mein aate the sabako saantvana puraskaar diya gaya. aabhaar pradarshan mamata jaayasavaal ne kiya. is avasar par shivaprakaash jaayasavaal evan susheel sharma upasthit the.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News