एन.एच. 49 के किनारे सड़क मद की जमीन के खरीद-विक्री में भू-माफिया सक्रिय sakriy Aajtak24 News

 

एन.एच. 49 के किनारे सड़क मद की जमीन के खरीद-विक्री में भू-माफिया सक्रिय sakriy Aajtak24 News 

रायगढ़ - नगर के बाईपास के किनारे-किनारे की जमीनों की खरीद-विक्री में आए दिन विवाद की स्थिति उत्पन्न हो रही है, जिसका कारण यह है कि बाईपास के निर्माण हेतु अधिग्रहित जमीनों के मुआवजे का कागजात व सड़क का नक्शा पी.डब्ल्यू.डी. के पास कथित रूप से सुरक्षित नहीं होना बताया जा रहा है। इस संबंध में वर्ष 2005 में तत्कालीन कलेक्टर ने इस समस्या के निराकरण हेतु एक आदेश पारित किया था, उस आदेश में कलेक्टर द्वारा यह कहा गया था कि एन.एच. 49 बाईपास के मध्य से दोनों ओर 30 मीटर अर्थात् 100 फुट तक किसी भी प्रकार की जमीन की खरीद-विक्री एवं किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं किया जा सकता है। किन्तु आज उस आदेश का अनदेखी कर जिले का राजस्व अमला कार्य कर रहा है। बताया जाता है कि गत 16 मई को जिले का राजस्व अमला अनिल केडिया नामक एक व्यक्ति के जमीन का सीमांकन करने मौके पर पहुंचा था। इस मामले में गौर करने वाली बात यह है कि श्री केडिया की जमीन बाईपास मध्य सड़क से 30 मीटर के अन्दर ही स्थित है। उसके बाद भी राजस्व अमला द्वारा आवेदक को लाभ पहुंचाने के लिए नियम विरूद्ध सीमांकन का प्रयास किया गया। हांलाकि 30 मीटर के दायरे से बाहर के जमीन मालिकों ने सीमांकन पर लिखित आपत्ती दर्ज कराई है, जिस कारण से सीमांकन कार्य रूका हुआ है। वहीं दूसरी तरफ रायगढ़ विधायक व प्रदेश के वित्त मंत्री ओम प्रकाश चौधरी द्वारा चुनाव में बाईपास को रिंग रोड बनाने का आश्वासन नगर वासियों को दिया गया था। अतः राजस्व अमले द्वारा इस प्रकार से बाईपास के किनारे-किनारे की जमीनों का सीमांकन, रिंग रोड के प्रस्ताव को भी खटाई में डाल सकता है। इसके अतिरिक्त आए दिन इस प्रकार के मामले समाचार-पत्रों के सुर्खियों में देखने और पढ़ने को मिल रहे हैं। इसलिए राजस्व अमले के गतिविधियों पर लोक चर्चा है कि इस प्रकार के विवादों से निजात पाने हेतु बाईपास का नक्शा जो पूर्व में बना था, उस नक्शे से वर्तमान सड़क का भौतिक सत्यापन करते हुए, चालू नक्शा व भूईयां नक्शा में सड़क मध्य से दोनों ओर 30-30 मीटर को रेखांकित किया जाना चाहिए। उसके पश्चात् ही भूमि स्वामियों के भूमि का सीमांकन किया जाना उचित प्रतीत होता है। ज्ञात हो कि भू-माफिया एवं राजस्व विभाग के साँठ-गाँठ के कारण कमोबेश ऐसी स्तिथि नगर के चारो तरफ़ उत्पन्न हो रही है। बताया जा रहा है कि मेडिकल कॉलेज रोड, बोइरदादर एरिया, भगवानपुर, अम्लीभौना, सांगीतराई, छातामुड़ा, सहदेवपाली, पटेलपाली, कोड़ातराई, तेतला व ओड़िसा एवं खरसिया मार्ग पर स्थित कई ग्राम जो राज मार्ग के किनारों पर स्थित हैं, वहां इस प्रकार की समस्याएं देखी जा रही हैं। इस प्रकार के सार्वजनिक समस्याओं के निराकरण के लिए शासन की ओर भी लोग आशा भरे निगाहों से देख रहे हैं। इसके अतिरिक्त खरसिया की ओर राजमार्ग के किनारे के गांवों में एक समस्या ऐसी भी देखी जा रही है कि पटवारी द्वारा जमीन सीमांकन के दौरान यदि किसी व्यक्ति के जमीन के रकबा में अंतर पाए जाने पर यह कह कर चुप करा दिया जाता है कि जो नई सड़क बनी है, उसका निर्माण कहीं-कहीं पर एक तरफा हुआ है। पटवारी के इस मौखिक कथन के पश्चात् भूमि स्वामी/कृषक अपने आप को ठगा सा महसूस करता है। इसलिए यह आवश्यक है कि नक्शे में 60 मीटर के पूर्ण सड़क को रेखांकित किया जाए।

पटवारी का पंचनामा

जमीन के सीमांकन हेतु 26 जुन 2023 को नरसिंह लाल केडिया द्वारा तहसीलदार को आवेदन प्रस्तुत किया गया। इस आवेदन पर कार्यवाही करते हुए तहसीलदार ने अपने रिर्पोट में लिखा है कि आवेदक की भूमि रोड से लगकर स्थित है, जो कि मध्य सड़क से 30 मीटर की दूरी के अन्दर स्थित है, जिसका रकबा आवेदित रकबा से कम है और जिसे चालू नक्शा में लाल स्याही से चिन्हांकित किया गया है। अतः सड़क मध्य से 30 मीटर के अन्दर की जमीनों के सीमांकन से तत्कालीन कलेक्टर के आदेश का सीधा-सीधा उलंघन हो रहा है। इसी कारण से कहा जा रहा है कि इस प्रकार के समस्याओं के निराकरण के लिए बाईपास के मध्य से दोनों ओर 30-30 मीटर का उचित नक्शा रेखांकित होना आवश्यक है।

ऐसे सीमांकन से खटाई में पड़ सकती है रिंग रोड की योजना

बाईपास के किनारे-किनारे की जमीनों का सीमांकन कर खरीद-विक्री की अनुमति देने से सरकार की बहुप्रतीक्षित योजना रिंग रोड के निर्माण में विभिन्न प्रकार की समस्याओं का समाना करना पड़ सकता है। पहली समस्या यह हो सकती है कि अधिग्रहित जमीन को पुनः अधिग्रहण करना पड़ेगा। उसके बाद दूसरी समस्या यह हो सकती है कि बाद में हुए रजिस्ट्री को आधार बनाकर भूमि स्वामी न्यायालय जा सकते हैं, जिससे प्रशासन की समस्या और अधिक बढ़ सकती है। वहीं सड़क किनारे की जमीन होने के कारण नए अधिग्रहण से योजना के लागत में अप्रत्याशित वृद्धि होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। इसी कारण से लोक चर्चा है कि भू-माफिया को नेस्तनाबूत करने हेतु बाईपास के मध्य से दोनों ओर 30-30 मीटर का उचित नक्शा अविलम्ब रेखांकित किया जाना उचित प्रतीत होता है।


en.ech. 49 ke kinaare sadak mad kee jameen ke khareed-vikree mein bhoo-maaphiya sakriy

raayagadh - nagar ke baeepaas ke kinaare-kinaare kee jameenon kee khareed-vikree mein aae din vivaad kee sthiti utpann ho rahee hai, jisaka kaaran yah hai ki baeepaas ke nirmaan hetu adhigrahit jameenon ke muaavaje ka kaagajaat va sadak ka naksha pee.dablyoo.dee. ke paas kathit roop se surakshit nahin hona bataaya ja raha hai. is sambandh mein varsh 2005 mein tatkaaleen kalektar ne is samasya ke niraakaran hetu ek aadesh paarit kiya tha, us aadesh mein kalektar dvaara yah kaha gaya tha ki en.ech. 49 baeepaas ke madhy se donon or 30 meetar arthaat 100 phut tak kisee bhee prakaar kee jameen kee khareed-vikree evan kisee bhee prakaar ka nirmaan kaary nahin kiya ja sakata hai. kintu aaj us aadesh ka anadekhee kar jile ka raajasv amala kaary kar raha hai. bataaya jaata hai ki gat 16 maee ko jile ka raajasv amala anil kediya naamak ek vyakti ke jameen ka seemaankan karane mauke par pahuncha tha. is maamale mein gaur karane vaalee baat yah hai ki shree kediya kee jameen baeepaas madhy sadak se 30 meetar ke andar hee sthit hai. usake baad bhee raajasv amala dvaara aavedak ko laabh pahunchaane ke lie niyam virooddh seemaankan ka prayaas kiya gaya. haanlaaki 30 meetar ke daayare se baahar ke jameen maalikon ne seemaankan par likhit aapattee darj karaee hai, jis kaaran se seemaankan kaary rooka hua hai. vaheen doosaree taraph raayagadh vidhaayak va pradesh ke vitt mantree om prakaash chaudharee dvaara chunaav mein baeepaas ko ring rod banaane ka aashvaasan nagar vaasiyon ko diya gaya tha. atah raajasv amale dvaara is prakaar se baeepaas ke kinaare-kinaare kee jameenon ka seemaankan, ring rod ke prastaav ko bhee khataee mein daal sakata hai. isake atirikt aae din is prakaar ke maamale samaachaar-patron ke surkhiyon mein dekhane aur padhane ko mil rahe hain. isalie raajasv amale ke gatividhiyon par lok charcha hai ki is prakaar ke vivaadon se nijaat paane hetu baeepaas ka naksha jo poorv mein bana tha, us nakshe se vartamaan sadak ka bhautik satyaapan karate hue, chaaloo naksha va bhooeeyaan naksha mein sadak madhy se donon or 30-30 meetar ko rekhaankit kiya jaana chaahie. usake pashchaat hee bhoomi svaamiyon ke bhoomi ka seemaankan kiya jaana uchit prateet hota hai. gyaat ho ki bhoo-maaphiya evan raajasv vibhaag ke saanth-gaanth ke kaaran kamobesh aisee stithi nagar ke chaaro taraf utpann ho rahee hai. bataaya ja raha hai ki medikal kolej rod, boiradaadar eriya, bhagavaanapur, amleebhauna, saangeetaraee, chhaataamuda, sahadevapaalee, patelapaalee, kodaataraee, tetala va odisa evan kharasiya maarg par sthit kaee graam jo raaj maarg ke kinaaron par sthit hain, vahaan is prakaar kee samasyaen dekhee ja rahee hain. is prakaar ke saarvajanik samasyaon ke niraakaran ke lie shaasan kee or bhee log aasha bhare nigaahon se dekh rahe hain. isake atirikt kharasiya kee or raajamaarg ke kinaare ke gaanvon mein ek samasya aisee bhee dekhee ja rahee hai ki patavaaree dvaara jameen seemaankan ke dauraan yadi kisee vyakti ke jameen ke rakaba mein antar pae jaane par yah kah kar chup kara diya jaata hai ki jo naee sadak banee hai, usaka nirmaan kaheen-kaheen par ek tarapha hua hai. patavaaree ke is maukhik kathan ke pashchaat bhoomi svaamee/krshak apane aap ko thaga sa mahasoos karata hai. isalie yah aavashyak hai ki nakshe mein 60 meetar ke poorn sadak ko rekhaankit kiya jae. patavaaree ka panchanaama jameen ke seemaankan hetu 26 jun 2023 ko narasinh laal kediya dvaara tahaseeladaar ko aavedan prastut kiya gaya. is aavedan par kaaryavaahee karate hue tahaseeladaar ne apane rirpot mein likha hai ki aavedak kee bhoomi rod se lagakar sthit hai, jo ki madhy sadak se 30 meetar kee dooree ke andar sthit hai, jisaka rakaba aavedit rakaba se kam hai aur jise chaaloo naksha mein laal syaahee se chinhaankit kiya gaya hai. atah sadak madhy se 30 meetar ke andar kee jameenon ke seemaankan se tatkaaleen kalektar ke aadesh ka seedha-seedha ulanghan ho raha hai. isee kaaran se kaha ja raha hai ki is prakaar ke samasyaon ke niraakaran ke lie baeepaas ke madhy se donon or 30-30 meetar ka uchit naksha rekhaankit hona aavashyak hai. aise seemaankan se khataee mein pad sakatee hai ring rod kee yojana baeepaas ke kinaare-kinaare kee jameenon ka seemaankan kar khareed-vikree kee anumati dene se sarakaar kee bahuprateekshit yojana ring rod ke nirmaan mein vibhinn prakaar kee samasyaon ka samaana karana pad sakata hai. pahalee samasya yah ho sakatee hai ki adhigrahit jameen ko punah adhigrahan karana padega. usake baad doosaree samasya yah ho sakatee hai ki baad mein hue rajistree ko aadhaar banaakar bhoomi svaamee nyaayaalay ja sakate hain, jisase prashaasan kee samasya aur adhik badh sakatee hai. vaheen sadak kinaare kee jameen hone ke kaaran nae adhigrahan se yojana ke laagat mein apratyaashit vrddhi hone kee sambhaavana vyakt kee ja rahee hai. isee kaaran se lok charcha hai ki bhoo-maaphiya ko nestanaaboot karane hetu baeepaas ke madhy se donon or 30-30 meetar ka uchit naksha avilamb rekhaankit kiya jaana uchit prateet hota hai.


Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News