जुए और मादक पदार्थों की लत एक गंभीर मानसिक रोग - डॉ. राकेश कुमार kumar Aajtak24 News

 

जुए और मादक पदार्थों की लत एक गंभीर मानसिक रोग - डॉ. राकेश कुमार kumar Aajtak24 News 

कबीरधाम - जुआ, मादक पदार्थों या किसी भी वस्तु की लत एक गंभीर मानसिक रोग है, जो समाज में बढ़ती घटनाओं का मुख्य कारण बनती जा रही है। डॉ. राकेश कुमार, जो कबीरधाम जिले के जिला चिकित्सालय में मनोरोग चिकित्सक के रूप में कार्यरत हैं, ने इस विषय पर विस्तृत जानकारी दी है। डॉ. कुमार के अनुसार, लत की प्रक्रिया का आरंभ एक सामान्य प्रयोगात्मक व्यवहार के रूप में होता है, जो थोड़ी बहुत खुशी या दोस्तों के साथ मनोरंजन के तौर पर शुरू होता है। पहली बार इस्तेमाल करने पर यह हमारे शरीर में डोपामिन का स्त्राव बढ़ाता है, जिससे हमें खुशी और अच्छा महसूस होता है। यह खुशी हमें तनाव के समय पुनः उसी व्यवहार या पदार्थ को उपयोग करने के लिए प्रेरित करती है, और धीरे-धीरे यह एक प्रक्रिया बन जाती है जिससे व्यक्ति लत की गिरफ्त में फंस जाता है। उन्होंने बताया कि लत की संभावना विशेष रूप से 22 वर्ष से कम उम्र के व्यक्तियों में अधिक होती है, क्योंकि इस उम्र में मस्तिष्क का विकास हो रहा होता है और असामान्य व्यवहार मस्तिष्क और व्यवहार में परिवर्तन ला सकता है। यदि समय रहते इस समस्या को पहचाना और उपचार नहीं किया गया, तो यह गंभीर रूप ले सकता है, जिसमें आत्महत्या और तलाक जैसी समस्याएं शामिल हो सकती हैं। डॉ. कुमार ने इस बात पर भी जोर दिया कि मानसिक रोगों के उपचार में विशेषज्ञों की कमी और जागरूकता की कमी मुख्य रुकावट है। समाज में मानसिक रोगों की पहचान और उपचार को लेकर बहुत से मिथक और स्टिग्मा व्याप्त हैं, जिससे लोग चिकित्सकीय सहायता नहीं ले पाते। हालांकि, राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत चिकित्सकों, ग्रामीण चिकित्सा सहायकों और सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों को मानसिक रोगों की पहचान और उपचार के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। कबीरधाम जिले के जिला चिकित्सालय में स्पर्श क्लिनिक कक्ष क्रमांक 21 में सभी प्रकार के मानसिक रोगों की पहचान और उपचार किया जा रहा है। आत्महत्या रोकथाम और नशामुक्ति संबंधी सलाह और उपचार भी प्रदान किए जाते हैं। किसी भी प्रकार के मानसिक रोग या लत की समस्या के पहचान और उपचार के लिए यहाँ संपर्क किया जा सकता है। यह आवश्यक है कि समाज इस बढ़ती समस्या को गंभीरता से ले और समय रहते इसके निदान के लिए प्रयास करे। जागरूकता और उचित चिकित्सकीय सहायता से लत जैसी गंभीर समस्या का समाधान संभव है।




jue aur maadak padaarthon kee lat ek gambheer maanasik rog - do. raakesh kumaar
kabeeradhaam - jua, maadak padaarthon ya kisee bhee vastu kee lat ek gambheer maanasik rog hai, jo samaaj mein badhatee ghatanaon ka mukhy kaaran banatee ja rahee hai. do. raakesh kumaar, jo kabeeradhaam jile ke jila chikitsaalay mein manorog chikitsak ke roop mein kaaryarat hain, ne is vishay par vistrt jaanakaaree dee hai. do. kumaar ke anusaar, lat kee prakriya ka aarambh ek saamaany prayogaatmak vyavahaar ke roop mein hota hai, jo thodee bahut khushee ya doston ke saath manoranjan ke taur par shuroo hota hai. pahalee baar istemaal karane par yah hamaare shareer mein dopaamin ka straav badhaata hai, jisase hamen khushee aur achchha mahasoos hota hai. yah khushee hamen tanaav ke samay punah usee vyavahaar ya padaarth ko upayog karane ke lie prerit karatee hai, aur dheere-dheere yah ek prakriya ban jaatee hai jisase vyakti lat kee girapht mein phans jaata hai. unhonne bataaya ki lat kee sambhaavana vishesh roop se 22 varsh se kam umr ke vyaktiyon mein adhik hotee hai, kyonki is umr mein mastishk ka vikaas ho raha hota hai aur asaamaany vyavahaar mastishk aur vyavahaar mein parivartan la sakata hai. yadi samay rahate is samasya ko pahachaana aur upachaar nahin kiya gaya, to yah gambheer roop le sakata hai, jisamen aatmahatya aur talaak jaisee samasyaen shaamil ho sakatee hain. do. kumaar ne is baat par bhee jor diya ki maanasik rogon ke upachaar mein visheshagyon kee kamee aur jaagarookata kee kamee mukhy rukaavat hai. samaaj mein maanasik rogon kee pahachaan aur upachaar ko lekar bahut se mithak aur stigma vyaapt hain, jisase log chikitsakeey sahaayata nahin le paate. haalaanki, raashtreey maanasik svaasthy kaaryakram ke antargat chikitsakon, graameen chikitsa sahaayakon aur saamudaayik svaasthy adhikaariyon ko maanasik rogon kee pahachaan aur upachaar ke lie prashikshit kiya ja raha hai. kabeeradhaam jile ke jila chikitsaalay mein sparsh klinik kaksh kramaank 21 mein sabhee prakaar ke maanasik rogon kee pahachaan aur upachaar kiya ja raha hai. aatmahatya rokathaam aur nashaamukti sambandhee salaah aur upachaar bhee pradaan kie jaate hain. kisee bhee prakaar ke maanasik rog ya lat kee samasya ke pahachaan aur upachaar ke lie yahaan sampark kiya ja sakata hai. yah aavashyak hai ki samaaj is badhatee samasya ko gambheerata se le aur samay rahate isake nidaan ke lie prayaas kare. jaagarookata aur uchit chikitsakeey sahaayata se lat jaisee gambheer samasya ka samaadhaan sambhav hai.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News