गोपाष्टमी पर्व पर नन्ही-सी बच्चीं दिव्या और नव्या ने गौ सेवा करके की बड़ा-सा काम kam Aaj Tak 24 news

 

गोपाष्टमी पर्व पर नन्ही-सी बच्चीं दिव्या और नव्या ने गौ सेवा करके की बड़ा-सा काम kam Aaj Tak 24 news 

चांपा - अपनी अनूठी सभ्यता संस्कृति और कला के कारण भारतवर्ष संपूर्ण देश में विशिष्ट पहचान रखता हैं । इसमें कोई दोराय नहीं हैं कि संस्कृति का अनोखापन अपनी विशिष्ट पारंपरिक धरोहर और मान्यताओं के कारण भी हैं । गौ पालन की परंपरा भी इन्हीं में से एक हैं । गौ माता ही एकमात्र जैसा प्राणी हैं जिसका सर्वाग अंग  उपयोगी हैं। वह हमें दूध दही शुद्ध घी पनीर मक्खन और अमृतोपम स्वास्थ्यप्रद वस्तुएं प्रदान करती हैं । उसका चमड़ा , उसकी सींग , उसकी हड्डी  यानी कि सब कुछ किसी ना किसी रुप में हमारे लिए बहुपयोगी हैं । गौ माता निश्चय ही प्रेम और स्तुति के परम योग्य हैं । गौ-माता की सेवा केशरवानी महिला मंडल की अध्यक्षा श्रीमति शांता गुप्ता और उनकी जुड़वां बिटियां दिव्या और नव्या प्रतिदिन करती हैं । स्वच्छ और ताजे दूध का सेवन ही नहीं करती बल्कि गाय के गोबर से अपने घर को लीपती भी हैं । इसका कारण गाय का गोबर रोगाणुनाशक हैं ।आज गोपाष्टमी के पर्व पर जगन्नाथ मंदिर बड़े मठ पहुंचकर गौ-माता की पूजा-अर्चना की और लोगों को गौ माता की रक्षा हेतु घर-घर गौ पालन की बातें कही । शशिभूषण सोनी ने कहा कि गाय में सभी देवी-देवताओं का वास हैं ।  हमारे धर्म और शास्त्रों में गाय को जगत की माता की संज्ञा दी गई हैं । हर घर में गाय की पूजा-अर्चना  होनी चाहिए । जिस घर में गाय की पूजा नहीं होती , वह घर लक्ष्मी विहीन हो जाता हैं । श्रीमति शांता गुप्ता और उनकी नन्ही सी बच्चीं दिव्या ने अपने रेल्वे स्टेशन रोड चांपा  स्थित आवास पर रंगीली बनाकर व दीप प्रज्जवलित कर गाय के सम्मान में पूजा-अर्चना की और रक्षा के लिए संकल्पना की । गाय की रक्षा करना , पालन-पोषण और खाद्य सामग्री देना अपनी संस्कृति का अंग हैं । गाय वास्तव में मोक्ष दायिनी गंगा के समान हैं , यह सभी पापों  और तापों से हमें छुटकारा दिलाती हैं ।

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

सरपंचों के आन्दोलन के बीच मंत्री प्रहलाद पटेल की बड़ी घोषणा, हर पंचायत में होगा सामुदायिक और पंचायत भवन bhawan Aajtak24 News