कोई भी नागरिक अपने अधिकारों से वंचित न रहे - जिला न्यायाधीश श्री श्रीवास्तव | Koi bhi nagrik apne adhikaro se vanchit na rhe

कोई भी नागरिक अपने अधिकारों से वंचित न रहे - जिला न्यायाधीश श्री श्रीवास्तव

जिला मुख्यालय पर विधिक साक्षरता एवं जनजागरूकता शिविर एवं रैली सम्पन्न

कोई भी नागरिक अपने अधिकारों से वंचित न रहे - जिला न्यायाधीश श्री श्रीवास्तव

शाजापुर (मनोज हांडे) - कोई भी नागरिक अपने अधिकारों से वंचित नहीं रहें। यह बात आज जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव ने जिला मुख्यालय के शासकीय उत्कृष्ट उमावि मे संपन्न हुए विधिक साक्षरता एवं जनजागरूकता शिविर में कही। इस मौके पर जनजागरूकता के लिए रैली भी निकाली गई। शिविर में अतिथि के रूप में कलेक्टर श्री दिनेश जैन, पुलिस अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव एवं अपर जिला न्यायाधीश श्री राजेन्द्र देवड़ा, श्री अम्बाराम कराड़ा तथा अभिभाषक संघ उपाध्यक्ष श्री करण सिंह गुर्जर भी उपस्थित थे।


      इस मौके पर जिला न्यायाधीश श्री श्रीवास्तव ने संबोधित करते हुए कहा कि अशिक्षा के कारण कुछ लोगों को कानून की जानकारी नहीं होने से उन्हे कानून का लाभ नहीं मिल पाता है। उन्हौनें कहा कि हरेक व्यक्ति को न्याय मिले व वह अपने अधिकारों से वंचित नही रहे इसलिए विधिक सेवा प्राधिकरण का गठन किया गया है। विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से जिन्हे कानूनी सहायता की आवश्यकता होती है, उन्हे सहायता उपलब्ध कराई जाती है। विधिक जागरूकता के लिए दूर-दराज के ग्रामों में जागरूकता शिविरों का आयोजन कर लोगों को कानून एवं उनके अधिकारों की जानकारी दी जाती है। उन्होंने कहा कि सभी व्यक्ति अपने कर्त्तव्यों का भी पालन करें। कर्त्तव्यों का पालन करने से अधिकार अपने आप प्राप्त होने लगते है। सभी व्यक्ति पर्यावरण को स्वच्छ रखने और उसे बचाने के लिए अपनी जवाबदारी का निर्वहन करें।


      इस अवसर पर कलेक्टर श्री जैन ने संबोधित करते हुए कहां कि भारत में संविधान सर्वोपरी है। बिना किसी भेदभाव के सबकों समान रूप से न्याय प्राप्त हो इसकी व्यवस्था संविधान द्वारा की गई है। कानून सबके लिए समान है। न्यायपालिका के प्रति सम्मान किसी भी देश की सफलता के लिए जरूरी है। नागरिकों को कानून की जानकारी देने के लिए जागरूकता शिविर आयोजित हो रहे है, इसका उद्देश्य समाज के अंतिम व्यक्ति को भी विधि की जानकारी हो। उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय को समझना भी आवश्यक है। पुलिस अधीक्षक श्री श्रीवास्तव ने संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी  के  सत्य और अहिंसा के सिद्धांत आज भी दुनिया में प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि आमतौर पर लोग कानून की व्याख्या अपने अनुसार करना चाहते है, जबकि कानून क्या कहता है इस बारे में नहीं सोचते। उन्होंने कहा कि सभी लोगों को कानून की जानकारी होना चाहिए। कानून का लाभ जरूतमंद को मिलना चाहिए। अतिथि के रूप में उपस्थित श्री अम्बाराम कराड़ा ने संबोधित करते हुए कहा कि भारत की सांस्कृतिक धरोहर की दुनिया में अपनी पहचान है। गांधी जयंती के अवसर पर उन्होंने कहा कि हमे भौतिक अस्वच्छता को समाप्त करने के साथ ही मानसिक अस्वच्छता को दूर करना चाहिए। हमारे देश को विश्व का सर्वोत्तम संविधान मिला है। हमारे संविधान के अनुसार न्याय प्रक्रिया को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। उन्होंने पर्यावरण संरक्षण के बारे में कहा कि पर्यावरण बचाने में सरकार का ही नहीं हम सब भी समान दायित्व है। सभी लोग अपने दायित्वों का ईमानदारी के साथ निर्वहन करें। उन्होंने कहा कि हमारे देश में प्रकृति की पूजा की जाती है। सभी लोग प्रधानमंत्री जी के स्वच्छ भारत के संकल्प को पूरा करने में सहभागी बने।   इसके पूर्व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव एवं अपर जिला न्यायाधीश श्री राजेन्द्र देवड़ा ने स्वागत उद्बोधन देते हुए शिविर के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला।


      इसके पूर्व समारोह का शुभारंभ अतिथियों ने माँ सरस्वती एवं महात्मा गांधी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित कर किया। इस मौके पर अतिरिक्त न्यायाधीश कु़. जसवीर कौर सासन, अतिरिक्त न्यायाधीश एवं सेशन जज श्री मनोज कुमार शर्मा, श्री प्रवीण शिवहरे, श्री बृजेश गोयल, सुश्री उर्वसी यादव, श्री अनिल कुमार नामदेव, सिविल जज श्री आशीष परसाई, श्रीमती शर्मिला बिलावर, सुश्री हर्षिता सिंगार, श्रीमती प्रिंसी अग्रवाल, श्री नीरज अग्रवाल एवं सुश्री रूपम तोमर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री  पीएस बघेल, अनुविभागीय अधिकारी श्रीमती शैली कनाश, एसडीओपी श्रीमती दीपा डोडवे, तहसीलदार श्री राजाराम करजरे, नगर पालिका सीएमओ श्री भूपेन्द्र दीक्षित, महिला एवं बाल विकास सहायक संचालक सुश्री नीलम चौहान सहित अधिवक्ता गण एवं आमजन भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक श्री हेमन्त दुबे ने किया और उपस्थित अतिथियों के प्रति विद्यालय की प्राचार्य सुश्री विजया सक्सेना ने आभार व्यक्त किया।

---------

नशा नहीं करने की शपथ

---------

      इस अवसर पर जिला न्यायाधीश श्री सुरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव ने उपस्थित सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों को नशा नही करने की शपथ दिलवाई। सभी ने दाहिना हाथ आगे कर जीवन में कभी नशा नहीं करने और इस पुनीत संकल्प को समाज के समस्त क्षेत्रों में प्रसारित करने, इस सामाजिक बुराई को जड़ से उन्मुलन करने के लिए हर संभव प्रयास करने की शपथ ली।

--------

हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया

--------

      लोगों में विधिक साक्षरता के प्रति जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से शिविर के उपरान्त रैली भी निकाली गई। रैली को जिला न्यायाधीश श्री सुरेन्द्र कुमार श्रीवास्तव, कलेक्टर श्री दिनेश जैन, पुलिस अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव एवं श्री अम्बाराम कराड़ा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली पोस्टआफिस, नाग-नागिन सड़क, हरायपुरा होते हुए विद्यालय परिसर में समाप्त हुई।

Post a Comment

0 Comments