आजादी के अमृत महोत्सव के शुभारंम अवसर पर प्रभात फेरी एवं विभिन्न स्थानों पर शिविरों का आयोजन | Azadi ke amrit mahotsav ke shubharambh avsar pr prabhat feri

आजादी के अमृत महोत्सव के शुभारंम अवसर पर प्रभात फेरी एवं विभिन्न स्थानों पर शिविरों का आयोजन

आजादी के अमृत महोत्सव के शुभारंम अवसर पर प्रभात फेरी एवं विभिन्न स्थानों पर शिविरों का आयोजन

उज्जैन (रोशन पंकज) - उज्जैन व्यक्तियों के अधिकारों से संबंधित कानुन जन-जन तक पहुचानें की आवश्यकता पर बल और सफाईकर्मी समाज का महत्वपूर्ण अंग"' श्री एनं पी. सिहं प्रधान जिला एव उज्जैन राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपूर के निर्देशानुसार माननीय प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एन.पी.सिंह महोदय के मार्गदर्शन में जिला विधिक सेव प्राधिकरण उज्जैन एवं विभिन्न तहसीलों में "आजादी के अमृत महोत्सव" के दि.02.10.21 से 14.11.21 के शुभारंभ अवसर पर आज दि.02.10.21 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जन्म जयंती के अवसर पर प्रभात फेरियों एवं विभिन्न स्थानों  पर शिविरों का आयोजन किया गया।

उक्त तारतम्य में तहसील विधिक सेवा समिति तराना, बडनगर, महिदपूर, नागदा,रवाचरौद में प्रभात फेरियों का आयोजन प्रातः काल न्यायालय परिसर से प्रारंभ कर विभिन्न स्थानों से होते हुए ये विधिक जागरूक्ता के संदेशों के साथ समापन स्थल तक पहंची जिसमें न्यायालय के न्यायाधीशगण न्यायिक कर्मचारियों, अभिभाषकगण, राजस्व विभाग, पुलिस विभाग अभियोजन अधिकारी, छात्र-छात्राएं, पैनल लॉयर, पैरालीगल वालेटियर सहित लगभग 2000 आमजनों ने इन प्रभात फेरीयों में भाग लिया।।


तत्पश्चात जिला मुख्यालय उज्जैन में होटल ग्रांड  पैलेस में विधिक जागरुकता शिविर का आयोजन किया गया जिसका शुभारंभ माननीय अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण 

श्री एन.पी.सिंह एवं श्री अशुंल गुप्ता, आयुक्त द्वारा राष्ट्पिता महात्मा गांधी

के चित्र पर पुष्प अर्पित एंव दीप प्रज्जवलन कर किया गया। इस अवसर पर माननीय प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री एन.पी.सिंह के द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव एवं विधिक सेवा प्राधिकरण की योजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि व्यक्तियों के अधिकारों से संबंधित कानुन जन-जन तक पहुचानें की आवश्यकता पर बल दिया गया और सफाईकर्मीयों को समाज का महत्वपूर्ण अंग बताया गया। आयुक्त नगर निगम श्री अंशुल गुप्ता के द्वारा बताया गया कि सफाई कर्मचारियों को प्रतीक चिन्ह एवं प्रमाण-पत्र देकर सम्मान करना ही पर्याप्त नहीं है, बल्कि आमजनता को इनके प्रति अच्छा व्यवहार रखते हुए शहर को स्वच्छ रखने में उनका सहयोग

करने का आ्हान किया। 

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, सचिव/ न्यायाधीश, श्री अरविंद कुमार जैन द्वारा एवं विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी दी गई। उक्त कार्यक्रम में श्री संदेश गृप्ता, उपायुक्त, अपर आयुक्त मनोज पाठक ,जोनल अधिकारी श्री मनोज राजानी, अधिकारी डीएस परिहार, उपयंत्री मुकुल मेश्राम, जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री दिलीप सिंह मुझाल्दा सहित नगर निगम के लगभग 300 कर्मचारी उपस्थित रहे। 

कार्यकम के अंत में सफाई कर्मचारियों के द्वारा सराहनीय प्रयासों के लिए प्रशास्ति पत्र एवं प्रमाण पत्र प्रदान किये गये। इसके साथ ही साथी स्व-सहायता समूहों द्वारा प्रदर्शिनी का आयोजन किया गया,जिसमें प्लावर

रीसाइकलिंग, प्लांट क्लॉथ एवं पेपर रीसाइकलिंग ईकाई, आयुष कंपनी, कपडा सिलाई, चित्रकला एवं अन्य विभागों की प्रदर्शनी लगाई गई।

इसके साथ ही इंद्रा नगर में सामुदायिक मध्यस्थता केन्द्र का शुभारंभ माननीय प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश /अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एन.पी.सिंह के निर्देशन में जिला न्यायाधीश श्री अरविंद कुमार जैन के द्वारा किया गया। इस अवसर पर श्री जैन के द्वारा मध्यस्थता प्रकिया, घरेलू हिंसा, कन्या भुप्र हत्या, मादक पदार्थ एवं उसके दुष्प्रभावों के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। 

उक्तकार्यकम में प्रशिक्षित मध्यस्थ श्रीमती उषा पंवार, वार्ड पार्षद श्रीमती निशा, जिलाविधिक सहायता अधिकारी श्री दिलीप सिंह मुझाल्दा सहित काफी संख्या में मोहल्ले की महिलाएं एवं पूरूष उपस्थित रहे।

इस अवसर पर ग्राम केसरिया तह. खाचरौद में वहद विधिक जागरुकता

शिविर का आयोजन श्री आलोक कुमार सक्सेना, जिला न्यायाधीश / अध्यक्ष द्वारा किया गया। 

उक्त शिविर में शासन के समस्त विभागों के स्टॉल लगा कर विभागों से संबंधित योजनाओं की जानकारी आमजनों तक पहुंचाई गई ।

उक्त शिविर में लगभग 300 व्यक्ति उपस्थित रहें जिन्हें योजनाओं का लाभ पहुचाया गया एव 08 व्यक्तियों को मौके पर ही नामांतरण प्रमाण-पत्र दिए गए।

Post a Comment

0 Comments