अनूठा सावन सोमवार, परिजनों की स्मृति में प्रकृति का श्रृंगार करने एक साथ उठे सेकड़ो हाथ | Anutha sawan somwar par8jano ki smrati main prakrati ka shrangar karne ek sath uthe sekdo hath

अनूठा सावन सोमवार, परिजनों की स्मृति में प्रकृति का श्रृंगार करने एक साथ उठे सेकड़ो हाथ

ग्रामीणों ने किया सामूहिक पौधरोपण, बेलपत्र  सहित निम, पीपल, बरगद, मौलश्री अनेक धार्मिक महत्त्व के पौधे रोपे

नगर में पहली बार निकला पौधों का चल समारोह

अनूठा सावन सोमवार, परिजनों की स्मृति में प्रकृति का श्रृंगार करने एक साथ उठे सेकड़ो हाथ

सादलपुर (अनिल परमार) - नगर स्थित मुक्तिधाम पहुँच मार्ग के दोनों और स्मृति वन विकसित करने के उद्देश्य को लेकर अपने परिजनों की स्मृति को बनाये रखने के लिए भगवान शिव के प्रिय पवित्र सावन माह का पहला सोमवार नगर में कुछ अलग ढंग से मनाया गया। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कदम बढ़ाते हुए इस दिन यहा प्रकृति का श्रृंगार करने एक साथ सेकड़ो हाथ उठे जिन्होंने बड़े भाव से सामूहिक पौधा रोपण कर सेकड़ो पौधे लगाए व इन्हें विकसित करने का संकल्प भी लिया। भगवान शिव के प्रिय बेलपत्र  व निम, पीपल, बरगद, मौलश्री,सप्तपर्णी,कदम,बॉटल ब्रश  सहित अनेक धार्मिक महत्त्व के पौधे रोपे गए। पौधा रोपण का यह कार्यक्रम अपने आप विशिष्ट था क्योंकि इस तरह का पौधा रोपण पहले कभी भी नही हुआ था स्मृति वन सेवा संस्था के बैनर तले आयोजित इस वृहद पौधा रोपण अभियान के लिए विशेष तैयारिया की गई थी वही नगर में पौधों का चलसमारोह भी निकाला गया।

बैंड बाजो के साथ पौधों का निकला चल समारोह

पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने व पेड़ पौधे मानव जीवन मे कितने महत्वपूर्ण है इसका संदेश देने के लिए नगर में पहली बार बैंड बाजो के साथ पौधों का चल समारोह निकाला गया जिसमें ग्रामीण अपने हाथों में पौधा लिए चल रहे थे  बड़ी संख्या में मात्र शक्ति भी इस कार्यक्रम में सम्मलित हुई नगर के प्रमुख मार्ग से होते हुए पौधों का यह चल समारोह पौधा रोपण स्थल पर पहुँचा पौधों का चल समारोह देख कई लोग अचंभित दिखे। इससे पहले नगर के संकट मोचन हनुमान मंदिर पर पौधों का पूजन किया गया जिसमे विद्वान पंडितों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजन सम्पन्न करवाया  व लगाए जाने वाले पौधों की देखभाल करने व इन्हें पौधे से पेड़ बनाने तक इनकी देख रेख करने का संकल्प भी ग्राम वासियो ने लिया।

स्मृति वन से मुक्तिधाम पहुँच मार्ग की बदलेगी सूरत

स्मृति वन सेवा संस्था के संयोजक लोकेन्द्रसिंह चौहान ने बताया कि नगर स्थित मुक्तिधाम पहुँच मार्ग फोरलेन सड़क से करीब 800 फिट अंदर है जिसमे सड़क के दोनों और छाव नही है वही कोरोना काल मे आई आक्सीजन की कमी व बिगड़ते पर्यावर को सुधारने की चिंता ने युवाओ को यहा स्मृति वन विकसित करने की प्रेरणा जगी जिसके बाद नगर के युवाओ ने ग्रामीणों को अपने परिजनों की स्मृति में पौधा रोपण करने के लिए लोगो को प्रेरित किया जिसके बाद कई ग्रामीण साथ आए और एक साथ सैकड़ो पौधे रोपे गए। इनके विकसित होने से मुक्तिधाम पहुँच मार्ग में छाव तो होगी ही पर्यावरण भी सुधरेगा और जिन परिजनों की स्मृति में पौधे लगाए है उनकी यादें भी बनी रहेगी।

देश भर में साईकिल यात्रा कर पौधा रोपण कर चुके पिरागसिंह डावर का किया सम्मान

पौधा रोपण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पिरागसिंह डावर थे विशेष अतिथि के रूप में मालवा प्रांत गौसेवा प्रमुख रामगोपाल वर्मा थे। इस अवसर पर स्मृति वन सेवा संस्था द्वारा पौधा रोपण कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए सन 2002 से सतत पौधा रोपण में लगे व देश भर में साईकिल यात्रा कर 10 हजार से भी अधिक पौधे लगा चुके सच्चे प्रकति प्रेमी व कर्मयोगी पिरागसिंह डावर इस कार्यक्रम के मुख्यातिथि थे। स्मृतिवन सेवा संस्था द्वारा श्री डावर का प्रकृति की अविस्मरणीय सेवा करने के लिए शाल श्री फल के साथ ही कर्मयोगी सम्मान 2021 से सम्मानित भी किया गया।

Post a Comment

0 Comments