महंगाई पर अंकुष लगाने मे केंद्र सरकार पुरी तरह से विफल-श्री पटेल | Mahangai pr ankush lagane main kendr sarkar puri tarha se vifal

महंगाई पर अंकुष लगाने मे केंद्र सरकार पुरी तरह से विफल-श्री पटेल

बढती हुई महंगाई के विरोध मे कांग्रेस ने पुतला दहन किया

महंगाई पर अंकुष लगाने मे केंद्र सरकार पुरी तरह से विफल-श्री पटेल

आलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - केंद्र की मोदी सरकार के राज मे इन दिनो देश की अर्थव्यवस्था वेंटिलेटर पर हे, रोजगार सृजन कोमा मे हे, ना नोकरी है ना रोजगार ओर विभिन्न क्षैत्रो मे निजीकरण तथा बढती हुई महंगाई ने यह साबित कर दिया हे कि भाजपा की केंद्र सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था का दिवाला निकाल दिया हे। पेट्रौल-डिजल ओर रसोई गैस के दामो मे बेतहाषा बढोतरी को लेकर देषभर मे चारो तरफ हाहांकार मचा हुआ है, कंेद्र सरकार महंगाई रोकने को लेकर पुरी तरह से विफल रही है, बढती हुई महंगाई ने आमजनो की कमर तोड दी है। फिर भी केद्र सरकार आमजनो को कोई राहत नही प्रदान कर रही है। जिसको लेकर देषवासियो मे व्यापक आका्रेष नजर आ रहा है। उक्त बाते जिला कांग्रेस अध्यक्ष महेष पटेल ने मंगलवार को जिला कांग्रेस कार्यालय चैराहे पर महंगाई के विरोध मे महंगाई का पुतला दहन करते हुए कही। इस अवसर पर पुर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष राधेष्याम माहेष्वरी सहित बडी संख्या मे कांग्रेसी नेता एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

*नारैबाजी कर मंहगाई का किया विरोध* 

जिला कांग्रेस मिडिया प्रभारी रफीक कुरैषी ने बताया कि मप्र कांग्रेस कमेटी के निर्देषानुसार पर जिला कांग्रेस द्धारा देष मे पेट्रौल-डिजल, खादय तेल ओर रसोई गैस सिलेंडर एवं बढती महंगाई के विरोधस्वरुप कांग्रेसी नेता एवं युवा कार्यकर्ता जिला कांग्रेस कार्यालय पर जमा हुए। जहां जिकां अध्यक्ष महेष पटेल के नेत्रत्व मे नारैबाजी करते हुए महंगाई रुपी पुतले का दहन किया गया। इस दोरान कांग्रेसी नेता राधेष्याम माहेष्वरी ने कहा कि देष मे महंगाई सिर चढकर बोल रही है, आवष्यक वस्तुओ के बढते दामो ने लोगो का बजट गडबडा दिया है, महंगाई के इस दौर मे लोगो का जिना दुर्लभ हो गया है। सरकार को महंगाई से कोई लेना देना नही है। इस अवसर पर कांग्रेसी नेता जहिर मुगल, दिलीप पटेल, तरुण मंडलोई, सोनु वर्मा, पुष्पराज पटेल, मंसुर मंर्चेट, प्रबोध भाटी, चितल पंवार, पिंटु सेन, संजय माहेष्वरी, ईरफान मंसुरी, अंकित माहेष्वरी सहित बडी संख्या मे कार्यकर्ता मोजुद थे। 

Post a Comment

0 Comments