भीमा कोरेगांव का शौर्य दिवस मनाया गया | Bheema koreganv ka shorya divas manaya gaya

भीमा कोरेगांव का शौर्य दिवस मनाया गया

भीमा कोरेगांव का शौर्य दिवस मनाया गया

छिंदवाड़ा (शुभम सहारे) - जय भीम सामाजिक संगठन भारत एकता मिशन सामाजिक एवं गैर राजनीतिक संगठन जिला छिंदवाड़ा के द्वारा 1 जनवरी 2001 के दिन शुक्रवार को अंबेडकर परासिया रोड पर भीमा कोरेगांव का शौर्य दिवस मनाया गया जिस में  जय भीम सामाजिक संगठन के जिलाध्यक्ष श्रीमान शिवम पहाड़े जी ने बताया कि भीमा कोरेगांव शौर्य दिवस का इतिहास,भीमा कोरेगांव पेशवाओं के नेतृत्व वाले मराठा साम्राज्य और ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच हुए युद्ध के लिए जाना जाता है. 1 जनवरी 2021 को इस युद्ध की 203 वीं सालगिरह मनाई गई है. यहां मराठा सैनिकों और ईस्ट इंडिया कंपनी के सैनिकों के बीच जंग हुई है. ईस्ट इंडिया कंपनी ने इस युद्ध को महार रेजीमेंट के सैनिकों की बहादुरी की वजह से जीता बाद में बाबासाहेब आंबेडकर यहां हर साल आते रहे. यह जगह पेशवाओं पर महारों यानी दलितों की जीत के एक स्मारक के तौर पर स्थापित हो गई. यहां हर साल उत्सव मनाया जाने लगा.  

भीमा कोरेगांव का शौर्य दिवस मनाया गया

भीमा कोरेगांव के महार रेजीमेंट के वीर  शहीद हुए हैं आज ही के दिन मात्र 500 माहारो ने 28000 पेशवा को पराजित करके इतिहास रचा था उनकी याद में आज उनको विनम्र श्रद्धांजलि एवं बाबा साहब के लिए समस्त बहुजन समाज जिसमें मुख्य रूप से जिलाध्यक्ष श्रीमान शिवम पहाड़े जी , श्रीमान रामचंद्र भालेराव,  चंचलेश इंदौरकर , राहुल डेहरिया, नितिन  डेहरिया,पारस वंशकार,सागर परतेती, ज्ञानेंद्र इन्दौरकर , संजय डेहरिया,सोनू पाटिल दीपक पहाड़े,नईम मंसूरी, रामचंद्र भालेराव,मनोज सोनटके ,राज भालेराव, सुनील गजभिए , संदीप उईके, रामभरोस पहाड़े,  ,पप्पू गोनेकर, विक्की डेहरिया, गोलू पटेल,राकेश कावड़े,परवेज खान,बबलू भाई, सभी बुद्धिजीवी सामाजिक संगठन के कार्यकर्ता उपस्थित हुए थे।



Post a Comment

0 Comments