बैलगाड़ी पर सवार होकर किसान पहुंचे एसडीएम कार्यालय | Bellgadi pr savar hokar kisan pahuche sdm karyalay

बैलगाड़ी पर सवार होकर किसान पहुंचे एसडीएम कार्यालय

बैलगाड़ी पर सवार होकर किसान पहुंचे एसडीएम कार्यालय

सौसंर/मोहगांव (गयाप्रसाद सोनी) - आज दिनांक 12 जनवरी 2021 को मोहगांव जलाशय पीड़ित  किसानों के द्वारा प्रतिदिन की तरह धरना स्थल पर पहुंचकर एक घंटा धरना प्रदर्शन किया एवं सुबह 10:00 बजे धरना स्थल से तहसील मुख्यालय सौसर की ओर प्रस्थान किए किसान बैलगाड़ी एवं पैदल धरना स्थल से निकले शासन प्रशासन के द्वारा किसानों को मोहगांव एवं  भुम्मा के बीच में रोक लिया गया जिसमें स्वयं तहसीलदार सौंसर अजय भूषण शुक्ला किसानों के बीच में उपस्थित हुए एवं किसानों से आग्रह किया गया कि वह बैलगाड़ी एवं पैदल मार्च कर तहसील मुख्यालय ना पहुंचे करीबन आधा घंटा  रोड पर किसानों के बीच एवं तहसीलदार महोदय के बीच संवाद हुआ इसी बीच किसानों की एवं तहसीलदार महोदय की राय बनी कि मोहगांव के पास श्री आनंद महेश्वरी जी के खेत में किसानों को रोका जाए एवं एसडीएम महोदय सौसर पीड़ित किसानों से मिलने आनंद महेश्वरी के खेत में पहुंचे पीड़ित किसान सुदामा मानमोडे, द्वारा पीड़ित किसानों की मांग बिंदुवार एसडीएम महोदय को बताई गई किसानों की मांगों को सुनने के बाद एसडीएम महोदय ने किसानों को अस्वस्थ किया की उनके साथ हुई अनियमितता के लिए उच्चाधिकारियों से बात कर समस्या का निराकरण करने के लिए 15 दिन का समय मांगा इस बीच पीड़ित किसानों की मांगों का उचित समाधान कर एक जांच समिति का गठन किया जाएगा जो जिले लेवल की होगी एवं जांच समिति पुनः स्थल निरीक्षण कर किसानों की जो भी समस्या है उसका समाधान करेगी एसडीएम महोदय के द्वारा जानकारी दी गई की अगर अवार्ड पारित में त्रुटियां हुई है तो उसको सुधारने के लिए दूसरा अवार्ड पारित किया जा सकता है एवं उन त्रुटियों को सुधारा जा सकता है इसके बाद पीड़ित किसानों ने अपनी मांगों को जायज ठहराते हुए और उनके साथ हुई अनियमितता की एक-एक कर एसडीएम महोदय को जानकारी दी एसडीएम महोदय के द्वारा भी पीड़ित किसानों की सारी चीजों को चुना गया और उन सारी समस्याओं का समाधान समय रहते करने का आश्वासन दिया पीड़ित किसान पिछले 6 वर्षों से शासन प्रशासन के चक्कर काट रहे लेकिन आज दिनांक तक किसी प्रकार का कोई निराकरण नहीं होने के कारण आज भी पीड़ित हैं आज जब एसडीएम महोदय के द्वारा उन्हें आश्वासन दिया गया तो पीड़ित किसानों ने उनका तालियों से अभिनंदन किया एवं तहसीलदार महोदय के द्वारा भी किसानों को समझाइश दी गई एवं किसानों ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों की बातों को माना प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा पांढुर्णा इंटेक वेल का कार्य चालू करने का आग्रह किया लेकिन किसान अपनी बात पर अड़े रहे उनका कहना है की जब तक हमारी मांगों का उचित निराकरण नहीं होता तब तक किसी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं होने देंगे एवं अपना धरना प्रदर्शन जारी रखेंगे निर्माण स्थल पर किसानों ने अपनी मुख्य मांगे नए भू अर्जन अधिनियम 2013 14 की गाइडलाइन एवं परिसंपत्ति विस्थापन स्टांप शुल्क में छूट एवं भूमा से मुंगनापर रोड निर्माण की बात कहीं जो उनके ज्ञापन में भी लिखी है इन सारे बिंदुओं पर एसडीएम महोदय के द्वारा गंभीरता से लिए गए एवं किसानों की बात को गंभीरता से सुनी गई और इस पूरे मसले को 15 दिन के अंदर समझने के बाद कमेटी का गठन किया जाएगा और किसानों को अवगत कराया जाएगा पीड़ित किसान हजारों की संख्या में अपने पूरे परिवार के साथ एवं अपने बलों के साथ यहां पर उपस्थित हुए पीड़ित किसानों के साथ उनके  बैलगाड़ी भी उपस्थित थे एवं पीड़ित किसान अपने परिवार के सभी सदस्य को लेकर उपस्थित होने के कारण किसानों की संख्या हजारों में थी पीड़ित किसानों के द्वारा एसडीएम महोदय से चर्चा होने के बाद श्री आनंद महेश्वरी जी के खेत में अपने साथ लाए गए भोजन से पीड़ित किसानों ने भोजन किया एवं वहां से वापस अपने गंतव्य की ओर निकल गए।

Post a Comment

0 Comments