1 दिन में 3 घंटे की जांच में क्लीन चिट कैसे सबके मन में एक सवाल | 1 din main 3 ghante ki janch main clean chit kese sabke man main ek sawal

1 दिन में 3 घंटे की जांच में क्लीन चिट कैसे सबके मन में एक सवाल


 पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में कोरोना वैक्सीन ट्रायल में मौत का मामला


 वालंटियर के परिजनों और अन्य वॉलिंटियर से समिति ने बात तक नहीं की 


आरोप और प्रत्यारोप का सिलसिला जारी


 दूसरा टीका लगवाने से कई वॉलिंटियर का इनकार


 डीन ने कहा वैक्सीन प्रोटोकॉल का हुआ पूरा पालन


 रचना ढींगरा के आरोप वालंटियर जूझ रहे कई समस्याओं से 

1 दिन में 3 घंटे की जांच में क्लीन चिट कैसे सबके मन में एक सवाल

भोपाल (संतोष जैन) - पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में चल रही कोवैक्सिंग टायल के दौरान वालंटियर दीपक मरावी की मौत के मामले में लीपापोती कर दी गई है मामले के तूल पकड़ने पर शासन ने शनिवार को जांच कमेटी बनाने के निर्देश दिए गांधी मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ अरुण कुमार ने हमीदिया अस्पताल के पूर्व अधीक्षक डॉ अरुण कुमार की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठित की समिति में छ डॉक्टरों ने पीपुल्स मै  क्लीनिकल ट्रायल दफ्तर में 3 घंटों में जांच पूरी कर ली के परिजनों तक से बात नहीं  की ट्रायल में मृतक दीपक की बेटे आकाश मरावी ने बताया कि शनिवार को तो बहुत सारे लोग आए थे उन्होंने मदद भी की और सांत्वना भी लेकिन रविवार को प्रशासन या पीपुल्स अस्पताल का कोई बंदा ना तो पूछने आया और ना कोई मदद मिली


 डीन ने कहा वैक्सीन प्रोटोकॉल का हुआ पूरा पालन पीपुल्स मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ अनिल दीक्षित ने कहा कि यह एक डबल ब्लाइंड ट्रायल है जिसमें आधे लोगों को वैक्सीन और आधे लोगों को प्लेसिबो लगाया जा रहा प्लेसिबो में दवा नहीं होती वालंटियर की सुरक्षा से ही उन्हें पूरे प्रोटोकाल का पालन करते हुए डोज दी गई है दीपक मरावी को पहला डोज लगाने के बाद रोज उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली जाती रही उन्होंने कभी कोई परेशानी नहीं बताई पीएम रिपोर्ट में भी सस्पेक्टेड रिजनिंग कारण बताया गया है


 दूसरा टीका लगवाने से कई वॉलिंटियर का इनकार


 वालंटियर दीपक मरावी की मौत के बाद ब्लंटईयर दूसरा डोस लेने से इंकार कर रहे हैं

Post a Comment

0 Comments