मानस सम्मेलन के माध्यम से बह रही ज्ञान गंगा में डुबकी लगा कर जीवन को कृतार्थ कर रहे जनमानस | Manas sammelan ke madhyam se bah rhi gyan ganga main dubki laga kr jivan

मानस सम्मेलन के माध्यम से बह रही ज्ञान गंगा में डुबकी लगा कर जीवन को कृतार्थ कर रहे जनमानस

मानस सम्मेलन के माध्यम से बह रही ज्ञान गंगा में डुबकी लगा कर जीवन को कृतार्थ कर रहे जनमानस

चाँद (राजेंद्र डेहरिया) - चांद से समीप गूमगांव में श्री राम चरित्र मानस के आयोजन लगातार 35 वर्षों से संयोजक सीताराम शरण रामायणी के अथक प्रयासों से अनवरत सम्पन्न होते आरहा है। इस वर्ष भी उत्तर प्रदेश से पाधारे पूज्य श्री अखिलेशमणी जी महाराज (देवरिया) जी एवं सुश्री श्री जयंती किशोरी जी सिहोर म.प्र. श्री अनिल जी चांद रानीखैरी (तबलावादक)  पूज्य श्री अखिलेश मणी जी ने राम कथा के माध्यम से बताया कि श्री राम जी मे ऋषि तत्व एवं श्री सीताजी में कृषि तत्व विद्मान है जो हमारे समाज व संस्कृति की धरोहर हैं जिसे बचाना हमारा कर्तव्य बनता है। इस तरह से प्रतिदिन भारी संख्या मे श्रोता जन  उपस्थित हो कर श्रीराम कथा का श्रवण कर धर्म लाभ उठा रहे है। 

मानस सम्मेलन के माध्यम से बह रही ज्ञान गंगा में डुबकी लगा कर जीवन को कृतार्थ कर रहे जनमानस


Post a Comment

0 Comments