बेमौसम बारिश से मौसम हुआ सुहावना, कहि रिमझिम तो कहि तेज बारिश, शादियों का माहौल चरमराया | Bemausam barish se miusam hua suhana

बेमौसम बारिश से मौसम हुआ सुहावना, कहि रिमझिम तो कहि तेज बारिश, शादियों का माहौल चरमराया

बेमौसम बारिश से मौसम हुआ सुहावना, कहि रिमझिम तो कहि तेज बारिश, शादियों का माहौल चरमराया

आलीराजपुर। (रफीक क़ुरैशी) - जिला मुख्यालय सहित आसपास के शहरो एवं ग्रामिण अंचलो मे गत गुरुवार देर रात्री को बेमौसम बारिश हुई, जो शुक्रवार को भी दिनभर अनवरत जारी रही। इस दौरान कभी रिमझिम तो कभी तेज बारिश का दौर चलता रहा। जारी बारिश से मौसम में ठंडक घुल गई और सडकें भी तरबतर हो गई। बेमौसम बारिश से लोग भी बदले-बदले से नजर आए। बारिश के चलते नगर और आसपास के शहरों में होने वाली शादियों की सम्पूर्ण व्यवस्थाए भी चरमरा गई। इधर मावठे की बारिश से किसानों को कुछ हद तक राहत मिली हे। किसानो को गेहुं-चने की फसलो का फायदा मिलने की उम्मीद जागी है। 

बेमौसम बारिश से मौसम हुआ सुहावना, कहि रिमझिम तो कहि तेज बारिश, शादियों का माहौल चरमराया

बारिश से लोगो की बदली दिनचर्या

नगर मे गत गुरुवार देर षाम तक तो मौसम साफ था, लेकिन रात्री को मौसम ने अचानक करवट बदली ओर रिमझिम फुहारो के बिच बारिष का दौर षुरु हो गया। षुक्रवार अलसुबह से कभी रिमझिम तो कभी तेज बारिष होती रही, यह क्रम दिनभर चलता रहा। वेसे इन दिनो जिलेभर मे ठंड का अहसास हो रहा है, मगर बेमौसम बारिष ने जिलेभर मे ओर ठंडक घोल दी। फलस्वरुप लोागो की दिनचर्या ही बदल गई। इस दौरान आमजन ठंडक से जुझते हुए दो-चार होते हुए नजर आए। वहि कुछ लोग तो अपने-अपने घरो मे दुबके रहै। बहरहाल जहां एक ओर जारी बारिष और ठंडक से लोगो को एक ओर गर्म उनी कपडे पहना पडे तो वहि दुसरी ओर उन्है बरसाती जाकेट का भी सहारा लेना पडा। षुक्रवार को रिमझिम और तेज बारिश के चलते जनजीवन प्रभावित नजर आया। वहि नगर मे षादी के सीजन के चलते शादीयां करने वाले परिजनो को भी बडी परेषानी उठानी पडी। जारी बारिष से उनकी शादी की सारी व्यवस्थाए प्रभावित हो गई। शादियां करने वालो का बारिष ने मजा ही किरकिरा कर दिया। बारिष के कारण पांडालो की आकर्षक सजावट भी अस्त-व्यस्त हो गई। इस दौरान लोगों को आवष्यक कार्य हेतु छाते और बरसाती का सहारा लेना पड़ा। वहि बारिष के चलते अधिकांष षासकिय कार्यालयो मे इसका असर देखा गया। कार्यालय भी सुने-सुने नजर आए ओर अधिकारी-कर्मचारी भी नदारद रहै। 

Post a Comment

0 Comments