खेतों में भर गया बारिश का पानी, धान की फसल भीगी | Kheto main bhar gaya barish ka pani

खेतों में भर गया बारिश का पानी, धान की फसल भीगी

खेतों में भर गया बारिश का पानी, धान की फसल भीगी

डिंडौरी (पप्पू पड़वार) - मौसम में परिवर्तन के चलते गुरुवार की रात जिले के कुछ क्षेत्रों में बारिश हुई। बारिश का क्रम शुक्रवार की सुबह भी जारी रहा। शुक्रवार की सुबह से आसमान में बादल छाए रहे। इसके बाद सुबह लगभग सवा 11 बजे से बूंदाबांदी शुरू हो गई, जो लगभग आधा घंटा तक जारी रही। गुरुवार की रात में हुई बारिश के चलते ग्रामीण क्षेत्रों में खेत खलिहान में रखी धान की फसल भीग गई। शुक्रवार की सुबह किसान खेतों में भीगी हुई फसलों को सहेजते नजर आए।

समनापुर क्षेत्र में हुई तेज बारिश

जिले के विकासखंड समनापुर क्षेत्र में गुरुवार की रात तेज बारिश हुई। विकासखंड क्षेत्र के कई गांव में बारिश का पानी खेत खलिहान में भर गया। ग्रामीणों द्वारा काटकर खेत में रखी गई धान की फसल भीग गई। छांटा, माधोपुर, राम्हेपुर, सिमरिया, बिछिया, मोहदा, सरई, क्विंटी, कुकर्रामठ, बुड़रुखी, खाम्हा, तितराही, कंचनपुर सहित अन्य गांव में बारिश के चलते खेतों में पानी भर गया। बारिश का पानी भर जाने से खेत में काटकर गहाई के लिए रखी किसानों की फसल भीग गई।

खेतों में भर गया बारिश का पानी, धान की फसल भीगी

नुकसान की बात कह रहे किसान

जनपद समनापुर के ग्राम छांटा निवासी महिला किसान फूलबाई वनवासी, पल्टू रजक सहित अन्य किसानों ने बताया कि बारिश से भीगी फसल के दाने खराब होने की संभावना बढ़ गई है। किसानों ने बताया कि रात लगभग 12 से दो बजे के बीच हुई बारिश से खेतों में पानी भर गया। शुक्रवार की सुबह किसाना फसल को सुखाते नजर आए। किसानों ने बताया कि जो फसल काटकर खलिहान में रखी गई थी वह भी गीली हो गई है। शुक्रवार को सुबह से आसमान में बादल छाने के चलते धूप भी कुछ देर के लिए निकली, जिससे फसल अच्छी तरह सूख नहीं पाई है।

खेतों में भर गया बारिश का पानी, धान की फसल भीगी

बारिश और बादलों से जनजीवन प्रभावि

पिछले लगभग एक सप्ताह से आसमान में बादल छाने से किसान चिंतित थे। गुरुवार की रात व शुक्रवार की सुबह हुई बारिश ने किसानों की चिंता और बढ़ा दी है। जिला मुख्यालय व इससे लगे आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों, विकासखंड समनापुर सहित अन्य क्षेत्र में बारिश होने से जनजीवन प्रभावित नजर आया। शुक्रवार की सुबह जिला मुख्यालय में बूंदाबांदी बंद होने के बाद दोपहर 12 बजे के बासपास हल्की धूप निकल आई। दो घंटे बाद एक बार फिर आसमान में बादल छाने से बारिश की संभावना बनी लेकिन बारिश नहीं हुई। शाम चार बजे के बाद बादल घने होने से अंधेरा सा छा गया।



ग्रामीण क्षेत्रों में गहाई का कार्य जारी


ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों धान की कटाई और गहाई का कार्य जारी है। जनपद समनापुर अंतर्गत ग्राम बहेरा टोला के किसाना लाल सिंह राठौर, बीचन परस्ते, हीरा सिंह सैयाम राम्हेपुर, लाल सिंह राठौर बेहरा टोला ने बताया कि उन्होंने फसल काटकर गहाई के लिए खलिहान में रखा थी, जो बारिश में भीग गई है। यदि आगे भी बारिश होती है तो धान में पीलापन आ जाएगा। बताया गया कि अधिकांश किसानों ने फसल काटकर खेत में ही सूखने के लिए रखी हुई थी। बारिश से फसल भीग गई। ऐसे में किसानों की परेशानी बढ़ गई है। किसानों की मानें तो आगे भी मौसम ऐसा ही रहता है तो धान की फसल को नुकसान हो सकता है।


इनका कहना है


बारिश से गीली हुई धान की फसल को किसानों को सुखाना पड़ेगा। यदि आगे भी मौसम ऐसा ही बना रहता है और बारिश होती है तो धान के रंग में कुछ असर पड़ सकता है। रबी की फसल के लिए यह बारिश लाभदायक है।


 पीडी सराठे

उपसंचालक कृषि डिंडौरी।

Post a Comment

0 Comments