दवाइयों की ना हो कालाबाजारी, प्रशासनिक अफसरों का दवा बाजार में छापा, स्टाक र्और बिक्री के रिकार्ड खंगाले | Davaiyo ki na ho kalabajari

दवाइयों की ना हो कालाबाजारी, प्रशासनिक अफसरों का दवा बाजार में छापा, स्टाक र्और बिक्री के रिकार्ड खंगाले


जबलपुर (संतोष जैन) - कोरोना से संक्रमित होने पर जो आवश्यक दवाइयां दी जा रही हैं उन की कालाबाजारी करने की शिकायतें मिल रही थी प्रशासनिक टीम ने शुक्रवार को शास्त्री ब्रिज के पास स्थित थोक बाजार व सिविक सेंटर दवा मार्केट में छापा मारा टीम ने छह से ज्यादा दुकानों का स्टॉक चेक किया और  हिदायत दी कि जो वास्तविक जरूरतमंद हैं उन्हें दवाइयां दी जाए टीमों का यह भी कहना रहा कि दवाएं देने से पहले उनके आधार कार्ड लिए जाए रिपोर्ट भी देखी जाए की पॉजिटिव है कि नहीं अगर किसी भी तरह की गड़बड़ी मिली तो कार्रवाई के लिए भी तैयार रहें  इसमें सुधार होना चाहिए टीम ने कहा कि रिकॉर्ड अपडेट रखें हर दिन  रिकॉर्ड चेक करेंगे इस दौरान एसडीएम आशीष पांडे एसडीएम मनेंद्र सिंह तहसीलदार प्रदीप मिश्रा खाद्य सुरक्षा व औषधि विभाग की सारिका दीक्षित मनीष धुर्वे व अन्य अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे

 निजी अस्पताल में भी पहुंची टीम 

दमोह नाका स्थित मेट्रो अस्पताल में भी जांच करने पहुंची यहां भी दवाइयों का स्टाफ सहित कोरोना पॉजिटिव के साथ ही अन्य मरीजों को मिल रहे इलाज के संबंध में जानकारी ली 

अफसरों के पहुंचते ही बोलती बंद अस्पताल में मरीज को लौटाए एक लाख


 कुछ निजी अस्पतालों के लिए कोविड-19 ने लूट का खसोट के रास्ते खोल दिए हैं चिकित्सा व्यवस्था डगमगाने से दूसरी बीमारियों के मरीजों को भी उपचार मिलना कठिन हो रहा है यही वजह है कि सीजीएचएस कार्ड होल्डर सुरेश कुमार वर्मा को आगा चौक स्थित मेडिसिटी हॉस्पिटल ने जैसे-तैसे भर्ती तो कर लिया लेकिन उनसे मोटी रकम वसूल कर ली अधिकारियों की टीम पहुंची अस्पताल प्रबंधन को पैसे लौटाने पड़े

Post a Comment

0 Comments