प्रशासन की तहसील कार्यालय स्थित बगीचे को लेकर उदासीनता बड़ी अनहोनी तथा दुर्घटना को दे रही आमंत्रण | Prashasan ki tahsil karyalay stith bagiche ko lekar udasinta badi anhoni

प्रशासन की तहसील कार्यालय स्थित बगीचे को लेकर उदासीनता बड़ी अनहोनी तथा दुर्घटना को दे रही आमंत्रण


प्रशासन की तहसील कार्यालय स्थित बगीचे को लेकर उदासीनता बड़ी अनहोनी तथा दुर्घटना को दे रही आमंत्रण

पेटलावद (संदीप बरबेटा):- पेटलावद तहसील कार्यालय के सामने स्थित अमर शहीद भूमि पर  पूर्व तत्कालीन एसडीएम  हर्ष जी पंचोली  की पहल पर समाजसेवी संस्थाओं तथा जन सहयोग से बच्चों के झुले, चकरी लगाकर इसे एक गार्डन के रूप में अस्तित्व में लाया गया था, जहां सुरक्षा की दृष्टि से बच्चें अपने पालकों के साथ घूमने तथा खेलने हेतु मोज मस्ती करने पहुंच रहे थे, किन्तु श्री पंचोली का स्थानांतरण होने के बाद इस बगीचें की और कोई ध्यान नहीं दिया गया जिसके चलते बगीचा अपने अस्तित्व को खोता नजर आ रहा है।


बारिश में उक्त बगीचें में बारिश का पानी भर जाता है तथा वर्तमान में बड़ी-बड़ी घास उग जाने से यहां पहुंचने वाले लोगो जिव जंतुओं का हमेशा भय बना रहता है। यह बगीचा वर्तमान में किसी पशु वाड़ा से कम नहीं नजर आ रहा है प्रतिदिन यहां पर बच्चों के साथ साथ  गाय,भैंस पशु  घूमते हुए नजर आते हैं,
सुरक्षा की दृष्टि से बच्चें भी अपने पालकों के साथ पहुंच तो रहे है किन्तु सफाई के अभाव में यह अपने अस्तित्व को खोता नजर आ रहा है। नगर का एक मात्र बगीचा होने से इस और ध्यान देने की आवश्यकता है, जिससे की नागरिक पल दो पल सुकन के यहां बिता सके और बच्चों का भी मनोरंजन होता रहे।

सुरक्षा की दृष्टि से रोड से लगी   टूटी हुई बाउंड्रीवाल दे रहीं हादसों को निमंत्रण…..

मुख्य मार्ग (तहसील कार्यालय)पर स्थित इस बगीचें की एक बाउड्रीवाल का हिस्सा मुख्य मार्ग से सटा हुआ है और बाउंड्रीवाल की हाईट काफी कम है, उक्त मार्ग से छोटे बडे सहित भारी वाहनों की दिनभर आवाजाहीं लगी रहती है, चुकि रोड़ की दुसरी और वाहनों के दबाव को रोकने के लिए किसी भी प्रकार की व्यवस्था नहीं है जिससे इस बगीचे की रोड़ से लगी बाउड्रीवाल क्षतिग्रस्त हो गई है जो कि कभी भी वाहनों के दबाव में टूट कर एक हादसें का कारण बन सकती है। इसके पूर्व भी एक ट्रक रोड़ धंसने से बगीचे की बाउंड्रीवाल तोड़कर अंदर पलटी खा गया था तब उक्त बगीचें का जिर्णोद्धार नहीं हुआ था और यहा किसी भी प्रकार की आवाजाहीं नही थी जिससे कोई जनहानी नहीं हुई चुकि अब बगीचा लोगो द्वारा उपयोग में लाया जा रहा है और सुबह शाम के वक्त यहां छोटे-छोटे बच्चें व उनके परिजन भी मोजुद रहते है। ऐसे में किसी अनियंत्रित वाहन या भारी वाहन से किसी दिन बड़ा हादसा संभव हो सकता है।

स्थानीय प्रशासन को मुख्य मार्ग से लगी बगीचे की बाउंड्रीवाल को न केवल दुरूस्त बल्की मजबुत भी करवाना होगा जिससे किसी भी प्रकार की अनहोनी को काफी हद तक रोका जा सके।

Post a Comment

0 Comments