मानव श्रंखला बनाकर नदी पार करने को मजबूर ग्रामीण | Manav shrinkhala banakar nadi par krne ko majbur gramin

मानव श्रंखला बनाकर नदी पार करने को मजबूर ग्रामीण

शासन प्रशासन सहित राजनेताओं की अनदेखी

मानव श्रंखला बनाकर नदी पार करने को मजबूर ग्रामीण

जुन्नारदेव (मनेश साहू) - लगातार ग्रामीणों द्वारा नदी पर पुल बनाये जाने की मांग को शासन प्रषासन द्वारा अनदेखा  किया जा रहा है ऐसे में अब ग्रामीण अपनी जान जोखिम में डालकर मानव श्रंखला बनाकर नदी पार करने को मजबूर है। उक्त मामला जुन्नारदेव विकासखंड अन्तर्गत ग्राम पंचायत बिचबेहरी के झालमउ से लगभग 05 किलोमीटर दूर स्थित ग्राम पिल्हावाड़ी से झालमऊ नदी का है जहां पर ग्रामीण लगातार नदी पर पुल और सड़क की मांग करते नजर आ रहे है किन्तु शासन प्रषासन और राजनेताओं के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है। इस नदी से लगभग आधा दर्जन से अधिक ग्रामों के ग्रामीण आवागमन करते है किन्तु पुलिया के अभाव में अब ये ग्रामीण अपनी जान जोखिम में डालकर नदी पार करने को विवष वर्तमान में लगातार बारिष का दौर जारी है और अपनी दैनिक आवष्यकताओं के लिए ग्रामीणों को अपनी जान जोखिम में डालकर नदी पार कर नगरीय क्षेत्र में आना पड़ रहा है, इस क्षेत्र में लगातार नदी पार करती हुई तस्वीरे सोषल मीडिया पर आने के बाद भी इनकी सुध न लेना प्रषासन की लापरवाही को उजागर कर रहा है। 

मानव श्रंखला बनाकर नदी पार करने को मजबूर ग्रामीण

यदि उफनती नदी पार करते समय कोई अनचाही दुर्घटना घटित होती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा इस पर सवालिया निषान लगे हुये है। नदी पर पुल और सड़क बनाने की मांग को लेकर ग्राम के ग्रामीण सर्पसिंग राजभोपा, बादल, उदल, राधे, महादेव, जागीलाल, सरपंच छुगान, मन्नू, भगलसिंग, बुद्धू, छुमरलाल, मदनलाल, कैलाश, भगलू, सेन्दीलाल, शेरसिंग, सन्तू, चौतराम, भंगीलाल, बारलाल, लच्छू, अतरोबाई, इमरतिया, कस्तूरिया, अनिता ढीकू, अनिता भोपा, भागवती, छुपरलाल, हरेसिंग, तेजीलाल सहित अन्य ग्रामीणों आगे आये है और शासन प्रषासन से पुल और सड़क की मांग की है। 

Post a Comment

0 Comments