शासन ने दावा किया था शहर के चप्पे-चप्पे पर रहेगी हाईटेक नजर, जरूरी कैमरे ही नहीं लग पाए | Shasan ne dava kiya tha shahar ke chappe chappe pr rahegi hightech nazar

शासन ने दावा किया था शहर के चप्पे-चप्पे पर रहेगी हाईटेक नजर, जरूरी कैमरे ही नहीं लग पाए

सोशल डिस्टेंस और लॉक डाउन का उल्लंघन सैकड़ों पर हुई कार्रवाई 

श्रमिक स्पेशल ट्रेन से उतरे 163 श्रमिक


जबलपुर (संतोष जैन) - शहर में बढ़ते अपराधों पर अंकुश लगाने और पुलिस को तकनीकी रूप से सक्षम बनाने के लिए हाईटेक कैमरे लगाने की योजना कागजों में सिमट कर रह गई है स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर में 150 स्थानों पर 837 कैमरे लगाने का प्रस्ताव था अभी तक योजना ठंडे बस्ते में है हालांकि यातायात विभाग की ओर से शहर के एंट्री और एग्जिट प्वाइंट पर एनपीआर ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रीडर कैमरे लगवाए जा रहे हैं 

सोशल डिस्टेंस और लॉक डाउन का उल्लंघन सड़कों पर हुई कार्रवाई

 अनलॉक एक में रविवार को 1 दिन के विराम में घर से निकलकर लॉक डाउन का उल्लंघन और सोशल डिस्टेंस तोड़ने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की गई पुलिस सुबह 8:00 बजे से सक्रिय हो गई थी चौराहों पर  फिक्स पॉइंट बनाकर वाहन चालकों को रोका गया पुलिस की सख्ती और आमजन की सहभागिता से विराम पूरी तरह सफल रहा पुलिस ने इस दौरान कुल 2522 लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 2 ,50000रुपय समन शुल्क वसूला 

श्रमिक स्पेशल ट्रेन से उतरे 163   श्रमिक

 एर्नाकुलम से पटना जा रही श्रमिक एक्सप्रेस में जबलपुर समेत आसपास के जिलों के 163 सदस्य सवार थे यह ट्रेन रविवार दोपहर लगभग 12:00 बजे मुख्य रेलवे स्टेशन पहुंची 163 श्रमिकों को जबलपुर में उतारने के बाद ट्रेन पटना के लिए रवाना हो गई श्रमिकों को आधा दर्जन बसों में सवार कर उनके गृह जिले रवाना किया गया जीआरपी थाना प्रभारी मंजीत सिंह ने बताया कि गाड़ी संख्या 06174 लगभग सवा हजार श्रमिक एर्नाकुलम से सवार हुए

Post a Comment

0 Comments