इन बच्चों को देखकर मुझे अपना बचपन याद आ गया - एसडीएम मालवीय | In bachcho ko dekhkar mujhe apna bachpan yaad aa gaya

इन बच्चों को देखकर मुझे अपना बचपन याद आ गया - एसडीएम मालवीय

इन बच्चों को देखकर मुझे अपना बचपन याद आ गया - एसडीएम मालवीय

पेटलावद (मनीष कुमट) - तहसील के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय झकनावदा मैं तीन दिवसीय वार्षिक उत्सव कार्यक्रम 2 जनवरी को आयोजित किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में अनुविभागीय अधिकारी पेटलावद एम एल मालवीय, नायब तहसीलदार भिडे, विधायक प्रतिनिधि जितेंद्र राठौड़, मनीष कुमट, पालक संघ अध्यक्ष आसिफ खान, एफसी माली, संजय व्यास, राधेश्याम देवड़ा, सचिव भीमसिंह कटारा, राम जोशी, प्राचार्य रमेश चंद्र चौरसिया ने सर्वप्रथम मां शारदा की तस्वीर पर धूप दीप पुष्प माला अर्पित कर आयोजन का श्रीगणेश किया। तत्पश्चात समस्त उपस्थित अतिथियों का इसको संस्था द्वारा पुष्पमाला व बेच लगा कर सम्मान किया गया। बाद मुख्य अतिथि अनुविभागीय अधिकारी एम एल मालवीय, नायब तहसीलदार भिड़े व आयोजन की अध्यक्षता कर रहे जितेंद्र राठौर का स्कूल प्राचार्य द्वारा साफा बांधकर अभिवादन किया गया। जिसके बाद आयोजन को आगे बढ़ाते हुए मां शारदा केशु मधुर गीत पर बालिकाओं द्वारा रंगारंग प्रस्तुति दी गई ।साथ ही स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया जिसके बाद नायब तहसीलदार ने बच्चों को अपने उद्बोधन में कहा कि शासकीय स्कूल भी शिक्षा का मंदिर है लोगों ने अपनी मानसिकता बना ली है कि प्राइवेट स्कूल में पढ़े मैं भी धार जिले की एक शासकीय स्कूल में पढ़ा हूं वह मैंने कक्षा पांचवी में सपना देखा था कि मैं ड्राइवर बनूंगा लेकिन मैंने जब अपने जीवन में शिक्षा को महत्व दिया तो आज में आपके  पेटलावद तहसील मैं ही नायब तहसीलदार के पद पर मौजूद हूं और साथ ही मेरी अभी भी पढ़ाई जारी है कि मैं आगे चलकर अनुविभागीय अधिकारी का पद हासिल करूं इसलिए शिक्षा से बढ़कर कुछ नहीं है आप सभी बच्चे खूब पढ़े खूब बड़े। इसके साथ ही आयोजन की अध्यक्षता कर रहे जितेंद्र राठौड़ ने अपने उद्बोधन में कहा कि मैं भी इस झकनावदा शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय से पढ़कर निकला छात्र हूं। और पेटलावद तहसील मैं कहीं नहीं इतनी उच्च शिक्षा प्राप्त होती होगी जितनी कि मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि झकनावदा शासकीय स्कूल में जो शासकीय टीचर छात्रों के लिए मेहनत कर शिक्षा ग्रहण करवाते हैं। साथ ही झकनावदा  इसी स्कूल से पढ़कर कई लोग प्राचार्य, सांसद, डॉक्टर, इंजीनियर, मजिस्ट्रेट भी बने हैं और इस शासकीय स्कूल का कोई भी बच्चा प्राइवेट ट्यूशन भी नहीं जाता है। साथ ही अनुविभागीय अधिकारी एमएम मालवीय पेटलावद ने अपने उद्बोधन में कहा कि मुझे आज इस वार्षिक उत्सव का शुभारंभ करने का अवसर प्राप्त हुआ वह मेरे सामने जो छात्र-छात्राएं बैठे हैं इनको देखकर मुझे मेरा बचपन याद आता है मैं भी शासकीय स्कूल का ही छात्र होकर आज आपके सामने इस पद पर खड़ा हूं आप भी शिक्षा की ओर जोर देकर खूब पढ़ो खूब बड़े और अपनी पेटलावद तहसील झाबुआ जिले परिवार व अपने माता-पिता का खूब नाम रोशन करें।

इन बच्चों को देखकर मुझे अपना बचपन याद आ गया - एसडीएम मालवीय

दिलवाई शपथ

बाद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय झकनावदा के समस्त नवनिर्वाचित छात्र-छात्राओं को एसडीएम एम एल मालवीय द्वारा शपथ ग्रहण करवाई गई। तत्पश्चात स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा विज्ञान एवं भूगोल प्रदर्शनी रंगोली एवं चित्रकला व सुगम संगीत प्रतियोगिता के साथ तात्कालिक भाषण प्रतियोगिता आयोजित की गई जिस पर समस्त उपस्थित अतिथियों द्वारा निरीक्षण कर प्रदर्शनी, रंगोली, चित्रकला का निरीक्षण कर छात्र छात्राओं को बधाई दी। आयोजन का संचालन राकेश मग व हेमेंद्र जी जोशी द्वारा किया गया। आभार नारायण दास बैरागी ने  माना। इस अवसर पर  पार्वती चौहान, सुरेश प्रजापत, ओंकार लाल चोयल, श्रीमती मोना सोलंकी, कुमारी शालिनी चौहान, शालिनी माली, सहित पूरा स्कूल स्टाफ उपस्थित था।

इन बच्चों को देखकर मुझे अपना बचपन याद आ गया - एसडीएम मालवीय

Post a Comment

0 Comments