राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से नन्हीं ज्योति के चेहरे पर मुस्कान लोटी | Rashtriya baal swasthya karyakram se nanhi jyoti ke chehre pr muskan loti

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से नन्हीं ज्योति के चेहरे पर मुस्कान लोटी

जिले में परिणाम सकारात्मक नजर आ रहे हे-कलेक्टर श्रीमती गुप्ता

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से नन्हीं ज्योति के चेहरे पर मुस्कान लोटी

आलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - जिला मुख्यालय से दस किमी दूर ग्राम वडी निवासी सरदार के यहां शादी के दो वर्ष पष्चात बेटी का जन्म हुआ, जिसका नाम रखा गया ज्योति। सभी खुष थे लेकिन परिवारजनों की खुषी तब चिंता में बदल गई जब सबकों पता चला नन्हीं ज्योति के होट कटे-फटे है। सभी यह देख सहम गए। बेटी की ऐसी स्थिति देखकर चिंता में रहने लगे। पेषे से कृषक एवं निजी वाहन पर चालक का काम करने वाले सरदार के मन में एक ही चिंता लगी रहती थी कि बेटी की ऐसी अवस्था रहने से उसके बडे होने पर क्या होगा। इसी दौरान आरबीएसके की टीम का ग्राम में भ्रमण हुआ । इसी दौरान उक्त बच्ची टीम के सदस्यों को नजर आई। तत्काल टीम सदस्यों ने नन्हीं ज्योति का स्वास्थ्य परीक्षण करते हुए सरदार और उनकी पत्नि हतरी को ज्योति का आपरेषन से इलाज संभव होने की बात समझाई। नन्हीं सी ज्योति के आपरेषन की बात सुनकर पहले तो सरदार और हतरी ने साफ मना कर दिया लेकिन टीम के द्वारा लगातार की गई काउंसलिंग का असर यह हुआ कि बडौदा स्थिति निजी अस्पताल में नन्हीं ज्योति का राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत कटे फटे होट का सफल आपरेषन हुआ। आज नन्हीं ज्योति अन्य सामान्य बच्चों की तरह मुस्कान बिखेरती हुए सरदारसिंह और हतरीबाई के घर आंगन में नन्हीं किलकारी से पूरे परिवार को खुषहाल बनाए हुए है। इस संबंध में सरदार बताते हुए पहले मैं बहुत परेषान था लेकिन मेरी बेटी के आपरेषन के बाद मेरी सारी चिंता दूर हो गई है। पहले में बहुत डरा और सहमा था लेकिन आरबीएसके टीम के द्वारा लगातार मुझे समझाया गया। आज मेरी बेटी पूरी तरह से स्वस्थ्य है। आपरेषन भी पूरी तरह निःषुल्क हुआ। इस संबंध में आरबीएसके जिला शीघ्र हस्तक्षेप प्रबंधक आरती तिवारी ने बताया राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत कटे फटे होट वाले बच्चों का निःषुल्क आपरेषन होता है। उन्होंने बताया कटे फटे होट के आपरेषन के बाद पीडित पूरी तरह से स्वस्थ्य और अन्य सामान्य बच्चों की तरह नजर आता है। इस संबंध में कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने बताया हमने ज्योति जैसे ही अन्य बच्चें जिनके होट कटे-फटे है। ऐसे बच्चों का चिन्हांकन करते हुए तत्काल आपरेषन कराए जाने संबंधित व्यवस्था सुनिष्चित करने के निर्देष दिए है। जिले में परिणाम सकारात्मक नजर आ रहे है। 

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News