छोटे बड़े नोटों में उलझे व्यापारी बैंक के जवाबदार कहते है जमाकर अलग-अलग लाओ | Chhote bade noto main uljhe vyapari bank ke jawabdar kehte hai

छोटे बड़े नोटों में उलझे व्यापारी बैंक के जवाबदार कहते है जमाकर अलग-अलग लाओ

छोटे बड़े नोटों में उलझे व्यापारी बैंक के जवाबदार कहते है जमाकर अलग-अलग लाओ

धामनोद (मुकेश सोडानी) - चित्र में जो  व्यापारी पैसे गिन रहे हैं इनके हाथ में दो तरह के नोट है लेकिन यह नोट एक ही है 100 रुपये का  अब  इन नए और पुराने नोट के कारण व्यापारी इन दिनों अच्छे खासे परेशान हैं क्योंकि जैसे ही व्यापारी के पास  100 की गड्डी के 100 नोट पुरे होते हैं वह दोनों को मिलाकर जमा लेता है लेकिन बैंक यह मानने को तैयार नहीं वह अलग अलग छटनी कर व्यापारी से पैसे जमाने की बात कहती है जिससे अब व्यापारी  व्यापार करें या नोटों को जमाये  गौरतलब है कि इन दिनों नगर के  कि व्यापारियों को सौ पचास  तथा दस के भिन्न नोटों को लेकर परेशानी का सामना उठाना पड़ रहा है गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद 1000 और 500 के पुराने नोट तो बंद हो गए लेकिन 100 और 50 तथा 10 के  पुराने  नोट का प्रचलन  आज भी जारी है  साथ नए नोटों को भी बाजार में उतार दिया गया अब पुराने नोटों की लंबाई चौड़ाई एवं नए नोटों की लंबाई चौड़ाई में काफी भिन्नता है जिससे व्यापारी परेशान हो रहे है नगर के व्यापारी जगदीश मूंदड़ा मुकेश सोडानी आदि ने बताया कि नोटों की साइज में भिन्नता को लेकर परेशानी का सामना उठाना पड़ रहा है

बैंक कर्मी कहते हैं अलग-अलग जमा कर लाओ व्यापारियों के लिए यह सब मुश्किल

नगर की  बैंकों में जब व्यापारी राशि जमा करने के लिए जाते हैं तो 100एंव  50 के नोटों को अलग-अलग जमा कर लाने की बात कही जाती है जबकि यह संभव नहीं क्योंकि व्यापारी के पास प्रतिदिन अलग-अलग माध्यम से खेरची में धनराशि एकत्र की जाती है यदि इस प्रकार से अलग-अलग नोट को जमाने में व्यापारी को  काफी समय लग जाएगा जो व्यापारियों के लिए मुमकिन नहीं

दस के नोट में सबसे ज्यादा परेशान

सबसे ज्यादा परेशानी का सामना 10 के नोटों को लेकर उठाना पड़ रहा है क्योंकि 10 के नोट् सबसे अधिक बाजार में अभी आ रहे हैं छोटे बड़े नोटों के कारण व्यापारी उन्हें जमा नहीं पा रहे हैं यही नहीं बैंक कर्मियों का तो कहना है कि एक सिरे से नहीं नए नोट की गड्डी अलग तथा पुराने नोट की गड्डी अलग ही होना चाहिए जबकि यह हर व्यापारी के लिए संभव नहीं

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News