मंडी शुल्क कम करने को लेकर कॉटन एसोसिएशन ने ज्ञापन सौंपा | Mandi shulk kam karne ko lekar cotron association ne gyapan sopa

मंडी शुल्क कम करने को लेकर कॉटन एसोसिएशन ने ज्ञापन सौंपा

मंडी शुल्क कम करने को लेकर कॉटन एसोसिएशन ने ज्ञापन सौंपा

धमानोद (मुकेश सोडानी) - मंडी शुल्क कम करने की मांग को लेकर कॉटन ट्रेडर्स एन्ड जिनर्स एसोसिएशन धामनोद द्वारा मध्यांचल कॉटन जिनर्स एंड ट्रेडर्स एसोसिएशन की बैठक के निर्णय अनुसार यदि मध्य प्रदेश सरकार दिनांक 17 ऑक्टोबर 2019 तक मंडी टैक्स कम नहीं करती है तो समस्त कपास मंडियों में व्यापारी दिनांक 18 तारीख  से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे कॉटन ट्रेडर्स एन्ड जिनर्स एसोसिएशन, धामनोद के अध्यक्ष प्रेमकुमार मंगल के नेतृत्व में एसोसिएशन के सदस्यों ने भारसाधक अधिकारी के नाम एक ज्ञापन सौंपकर व्यापारियों ने इस बाबत सूचना दी कॉटन ट्रेडर्स एन्ड जिनर्स एसोसिएशन धामनोद के सचिव विजय मंगल ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्यांचल कॉटन जिनर्स एंड ट्रेडर्स एसोसिएशन की बैठक हुई जिसमें मध्य प्रदेश सरकार से मंडी टैक्स कम करने के बारे में मांग किए जाने का निर्णय किया गया एक राष्ट्र एक समान करके अवधारणा को समक्ष ना रखते हुए मध्य प्रदेश में अन्य राज्यों की तुलना में मंडी टैक्स को लेकर बहुत बड़ा फर्क है मंडी टैक्स मध्य प्रदेश में 1.70% है जबकि अन्य राज्यों में दशमलव 0.50% है जिससे कपास उत्पादक किसान और उससे संबंधित सभी व्यापारियों को कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है अधिक मंडी टैक्स होने से यहां का कपास गुजरात व महाराष्ट्र जा रहा है जिससे यहां के जिनिंग प्रेसिंग उद्योग बंद होने की कगार पर है मध्य प्रदेश सरकार में अपने घोषणा पत्र में वचन दिया था की मंडी टैक्स 1% किया जाएगा साथी निराश्रित शुल्क को भी समाप्त किए जाने की मांग की गई धामनोद कॉटन ट्रेडर्स एन्ड जिनर्स एसोसिएशन ने आज कृषि उपज मंडी धामनोद पहुंचकर मंडी सचिव लक्ष्मण दास सुखवानी को एक ज्ञापन सौंपा उपस्थित व्यापारियों ने बताया कि यदि सरकार इस विषय मे कोई निर्णय नहीं ले पाई तो दिनांक 18 तारीख से मध्य प्रदेश के संघ के  साथ हड़ताल पर  होंगे और मध्य प्रदेश के समस्त कपास मंडियों में दिनांक 18 अक्टूबर से व्यापारियों द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी । इस अवसर पर शिवशंकर पाटीदार, श्यामलाल सिंघल, गुरदीप छाबड़ा , स्वरूप चंद्र गर्ग, जगदीश मूंदड़ा, रामेश्वर यादव, उमेश पाटीदार व अन्य जिनर , व्यापारी भी मौजूद थे ।

Post a Comment

0 Comments