3 माह बीतने के बाद भी नहर को क्षतिग्रस्त करने वाले तक नहीं पहुंच पाई पुलिस | 3 Mah bitne ke baad bhi nahar ko shratigrast krne wale tak nhi pahuch

3 माह बीतने के बाद भी नहर को क्षतिग्रस्त करने वाले तक नहीं पहुंच पाई पुलिस

3 माह बीतने के बाद भी नहर को क्षतिग्रस्त करने वाले तक नहीं पहुंच पाई पुलिस

धामनोद (मुकेश सोडानी) - करीब 3 माह पूर्व नगर के समीप  एनवीडीए नहर को जेसीबी से अज्ञात व्यक्ति के कहने पर क्षतिग्रस्त कर दिया था उसके बाद से ही नहर यथावत अवस्था में आज भी  टूटी पड़ी है लेकिन उन अपराधियों तक जिन्होंने यह काम किया पुलिस के हाथ  नहीं पहुंच पाए हैं गौरतलब है कि  तीन माह पूर्व गर्मी के दिनों में अज्ञात लोगों ने नहर को छतिग्रस्त कर दिया था जिससे नहर का पानी ऊपर से निकल कर दूसरी तरफ बहने लगा था इस बड़ी कारस्तानी के बाद एनवीडीए के जवाब दारो ने मिलकर  नहर के साथ तोड़फोड़ करने वालों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया था लेकिन 3 माह बीतने के बाद भी उस अपराधी  की गिरफ्त तक पुलिस के हाथ नहीं पहुंच पाए है

आखिर लचीला रवैया क्यों गौरतलब है कि उपरोक्त मामले में जांच पड़ताल भी हो चुकी है तथा लगभग पुलिस अपराधी को जान चुकी है उसके बाद भी अपराधियों को क्यों बख्शा जा रहा है यह अब एक सोचनीय विषय है इस विषय में जांचकर्ता अधिकारी उप निरीक्षक नारायण रावल ने बताया कि कुछ लोगों के नाम सामने आए हैं जल्द ही वह कानून की गिरफ्त में होंगे

शासकीय संपत्ति के साथ तोड़फोड़ करना अपराध

इस विषय में एनवीडीए के अधिकारियों से चर्चा करने पर बताया गया कि शासकीय संपत्ति के साथ तोड़फोड़ करने वालों के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध करवाया था करीब 3 माह बीत  चुके है लेकिन आरोपी का नाम अभी तक सामने नहीं आ पाया आया जिस जेसीबी का उपयोग नहर तोड़ने में किया गया था वह  नाम भी अभी सामने नहीं आ पाया आखिरकार जेसीबी चालक ने किसके कहने पर को  नहर को तोड़ा था इस विषय में पुलिस की चुप्पी अब कई  प्रश्न खड़े कर रही है

पुलिस से जब भी कहा तब जांच चल रही कह कर टाल दिया

इस विषय में जांचकर्ता अधिकारी से जब भी चर्चा की गई यह कह कर टाल दिया कि अभी जांच चल रही है करीब 3 माह बाद भी जांच एवं तथ्य सामने आने के बाद भी पुलिस की गिरफ्त से दूर आरोपी अब कानून को मजाक समझ रहे यदि ऐसे आरोपियों पर कार्यवाही नहीं की गई तो निश्चित रूप से कोई और अपराधी भी आगे चलकर इस प्रकार का  प्रयास दोबारा करेगा गौरतलब है कि उपरोक्त नहर गर्मी के दिनों में हजारों किसानों को लाभान्वित कर सिंचाई के लिए एकमात्र साधन था लेकिन अज्ञात लोगों के द्वारा जबसे इसे तोड़ा गया  तब से उसका दुरुस्तीकरण नहीं हो पाया आज भी नहर यथावत अवस्था में टूटी हुई पड़ी है आगामी दिनों में बरसात का मौसम खत्म होने के बाद नहर में पानी फिर छोड़ा जाएगा ऐसे में यदि पानी निकल कर फिर ऊपर आया तो निश्चित रूप से इस परेशानी का सामना किसानों को उठाना पड़ेगा जो इस नहर से सिंचाई करते हैं

Post a Comment

0 Comments