पीथमपुर मैं दो अंधे कत्लों का पुलिस ने किया खुलासा

पीथमपुर मैं दो अंधे कत्लों का पुलिस ने किया खुलासा

पीथमपुर मैं दो अंधे कत्लों का पुलिस ने किया खुलासा

पीथमपुर (प्रदीप द्विवेदी) - 27 व 28 जुलाई की रात गुडलक चौराहे पर इब्राहिम निवासी रीछाबड़ी का शव उसकी गुमटी में मिला था। इस मामले की जांच पीथमपुर के सहायक उपनिरीक्षक मनोहर सिंह चौहान को सौंपी गई। जिन्हें पीथमपुर के लोग मनोहर सिंह चौहान के नाम से कम सिंघम के नाम से जानते हैं यह नाम पीथमपुर की जनता ने उन्हें उनके काम के लिए दिया है ।गुंडों व बदमाशों में उनके नाम का खौफ है इसलिए उन्हें लोग सिंघम के नाम से जानते हैं और गुंडे इनके नाम से घबराते ही नहीं कापते हैं।

अंधे कातिल को सुलझा ने में श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय के मार्गदर्शन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय ओंकार सिंह कलेश साहब के निर्देशन नगर पुलिस अधीक्षक महोदय के नेतृत्व में मनोहर सिंह चौहान (सिंघम) जांच शुरू की। मुखबिर की सूचना पर महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हुए जूते के आधार पर आरोपियों तक पहुंचे शेष पुलिस टीम थाना प्रभारी चंद्रभान सिंह चढ़ार प्रधान आरक्षक गजेंद्र सिंह सूरज तिवारी की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

घटनास्थल पर प्राप्त एक जूते से ऐसा प्रतीत होता था कि आरोपी एक जूता वारदात के समय छूट गया है 'उसी के आधार पर पता चला जूता बिच्छू उर्फ दिशान निवासी चौपाटी का है 'उससे पूछताछ करने पर खुलासा हुआ। की हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में संजय उर्फ दीपक चौहान के कमरे में संजू बिच्छू और दिशान मोहित व अन्य साथी के बीच चोरी कर हत्या करने का षड्यंत्र बनाया गया। मोहित व दीशान मोटरसाइकिल लेकर घटना स्थल पहुंचे सबसे पहले टायर की दुकान मैं घुसे' जहां काम करने वाले तनवीर को धमकाया और उससे मोबाइल इत्यादि लेकर चले गए। इसके बाद दोनों मृतक इब्राहिम की गुमटी में घुसे जैसे ही गुमटी को खोला इब्राहिम जाग गया पकड़े जाने के डर से उक्त दोनों आरोपियों ने तकिए के रूप में रखे फोन से मुंह दबाकर इब्राहिम की हत्या कर दी।

19 जून को वृंदावन कॉलोनी विनोद असोलिया के निर्माण मकान मकान में सड़ी लाश मिली थी जांच के दौरान इसकी शिनाख्त पप्पू पिता झल्लू ऊर्फ भगवानदास 22 वर्ष  निवासी वृंदावन कॉलोनी पीथमपुर के रूप में हुई। शव छिन्न भिन्न  होने से इसका पोस्टमार्टम एम वाय अस्पताल इंदौर में कराया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतक के सिर पर गंभीर चोट लगने के कारण हत्या का प्रकरण दर्ज किया गया।

पुलिस ने जांच की तो पता चला पप्पू के साथ रहने वाला शत्रु उर्फ रंजीत जाधव घटना वाले दिन से फरार है और मृतक का पप्पू से पूर्व में झगड़ा हुआ था इसकी रिपोर्ट पीथमपुर सेक्टर सेक्टर वन पर की गई थी। इसी आधार पर उक्त आरोपी की तलाश कर आरोपी से पूछताछ करने पर आरोपी द्वारा जुर्म स्वीकार किया गया। आरोपी शत्रु और रंजीत यादव को गिरफ्तार किया गया। आरोपीयो से प्रयुक्त मोटरसाइकिल, आरोपी बिछू उर्फ दिशान का दूसरा जूता, आरोपियों द्वारा चुराए गए मोबाइल भी जब्त किए है।

Post a Comment

0 Comments