रायगढ़ इस्पात की जनसुनवाई निरस्त करने की मांग, प्रदूषण के विरोध में ग्रामीण अंचल में आक्रोश aacros Aajtak24 News

 

रायगढ़ इस्पात की जनसुनवाई निरस्त करने की मांग, प्रदूषण के विरोध में ग्रामीण अंचल में आक्रोश aacros Aajtak24 News 

रायगढ -  रायगढ़ इस्पात कंपनी सहित आसपास के अन्य उद्योगों से हो रहे प्रदूषण के खिलाफ ग्रामीणों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है। शिवपुरी ग्राम के निवासियों ने कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपते हुए आगामी 26 और 27 जून को होने वाली रायगढ़ इस्पात की जनसुनवाई को निरस्त करने की मांग की है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांग नहीं मानी गई तो वे सोमवार से आर्थिक नाकेबंदी करेंगे। ज्ञापन में ग्रामीणों ने स्पष्ट किया है कि रायगढ़ इस्पात और एन आर इस्पात कंपनियों से होने वाला प्रदूषण उनके स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव डाल रहा है। इन उद्योगों द्वारा गांव की जमीन पर अवैध रूप से अहाता का निर्माण किया जा रहा है, जिसके लिए कई पेड़ों की कटाई भी की जा रही है। पूर्व में भी ग्रामीणों ने कलेक्टर से इस संबंध में शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की थी,  लेकिन प्रशासन की ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि इन कंपनियों के प्रदूषण से उन्हें विभिन्न प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है। प्रशासन द्वारा इन उद्योगों के विस्तार की तैयारी ग्रामीणों के आक्रोश को और बढ़ा रही है। ग्रामीणों ने ज्ञापन में कहा है कि रायगढ़ इस्पात के विस्तार से प्रदूषण और बढ़ेगा, इसलिए विस्तार पर रोक लगाते हुए जनसुनवाई को निरस्त किया जाए। यदि प्रशासन ने जनसुनवाई निरस्त नहीं की, तो शिवपुरी ग्राम के सभी निवासी सोमवार से आर्थिक नाकेबंदी करेंगे।  ग्रामीणों के इस निर्णय से क्षेत्र में तनाव का माहौल बन गया है और प्रशासन पर दबाव बढ़ रहा है। अब देखना होगा कि प्रशासन ग्रामीणों की मांगों को कितना गंभीरता से लेता है और इस दिशा में क्या कदम उठाता है।

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News