अवैध शिकार का जानवरों पर कहर: खुलेआम हो रहा अवैध शिकार sikar Aajtak24 News


अवैध शिकार का जानवरों पर कहर: खुलेआम हो रहा अवैध शिकार sikar Aajtak24 News 

छिंदवाड़ा - सतपुड़ा टाइगर रिजर्व, पिपरिया - सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के जंगलों में अवैध शिकार की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं, जिससे जंगल में रह रहे वन्यजीवों की सुरक्षा पर गंभीर खतरा मंडरा रहा है। आज पिपरिया के आस-पास बेल बादरी और अन्य क्षेत्रों में हिरण का अवैध शिकार किया गया। तालाब और बांध वाले इलाकों में पशु-पक्षियों का खुलेआम शिकार हो रहा है। सूत्रों के अनुसार, तीतर, बटेर, पनडुब्बी, कौवा और बकुला जैसे लुप्तप्राय पक्षियों का भी शिकार हो रहा है। वन विभाग की ओर से इन मामलों में किसी शिकारी के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। जिले में अवैध शिकार के मामलों में दिनों दिन बढ़ोतरी हो रही है। आज पिपरिया के आस-पास सतपुड़ा टाइगर क्षेत्र में अज्ञात शिकारियों द्वारा हिरण का शिकार किया गया, जिससे अवैध शिकार की घटना फिर से सामने आई है। वन विभाग इस गंभीर समस्या को रोकने के लिए कोई ठोस कदम उठाता नजर नहीं आ रहा है। जंगल में पेट्रोलिंग का अभाव स्पष्ट दिखता है, जिसके कारण शिकारी टोलियां बनाकर बेखौफ होकर बंदूकों के साथ जंगलों में घूमते रहते हैं। वे लगभग रोजाना किसी न किसी इलाके में निर्दोष जानवरों का शिकार कर रहे हैं, लेकिन इस मुहिम पर अंकुश लगाने के लिए कहीं कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। अवैध शिकार पर वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत कानूनन पूरी तरह से प्रतिबंध है, लेकिन शिकारी जंगलों में खुलेआम टोलियां बनाकर शिकार कर रहे हैं। विभाग के पास शिकारियों की संख्या का कोई सटीक आंकड़ा नहीं है। यह गंभीर समस्या वन्यजीवों की सुरक्षा पर एक बड़ा प्रश्नचिह्न खड़ा करती है। क्या वन विभाग में पदस्थ अधिकारी सिर्फ मोटी तनख्वाह लेने और आराम के अलावा जंगल में जानवरों को सुरक्षित रखने में सक्षम हैं? यह एक बड़ा सवाल है। वन्यजीव संरक्षण के लिए मजबूत कदम उठाने की जरूरत है ताकि जंगल में रह रहे बेजुबान जानवरों और पक्षियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। इसके लिए विभाग को नियमित पेट्रोलिंग, शिकारी गतिविधियों पर नजर और सख्त कार्रवाई की आवश्यकता है। इसके बिना जंगल में वन्यजीवों की सुरक्षा एक चुनौती बनी रहेगी।

 


avaidh shikaar ka jaanavaron par kahar: khuleaam ho raha avaidh shikaar

chhindavaada - satapuda taigar rijarv, pipariya - satapuda taigar rijarv ke jangalon mein avaidh shikaar kee ghatanaen badhatee ja rahee hain, jisase jangal mein rah rahe vanyajeevon kee suraksha par gambheer khatara mandara raha hai. aaj pipariya ke aas-paas bel baadaree aur any kshetron mein hiran ka avaidh shikaar kiya gaya. taalaab aur baandh vaale ilaakon mein pashu-pakshiyon ka khuleaam shikaar ho raha hai. sootron ke anusaar, teetar, bater, panadubbee, kauva aur bakula jaise luptapraay pakshiyon ka bhee shikaar ho raha hai. van vibhaag kee or se in maamalon mein kisee shikaaree ke khilaaph ab tak koee kaarravaee nahin kee gaee hai. jile mein avaidh shikaar ke maamalon mein dinon din badhotaree ho rahee hai. aaj pipariya ke aas-paas satapuda taigar kshetr mein agyaat shikaariyon dvaara hiran ka shikaar kiya gaya, jisase avaidh shikaar kee ghatana phir se saamane aaee hai. van vibhaag is gambheer samasya ko rokane ke lie koee thos kadam uthaata najar nahin aa raha hai. jangal mein petroling ka abhaav spasht dikhata hai, jisake kaaran shikaaree toliyaan banaakar bekhauph hokar bandookon ke saath jangalon mein ghoomate rahate hain. ve lagabhag rojaana kisee na kisee ilaake mein nirdosh jaanavaron ka shikaar kar rahe hain, lekin is muhim par ankush lagaane ke lie kaheen koee kaarravaee nahin ho rahee hai. avaidh shikaar par vaild laiph ekt ke tahat kaanoonan pooree tarah se pratibandh hai, lekin shikaaree jangalon mein khuleaam toliyaan banaakar shikaar kar rahe hain. vibhaag ke paas shikaariyon kee sankhya ka koee sateek aankada nahin hai. yah gambheer samasya vanyajeevon kee suraksha par ek bada prashnachihn khada karatee hai. kya van vibhaag mein padasth adhikaaree sirph motee tanakhvaah lene aur aaraam ke alaava jangal mein jaanavaron ko surakshit rakhane mein saksham hain? yah ek bada savaal hai. vanyajeev sanrakshan ke lie majaboot kadam uthaane kee jaroorat hai taaki jangal mein rah rahe bejubaan jaanavaron aur pakshiyon kee suraksha sunishchit kee ja sake. isake lie vibhaag ko niyamit petroling, shikaaree gatividhiyon par najar aur sakht kaarravaee kee aavashyakata hai. isake bina jangal mein vanyajeevon kee suraksha ek chunautee banee rahegee.


Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News