प्रान्त घोष वर्ग का समापन समारोह संपन्न sampann Aajtak24 News

 

प्रान्त घोष वर्ग का समापन समारोह संपन्न sampann Aajtak24 News


जांजगीर चांपा - प्रांतीय घोष वर्ग का समापन  ऐतिहासिक भालेराव मैदान में संपन्न हुआ । इस वर्ग में पूरे प्रान्त से कुल 176 स्वयंसेवकों अपने खर्चे में शामिल हुए । सबसे बड़ी बात यह हैं कि इस वर्ग में सुबह साढ़े 4 बजें से लेकर रात्रि 10 बजे तक का समय विभिन्न कार्यक्रम के माध्यम से सभी को समायोजित किया गया । विभिन्न वाद्ययंत्रों को प्रशिक्षित लोगों के द्वारा सिखाया गया , जिसमे अनेक, पड़व, वेणु, शंख, सहित अनेक वाद्ययंत्रों का प्रशिक्षण दिया गया । समापन समारोह में आगंतुक अतिथियों का प्रेरक उद्बोधन  प्राप्त  हुआ। इस समापन समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में सुरेश चंद देवांगन, कार्यक्रम के अध्यक्ष अभय राम कुम्भकार प्रान्त प्रचारक एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में विभाग संघ चालक सत्येंद्र नाथ तथा होम्योपैथिक चिकित्सक व नगर संघ चालक डां शांति कुमार सोनी उपस्थित थे ।परंपरानुसार समापन पूर्व भगवान ध्वजका आरोहण किया गया । समापन समारोह प्रारम्भ के पूर्व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में गुरु का स्थान प्राप्त भगवा ध्वज का आरोहण किया गया फिर वर्ग में सम्मिलित स्वयंसेवकों के द्वारा विगत दिवसों में अभ्यास किये गए वाद्ययंत्र के रचनाओं का प्रदर्शन किया गया । समापन समारोह में स्वयंसेवकों ने वर्ग में सीखें और वाद्ययंत्रो का प्रयोग कर अपनी दक्षता प्रदर्शित किया । इस वर्ग में प्रान्त कार्यवाह चंद्रशेखर देवांगन, सह-प्रान्त प्रचारक नारायण नामदेव, विभाग प्रचारक योगेश, प्रान्त शारीरिक शिक्षण प्रमुख विश्वास जी, प्रान्त घोस प्रमुख शेष नारायण सोनी, रायगढ़ के विभाग प्रचारक राजकुमार छत्तीसगढ़ राज्य युवा आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष कार्तिकेश्वर स्वर्णकार , पुर्व विधायक नारायण चंदेल,डां खिलावन साहू , प्रगतिशील स्वर्ण एवं रजत समिति के सचिव व साहित्यकार शशिभूषण सोनी, कमल लाल देवांगन, आचार्य शिक्षक शुभ्रांशु मिश्रा ,पत्रकार विनय अग्रवाल सहित अन्य लोगों के साथ संघ के अधिकारियों का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ । बारिश में भीगते हुए दिया अनुशासन का परिचय । भारी बारिश और अंधड़ के बीच लोग समारोह में अंत तक शामिल हुए । समापन समारोह के बीच में ही बिन मौसम बारिश होने लगा जिस पर सभी  कार्यक्रम में उपस्थित स्वयंसेवक भारी बारिश में भीग कर कार्यक्रम में सम्मिलित हुए और संघ के अनुशासन और अडिगता का परिचय दिया । हिन्दुओं को एकजुट करने में डां केशव हेडगेवार ने आरएसएस की स्थापना किया -शशिभूषण सोनी । समापन समारोह में विशेष रुप से उपस्थित शशिभूषण सोनी ने दैनिक न्यूज क्रिएशन के उप-संपादक सरदार  कुलवंत सिंह सलूजा को बताया कि श्रद्धेय डां केशवराव बलिराम हेडगेवाव‌ महान स्वप्न दृष्टा थे ।हिंदुओं‌को एक जुट करने का जो सपना इन्होनें संजोया था उसको राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना कर पूरा किया।  असंभव को संभव बनाने की सामर्थ उन्हीं में था ,वे जन्मजात देशभक्त थे। वनवासी , गिरी वासी, हर भाषा-भाषी , निर्धन-धनी , अशिक्षित-शिक्षित सभी वर्ग के लोगों में एकता का सूत्र पिरोने का काम जीवनपर्यंत करते रहे ।सबसे बड़ी बात राष्ट्र की स्वाधीनता के महायज्ञ में अपनी आहुतियां चढ़ाने के अडिग निर्णय के कारण ही वे आजीवन अविवाहित  रहे । शशिभूषण सोनी ने बताया कि घोष प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में आने का सौभाग्य मिला । हिंदु जनमानस को ऐसी ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों से जोड़ना जरुरी हैं। हिंदुओं के उत्थान से ही देश का उत्थान निहीत हैं ।



praant ghosh varg ka samaapan samaaroh sampann
 jaanjageer chaampa - praanteey ghosh varg ka samaapan aitihaasik bhaaleraav maidaan mein sampann hua . is varg mein poore praant se kul 176 svayansevakon apane kharche mein shaamil hue . sabase badee baat yah hain ki is varg mein subah saadhe 4 bajen se lekar raatri 10 baje tak ka samay vibhinn kaaryakram ke maadhyam se sabhee ko samaayojit kiya gaya . vibhinn vaadyayantron ko prashikshit logon ke dvaara sikhaaya gaya , jisame anek, padav, venu, shankh, sahit anek vaadyayantron ka prashikshan diya gaya . samaapan samaaroh mein aagantuk atithiyon ka prerak udbodhan praapt hua. is samaapan samaaroh ke mukhy atithi ke roop mein suresh chand devaangan, kaaryakram ke adhyaksh abhay raam kumbhakaar praant prachaarak evan vishisht atithi ke roop mein vibhaag sangh chaalak satyendr naath tatha homyopaithik chikitsak va nagar sangh chaalak daan shaanti kumaar sonee upasthit the .paramparaanusaar samaapan poorv bhagavaan dhvajaka aarohan kiya gaya . samaapan samaaroh praarambh ke poorv raashtreey svayansevak sangh mein guru ka sthaan praapt bhagava dhvaj ka aarohan kiya gaya phir varg mein sammilit svayansevakon ke dvaara vigat divason mein abhyaas kiye gae vaadyayantr ke rachanaon ka pradarshan kiya gaya . samaapan samaaroh mein svayansevakon ne varg mein seekhen aur vaadyayantro ka prayog kar apanee dakshata pradarshit kiya . is varg mein praant kaaryavaah chandrashekhar devaangan, sah-praant prachaarak naaraayan naamadev, vibhaag prachaarak yogesh, praant shaareerik shikshan pramukh vishvaas jee, praant ghos pramukh shesh naaraayan sonee, raayagadh ke vibhaag prachaarak raajakumaar chhatteesagadh raajy yuva aayog ke poorv upaadhyaksh kaartikeshvar svarnakaar , purv vidhaayak naaraayan chandel,daan khilaavan saahoo , pragatisheel svarn evan rajat samiti ke sachiv va saahityakaar shashibhooshan sonee, kamal laal devaangan, aachaary shikshak shubhraanshu mishra ,patrakaar vinay agravaal sahit any logon ke saath sangh ke adhikaariyon ka maargadarshan praapt hua . baarish mein bheegate hue diya anushaasan ka parichay . bhaaree baarish aur andhad ke beech log samaaroh mein ant tak shaamil hue . samaapan samaaroh ke beech mein hee bin mausam baarish hone laga jis par sabhee kaaryakram mein upasthit svayansevak bhaaree baarish mein bheeg kar kaaryakram mein sammilit hue aur sangh ke anushaasan aur adigata ka parichay diya . hinduon ko ekajut karane mein daan keshav hedagevaar ne aareses kee sthaapana kiya -shashibhooshan sonee . samaapan samaaroh mein vishesh rup se upasthit shashibhooshan sonee ne dainik nyooj krieshan ke up-sampaadak saradaar kulavant sinh salooja ko bataaya ki shraddhey daan keshavaraav baliraam hedagevaav‌ mahaan svapn drshta the .hinduon‌ko ek jut karane ka jo sapana inhonen sanjoya tha usako raashtreey svayansevak sangh kee sthaapana kar poora kiya. asambhav ko sambhav banaane kee saamarth unheen mein tha ,ve janmajaat deshabhakt the. vanavaasee , giree vaasee, har bhaasha-bhaashee , nirdhan-dhanee , ashikshit-shikshit sabhee varg ke logon mein ekata ka sootr pirone ka kaam jeevanaparyant karate rahe .sabase badee baat raashtr kee svaadheenata ke mahaayagy mein apanee aahutiyaan chadhaane ke adig nirnay ke kaaran hee ve aajeevan avivaahit rahe . shashibhooshan sonee ne bataaya ki ghosh prashikshan shivir ke samaapan samaaroh mein aane ka saubhaagy mila . hindu janamaanas ko aisee hee saanskrtik kaaryakramon se jodana jaruree hain. hinduon ke utthaan se hee desh ka utthaan niheet hain .

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News