छ.ग. में ई-वे बिल (जीएसटी) की छूट को खत्म करना छोटे व्यापारियों के साथ बड़ा अन्याय है - उमेश पटेल patel Aajtak24 News

 

छ.ग. में ई-वे बिल (जीएसटी) की छूट को खत्म करना छोटे व्यापारियों के साथ बड़ा अन्याय है - उमेश पटेल patel Aajtak24 News 

जांजगीर-चाम्पा - खरसिया विधायक उमेश पटेल ने हाल ही में छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा ई-वे बिल छूट को समाप्त करने के फैसले की कड़ी आलोचना की है। उमेश पटेल का कहना है कि यह निर्णय छत्तीसगढ़ के छोटे-बड़े व्यापारियों के साथ बड़ा अन्याय है। वर्ष 2018 से, छत्तीसगढ़ में 50,000 रुपये से अधिक के सामान पर ई-वे बिल की आवश्यकता नहीं थी, केवल 15 वस्तुओं को छोड़कर। लेकिन नई सरकार ने 24 मई 2024 को एक अधिसूचना जारी करके इस छूट को समाप्त कर दिया है। अब 50,000 रुपये से अधिक के सामान पर ई-वे बिल की आवश्यकता होगी। राज्य में लगभग 2 लाख छोटे व्यापारी हैं जो इस फैसले से प्रभावित होंगे। उन्हें अब एक जिले से दूसरे जिले में 50,000 रुपये या उससे अधिक का सामान ले जाने के लिए ई-वे बिल जनरेट करना होगा। इसका पालन न करने पर माल की कीमत के बराबर पेनल्टी या टैक्स के दोगुने के बराबर जुर्माने का प्रावधान है। इससे उनकी परेशानियां बढ़ जाएंगी, क्योंकि अक्सर छोटे व्यापारी अपने सामान को छोटे मालवाहकों, बसों या 407 गाड़ियों में भेजते हैं। जीएसटी के अधिकारी अब इन सभी गाड़ियों को रोककर ई-वे बिल की जांच करेंगे, जिससे ट्रांसपोर्टर्स ने भी विरोध शुरू कर दिया है। उनका आरोप है कि जीएसटी के जांचकर्ता बिल के नाम पर गाड़ी मालिकों को बहुत परेशान करते हैं और अनाप-शनाप टैक्स की वसूली करते हैं। उमेश पटेल ने कहा कि इस फैसले से इंस्पेक्टर राज की वापसी हो जाएगी और छोटे-बड़े व्यापारियों को टैक्स के नाम पर अकारण परेशान किया जाएगा तथा अवैध उगाही की आशंका बढ़ जाएगी। उन्होंने सरकार से पूर्व अधिसूचना को यथावत रखने की अपील की और कहा कि ई-वे बिल से संबंधित जटिलताओं पर विस्तृत रूप से चर्चा की जानी चाहिए और वर्ष 2018 में दी गयी ई-वे बिल छूट को बनाए रखना चाहिए।


chh.ga. mein ee-ve bil (jeeesatee) kee chhoot ko khatm karana chhote vyaapaariyon ke saath bada anyaay hai - umesh patel
jaanjageer-chaampa - kharasiya vidhaayak umesh patel ne haal hee mein chhatteesagadh sarakaar dvaara ee-ve bil chhoot ko samaapt karane ke phaisale kee kadee aalochana kee hai. umesh patel ka kahana hai ki yah nirnay chhatteesagadh ke chhote-bade vyaapaariyon ke saath bada anyaay hai. varsh 2018 se, chhatteesagadh mein 50,000 rupaye se adhik ke saamaan par ee-ve bil kee aavashyakata nahin thee, keval 15 vastuon ko chhodakar. lekin naee sarakaar ne 24 maee 2024 ko ek adhisoochana jaaree karake is chhoot ko samaapt kar diya hai. ab 50,000 rupaye se adhik ke saamaan par ee-ve bil kee aavashyakata hogee. raajy mein lagabhag 2 laakh chhote vyaapaaree hain jo is phaisale se prabhaavit honge. unhen ab ek jile se doosare jile mein 50,000 rupaye ya usase adhik ka saamaan le jaane ke lie ee-ve bil janaret karana hoga. isaka paalan na karane par maal kee keemat ke baraabar penaltee ya taiks ke dogune ke baraabar jurmaane ka praavadhaan hai. isase unakee pareshaaniyaan badh jaengee, kyonki aksar chhote vyaapaaree apane saamaan ko chhote maalavaahakon, bason ya 407 gaadiyon mein bhejate hain. jeeesatee ke adhikaaree ab in sabhee gaadiyon ko rokakar ee-ve bil kee jaanch karenge, jisase traansaportars ne bhee virodh shuroo kar diya hai. unaka aarop hai ki jeeesatee ke jaanchakarta bil ke naam par gaadee maalikon ko bahut pareshaan karate hain aur anaap-shanaap taiks kee vasoolee karate hain. umesh patel ne kaha ki is phaisale se inspektar raaj kee vaapasee ho jaegee aur chhote-bade vyaapaariyon ko taiks ke naam par akaaran pareshaan kiya jaega tatha avaidh ugaahee kee aashanka badh jaegee. unhonne sarakaar se poorv adhisoochana ko yathaavat rakhane kee apeel kee aur kaha ki ee-ve bil se sambandhit jatilataon par vistrt roop se charcha kee jaanee chaahie aur varsh 2018 mein dee gayee ee-ve bil chhoot ko banae rakhana chaahie.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News