खरीदी केन्द्रो में बारदाने की कमी अव्यवस्थाओं और अपमान से अन्नदाता परेशान paresan Aajtak24 News


खरीदी केन्द्रो में बारदाने की कमी अव्यवस्थाओं और अपमान से अन्नदाता परेशान paresan Aajtak24 News 

रीवा - रीवा और मऊगंज जिले में किसानों को खरीदी केन्द्रों में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है अपना अनाज की तक बारी के लिए किसान दर-दर भटक रहा है रीवा और मऊगंज जिले में कई केदो पर बरदाने की कमी देखी जा रही है जिसके कारण किसान खरीदी केन्द्रों पर अपना अनाज लेकर पहुंचते तो हैं और वापस लौट जाते हैं इस समय शासन द्वारा गेहूं सरसों मशूर चना की खरीदी की जा रही है वहीं दूसरी तरफ 10 ,15 दिन से कई खरीदी केदो में सरसों के बारदाने खरीदी केन्द्रों पर उपलब्ध नहीं है गेहूं और सरसों के बार दाने में भिन्नता होती है सरसों के बारदाने बड़े होते हैं। खरीदी केन्द्रों में अव्यवस्थाओं को लेकर किसानों द्वारा निरंतर शिकायत की जा रही है प्रति बोरी एक से डेढ़ किलो किसानों से अनाज में अधिक लिए जा रहे हैं वहीं दूसरी तरफ टोल के नाम पर भी राशि वसूली जा रही है इस संबंध में खरीदी केदो के नाम छापने की शर्त पर अधिकारियों द्वारा यह कहा गया कि गेहूं के बारदाने दो-तीन दिन से कम है सरसों के बारदाने अभी जो है तत्काल उपलब्ध कराया जा रहा है वारदाने की कमी के कारण किसानों को परेशानी हो रही है।

अन्नदाता की फजीहत 

अन्नदाता कड़ाके की ठंड भरी बरसात और तपती धूप भीषण गर्मी में काम करते हैं तब उन्हें दो वक्त की रोटी और घर परिवार की जरूरतों को पूरा कर पाते हैं देखा जाए तो अन्नदाता कड़ाके की ठंड में फसल की बुवाई सिंचाई और सुरक्षा करते हैं तब फसल तैयार होती है कड़ाके की धूप में फसल की कटाई गहाई के बाद भीषण गर्मी में अपनी फसल बेचने के लिए ट्रैक्टर और अन्य वाहनों से भाड़े में ले जाकर खरीदी केन्द्रों तक पहुंचते हैं और जब उनके अनाज की खरीदी समय पर नहीं हो पाती तब वापस अपने अनाज सहित घर लौट जाते हैं जिसके चलते किसानों को अधिक वाहन भाड़ा देना पड़ता है खरीदी केंद्रों में पानी और छाया खरीदी केंद्र के लोगों की कृपा से अगर मिल गई तो बहुत बड़ी बात है नहीं तो वह भी व्यवस्था किसानों को खुद करनी पड़ती है।

सरकार के प्रयास पर लापरवाही पड़ रही भारी।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री किसानों को हर सुविधा उपलब्ध कराने का निरंतर प्रयास कर रहे हैं किंतु रीवा संभाग सहकारिता विभाग के अधिकारियों की लापरवाही माने या फिर ऊपर से खरीदी केन्द्रों की व्यवस्था पूर्ति न होने के कारण कई कठिनाइयां उत्पन्न हो रही वही निरंतर खरीदी केंद्रों पर जांच के नाम पर बड़े अधिकारियों द्वारा वसूली के सिलसिले जारी है तो कहीं कहीं ऐसी भी घटनाएं हो रही है जहां अन्नदाताओं को खरीदी केन्द्रों य समिति के कर्मचारियों द्वारा अपमानित और प्रताड़ित होना पड़ रहा है।

खरीदी केंद्र में अन्नदाता से हुई बदसलूकी।

अन्नदाताओं की शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास में इससे बड़ी विडंबना क्या हो सकती है कि जब किसान अपनी फसल बेचने खरीदी केंद्र पहुंचे तो वहां उसके साथ गाली-गलौच किया जाए जबकि सरकार और मुख्यमंत्री द्वारा अन्नदाता के मान सम्मान के लिए सदैव तत्पर रहते हैं और किसानों के मान-सम्मान को ध्यान में रखते हुए सम्मानजनक व्यवहार करने का निरंतर आदेश दिया जा रहा है लेकिन बीते दिनों एक खरीदी में जब किसान से चावल का पैसा और वजन ज्यादा लेने पर आपत्ति की गई तो उसे गालियां खानी पड़ी इस घटनाक्रम के संबंध में दूरभाष पर किसान द्वारा अवगत कराया गया है लेकिन धन्य है रीवा जिले के अधिकारी जो किसान के साथ हो रहे दुर्व्यवहार को रोकने का प्रयास नहीं कर रहे हैं‌।

बारदाने की कमी 

मनगवां तहसील क्षेत्र के खरीदी केन्द्र लौरी, गढ़ में सरसों के बारदाने की कमी देखी जा रही है वहीं हिनौती केंद्र, देवास और कटरा खरीदी केंद्र में वही हालत हैं हनुमाना और नईगढ़ी में भी बार दाने की कमी बताई जा रही है जहां खरीदी केंद्र प्रभारी और किसान दोनों परेशान हैं अव्यवस्थाओं के चलते विवाद की स्थिति निर्मित हो रही हैं जबकि सरकार और जिले के वरिष्ठ अधिकारी हरहाल में खरीदी केंद्रों में बार दाने की पूर्ति का निरंतर प्रयास जारी रखे हैं किंतु पूर्ति नहीं हो पा रही है यह अव्यवस्था सहकारिता और नागरिक आपूर्ति विभाग के अधिकारियों की लापरवाही माने या अन्य कारण है यह भी ज्ञात नहीं हो पा रहा है नाम न छापने की शर्त पर यह भी खरीदी केंद्रों में बताया गया कि बार दाने भेजने के नाम पर तेल पानी का खर्चा भी वसूला जा रहा है।


khareedee kendro mein baaradaane kee kamee avyavasthaon aur apamaan se annadaata pareshaan 

reeva - reeva aur maooganj jile mein kisaanon ko khareedee kendron mein kaaphee pareshaaniyon ka saamana karana pad raha hai apana anaaj kee tak baaree ke lie kisaan dar-dar bhatak raha hai reeva aur maooganj jile mein kaee kedo par baradaane kee kamee dekhee ja rahee hai jisake kaaran kisaan khareedee kendron par apana anaaj lekar pahunchate to hain aur vaapas laut jaate hain is samay shaasan dvaara gehoon sarason mashoor chana kee khareedee kee ja rahee hai vaheen doosaree taraph 10 ,15 din se kaee khareedee kedo mein sarason ke baaradaane khareedee kendron par upalabdh nahin hai gehoon aur sarason ke baar daane mein bhinnata hotee hai sarason ke baaradaane bade hote hain. khareedee kendron mein avyavasthaon ko lekar kisaanon dvaara nirantar shikaayat kee ja rahee hai prati boree ek se dedh kilo kisaanon se anaaj mein adhik lie ja rahe hain vaheen doosaree taraph tol ke naam par bhee raashi vasoolee ja rahee hai is sambandh mein khareedee kedo ke naam chhaapane kee shart par adhikaariyon dvaara yah kaha gaya ki gehoon ke baaradaane do-teen din se kam hai sarason ke baaradaane abhee jo hai tatkaal upalabdh karaaya ja raha hai vaaradaane kee kamee ke kaaran kisaanon ko pareshaanee ho rahee hai. annadaata kee phajeehat annadaata kadaake kee thand bharee barasaat aur tapatee dhoop bheeshan garmee mein kaam karate hain tab unhen do vakt kee rotee aur ghar parivaar kee jarooraton ko poora kar paate hain dekha jae to annadaata kadaake kee thand mein phasal kee buvaee sinchaee aur suraksha karate hain tab phasal taiyaar hotee hai kadaake kee dhoop mein phasal kee kataee gahaee ke baad bheeshan garmee mein apanee phasal bechane ke lie traiktar aur any vaahanon se bhaade mein le jaakar khareedee kendron tak pahunchate hain aur jab unake anaaj kee khareedee samay par nahin ho paatee tab vaapas apane anaaj sahit ghar laut jaate hain jisake chalate kisaanon ko adhik vaahan bhaada dena padata hai khareedee kendron mein paanee aur chhaaya khareedee kendr ke logon kee krpa se agar mil gaee to bahut badee baat hai nahin to vah bhee vyavastha kisaanon ko khud karanee padatee hai. sarakaar ke prayaas par laaparavaahee pad rahee bhaaree. madhy pradesh ke mukhyamantree kisaanon ko har suvidha upalabdh karaane ka nirantar prayaas kar rahe hain kintu reeva sambhaag sahakaarita vibhaag ke adhikaariyon kee laaparavaahee maane ya phir oopar se khareedee kendron kee vyavastha poorti na hone ke kaaran kaee kathinaiyaan utpann ho rahee vahee nirantar khareedee kendron par jaanch ke naam par bade adhikaariyon dvaara vasoolee ke silasile jaaree hai to kaheen kaheen aisee bhee ghatanaen ho rahee hai jahaan annadaataon ko khareedee kendron ya samiti ke karmachaariyon dvaara apamaanit aur prataadit hona pad raha hai. khareedee kendr mein annadaata se huee badasalookee. annadaataon kee shaayad svatantr bhaarat ke itihaas mein isase badee vidambana kya ho sakatee hai ki jab kisaan apanee phasal bechane khareedee kendr pahunche to vahaan usake saath gaalee-galauch kiya jae jabaki sarakaar aur mukhyamantree dvaara annadaata ke maan sammaan ke lie sadaiv tatpar rahate hain aur kisaanon ke maan-sammaan ko dhyaan mein rakhate hue sammaanajanak vyavahaar karane ka nirantar aadesh diya ja raha hai lekin beete dinon ek khareedee mein jab kisaan se chaaval ka paisa aur vajan jyaada lene par aapatti kee gaee to use gaaliyaan khaanee padee is ghatanaakram ke sambandh mein doorabhaash par kisaan dvaara avagat karaaya gaya hai lekin dhany hai reeva jile ke adhikaaree jo kisaan ke saath ho rahe durvyavahaar ko rokane ka prayaas nahin kar rahe hain‌. baaradaane kee kamee managavaan tahaseel kshetr ke khareedee kendr lauree, gadh mein sarason ke baaradaane kee kamee dekhee ja rahee hai vaheen hinautee kendr, devaas aur katara khareedee kendr mein vahee haalat hain hanumaana aur naeegadhee mein bhee baar daane kee kamee bataee ja rahee hai jahaan khareedee kendr prabhaaree aur kisaan donon pareshaan hain avyavasthaon ke chalate vivaad kee sthiti nirmit ho rahee hain jabaki sarakaar aur jile ke varishth adhikaaree harahaal mein khareedee kendron mein baar daane kee poorti ka nirantar prayaas jaaree rakhe hain kintu poorti nahin ho pa rahee hai yah avyavastha sahakaarita aur naagarik aapoorti vibhaag ke adhikaariyon kee laaparavaahee maane ya any kaaran hai yah bhee gyaat nahin ho pa raha hai naam na chhaapane kee shart par yah bhee khareedee kendron mein bataaya gaya ki baar daane bhejane ke naam par tel paanee ka kharcha bhee vasoola ja raha hai.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News