जिले में भ्रष्टाचार करने वाले को मिल रही सहायक प्रबंधक के पद पर पदोन्नति padounnti Aajtak24 News

 

जिले में भ्रष्टाचार करने वाले को मिल रही सहायक प्रबंधक के पद पर पदोन्नति padounnti Aajtak24 News 

शहडोल - जिले में भ्रष्टाचार को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले सहकारिता विभाग का आलम यह है कि, जिस भी कर्मचारी के नाम के आगे भ्रष्टाचार की सुईयां घूम रहीं हों, ऐसे कर्मियों को विभाग में बैठे जिम्मेदार उपकृत करने कोई भी अवसर नहीं छोड़ रहे। ऐसा ही एक मामला पुनः जिले के धनपुरी लैम्पस से प्रकाश में आया है। जहां प्रबंधक समर बहादुर सिंह को सहायक प्रबंधक के पद पर पदोन्नत किया गया है। जबकि, अगर उक्त लैम्पस प्रबंधक के कारनामों की फेहरिस्त खंगाली जाए, तो इनका भ्रष्टाचार प्याज के छिलकों के मानिंद खुलता जायेगा।30 वर्षों से एक ही जगह राज बता दें कि, वह लगभग बीते तीन दशकों से यहां पदस्थ हैं। जानकारी के मुताबिक, 30 साल पहले सेल्समैन पद पर भर्ती होने वाले इस शख्स पर कभी भी जिम्मेदारों की नजर नहीं पड़ी। जबकि, यदि नागरिक आपूर्ति विभाग इनसे संबंधित अभिलेखों की जांच करे, तो भ्रष्टाचार की कई परतें खुलेंगी। सूत्रों की मानें तो, सेल्समैन पद पर रह चुके समर बहादुर उचित मूल्य की दुकानों के संचालन में होने वाले भ्रष्टाचार का स्वाद चखते हुए, कहीं घोषित तो कहीं अघोषित तौर पर अपने परिजनों को कई दुकानों के संचालन का जिम्मा सौंपा। बताया गया है कि, इनका सगा भाई आनंद बहादुर सिंह 3 दुकानों का संचालन कर रहा है। वहीं कुछ रिश्तेदार अघोषित रूप से दुकानों का संचालन कर रहे हैं। जबकि, दर्ज अभिलेखों में विक्रेता कोई और हैं।

भ्रष्टाचार की लंबी है दास्तां

यह बात भी सामने आई है कि, धनपुरी में पदस्थ सहकारी बैंक के तत्कालीन प्रबंधक सैयद महमूद के साथ मजदूरों की मजदूरी का 56 लाख, नगद आहरण निकासी पर्ची से किया गया था। जिसकी शिकायत भोपाल स्तर तक की गई थी। उक्त जांच में लेन-देन कर उच्च स्तर से मामले को शांत कर दिया गया था। लैम्पस धनपुरी अंतर्गत जितनी भी उचित मूल्य की दुकानें हैं, उनमें अभिलेखों में दर्ज मात्रा और स्टॉक में रखे अनाज में भरी विसंगतियां हैं। अगर खाद्य विभाग स्टॉक का भौतिक सत्यापन करे, तो निश्चित रूप से भ्रष्टाचार सामने आ जाएगा। वहीं यह भी बताया गया है कि, इन्होंने सेल्समैनों से वेतन बढ़ोत्तरी के नाम पर 15-15 हजार की वसूली की। किसानों से ऋण वापसी में भी खयानात किया गया। जमा की गई रकम की फर्जी पावती दी गई। किंतु, रकम बैंक में जमा नहीं किया गया। जिसकी सूचना किसानों ने थाने में भी की थी। हालांकि, मामला सामने आने और कानूनी कार्रवाई के भय से आनन-फानन में कुछ राशि बैंक में जमा की गई।

भ्रष्टाचार में मिला ऑडिटर का साथ

ऐसा नहीं है कि, समर बहादुर अकेले ही अपने इन कारनामों को अंजाम दे रहे हैं और विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं। बल्कि, यह सारा खेल उपायुक्त सहकारिता शहडोल के दफ्तर में बैठे अमृतलाल गुप्ता नामक ऑडिटर की देख रेख में चलायमान है। बताया गया है कि, लैम्पस धनपुरी के आय-व्यय का ऑडिट वही करते हैं। ऐसे में ऑडिटर पर आरोप लगना लाजमी ही है। जिनके कार्यकाल में तैयार बैलेंस शीटों की भी सूक्ष्मता से जांच किए जाने की आवश्यकता जताई गईहै

इनका कहना है...

धनपुरी लैम्पस से संबंधित कुछ शिकायतें मिलीं हैं। कुछ प्रकरण एसडीएम कोर्ट में भेजे भी गए हैं। 


jile mein bhrashtaachaar karane vaale ko mil rahee sahaayak prabandhak ke pad par padonnat shahadol - jile mein bhrashtaachaar ko lekar hamesha charcha mein rahane vaale sahakaarita vibhaag ka aalam yah hai ki, jis bhee karmachaaree ke naam ke aage bhrashtaachaar kee sueeyaan ghoom raheen hon, aise karmiyon ko vibhaag mein baithe jimmedaar upakrt karane koee bhee avasar nahin chhod rahe. aisa hee ek maamala punah jile ke dhanapuree laimpas se prakaash mein aaya hai. jahaan prabandhak samar bahaadur sinh ko sahaayak prabandhak ke pad par padonnat kiya gaya hai. jabaki, agar ukt laimpas prabandhak ke kaaranaamon kee pheharist khangaalee jae, to inaka bhrashtaachaar pyaaj ke chhilakon ke maanind khulata jaayega. 30 varshon se ek hee jagah raaj bata den ki, vah lagabhag beete teen dashakon se yahaan padasth hain. jaanakaaree ke mutaabik, 30 saal pahale selsamain pad par bhartee hone vaale is shakhs par kabhee bhee jimmedaaron kee najar nahin padee. jabaki, yadi naagarik aapoorti vibhaag inase sambandhit abhilekhon kee jaanch kare, to bhrashtaachaar kee kaee paraten khulengee. sootron kee maanen to, selsamain pad par rah chuke samar bahaadur uchit mooly kee dukaanon ke sanchaalan mein hone vaale bhrashtaachaar ka svaad chakhate hue, kaheen ghoshit to kaheen aghoshit taur par apane parijanon ko kaee dukaanon ke sanchaalan ka jimma saumpa. bataaya gaya hai ki, inaka saga bhaee aanand bahaadur sinh 3 dukaanon ka sanchaalan kar raha hai. vaheen kuchh rishtedaar aghoshit roop se dukaanon ka sanchaalan kar rahe hain. jabaki, darj abhilekhon mein vikreta koee aur hain. bhrashtaachaar kee lambee hai daastaan yah baat bhee saamane aaee hai ki, dhanapuree mein padasth sahakaaree baink ke tatkaaleen prabandhak saiyad mahamood ke saath majadooron kee majadooree ka 56 laakh, nagad aaharan nikaasee parchee se kiya gaya tha. jisakee shikaayat bhopaal star tak kee gaee thee. ukt jaanch mein len-den kar uchch star se maamale ko shaant kar diya gaya tha. laimpas dhanapuree antargat jitanee bhee uchit mooly kee dukaanen hain, unamen abhilekhon mein darj maatra aur stok mein rakhe anaaj mein bharee visangatiyaan hain. agar khaady vibhaag stok ka bhautik satyaapan kare, to nishchit roop se bhrashtaachaar saamane aa jaega. vaheen yah bhee bataaya gaya hai ki, inhonne selsamainon se vetan badhottaree ke naam par 15-15 hajaar kee vasoolee kee. kisaanon se rn vaapasee mein bhee khayaanaat kiya gaya. jama kee gaee rakam kee pharjee paavatee dee gaee. kintu, rakam baink mein jama nahin kiya gaya. jisakee soochana kisaanon ne thaane mein bhee kee thee. haalaanki, maamala saamane aane aur kaanoonee kaarravaee ke bhay se aanan-phaanan mein kuchh raashi baink mein jama kee gaee. bhrashtaachaar mein mila oditar ka saath aisa nahin hai ki, samar bahaadur akele hee apane in kaaranaamon ko anjaam de rahe hain aur vibhaag ke varishth adhikaariyon ko isakee jaanakaaree nahin. balki, yah saara khel upaayukt sahakaarita shahadol ke daphtar mein baithe amrtalaal gupta naamak oditar kee dekh rekh mein chalaayamaan hai. bataaya gaya hai ki, laimpas dhanapuree ke aay-vyay ka odit vahee karate hain. aise mein oditar par aarop lagana laajamee hee hai. jinake kaaryakaal mein taiyaar bailens sheeton kee bhee sookshmata se jaanch kie jaane kee aavashyakata jataee gaeehai inaka kahana hai... dhanapuree laimpas se sambandhit kuchh shikaayaten mileen hain. kuchh prakaran esadeeem kort mein bheje bhee gae hain.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News