चंद्रहासनी मंदिर के पास पूजा सामाग्री बेचने वालों ने पुलिस प्रशासन के विरोध में दुकानें बंद की ki Aajtak24 News

 

चंद्रहासनी मंदिर के पास पूजा सामाग्री बेचने वालों ने पुलिस प्रशासन के विरोध में दुकानें बंद की ki Aajtak24 News 

रायगढ़ - चंद्रहासिनी मंदिर प्रांगण के दुकानदारों ने चंद्रपुर पुलिस प्रशासन की व्यवस्था का पुरजोर विरोध किया,  पूजा सामग्री बेचने वाले दुकान संचालकों ने नवरात्रि के दूसरे दिन 10 अप्रैल की सुबह एकजुट हुए और पुलिस प्रशासन का विरोध करते हुए अपनी - अपनी दुकानों को बंद कर विरोध किया गया। शक्ति जिले की चंद्रपुर नगर पंचायत माता चंद्रहासनी देवी के लिए पूरे प्रदेश में जाना जाता है, हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी मां चंद्रहासिनी देवी की पावन नगरी चंद्रपुर में 9 अप्रैल से चैत्र नवरात्रि पर्व पर प्रारंभ हुआ। भव्य नवरात्रि मेले में जिला पुलिस अधीक्षक अंकिता शर्मा के दिशा- निर्देशन में पुलिस प्रशासन द्वारा इस वर्ष मेले में आने वाले लोगों को बेहतर सुविधाजनक ढंग से दर्शन करने हेतु व्यवस्थाएं बनाने की पहल की गई। बता दें चंद्रपुर मां चंद्रहासनी देवी के लिए ही जाना जाता है यहां हर वर्ष प्रदेश भर से हजारों श्रद्धालु माता का आशीर्वाद प्राप्त करने आते हैं। अन्य वर्ष के मुकाबले इस वर्ष पुलिस प्रशासन धार्मिक मेले में लोगों के सुविधा हेतु व्यवस्था मजबूत बनाने का प्रयास कर रही है, चंद्रपुर थाना प्रभारी नंदलाल राठिया के दिशा निर्देशन में विगत दो- तीन दिनों से निरंतर चंद्रहासिनी मंदिर परिसर के बाहर पूजा सामग्री लगाने वाले दुकानदारों को आग्रह किया गया था कि वे अपनी दुकानों के सामने किसी भी प्रकार की श्रद्धालुओं की छोटी - बड़ी वाहनों को खड़ा ना करवाए और प्रशासन का सहयोग करें किंतु पूजा सामग्री बेचने वालों का कहना है कि चंद्रपुर के मंदिर परिसर के बाहर विगत कई दशकों से निरंतर ऐसी व्यवस्था चली आ रही है तथा पुलिस प्रशासन की नई व्यवस्था हमारे लिए वर्तमान स्थिति में उचित नहीं है दुकानदारों का कहना है कि उन्हें पुरानी व्यवस्था पर ही अपना व्यापार करने दिया जाए वहीं पुलिस प्रशासन भी अपनी नई व्यवस्था बनाने के लिए अड़ गई, इसी को लेकर पूजा सामग्री बेचने वाले दुकानदारों ने सुबह एकत्रित होकर अपनी दुकाने बंद कर पुलिस प्रशासन के खिलाफ मनमानी का आरोप लगाया और विरोध जताते हुए सभी दुकानदारों ने अपनी - अपनी   दुकान बंद कर पुलिस प्रशासन का खुल्ला विरोध सुरु कर दिया। सुबह थोड़ी देर दुकानें बंद रही  जिसकी खबर जिला प्रशासन को हुई उसके बाद तहसीलदार अभिजीत राजभानु, द्वारा पुलिस प्रशासन और दुकानदारों के साथ बैठक किए उक्त बैठक के बाद आपसी सहमति से दुकानदारों ने अपना विरोध खत्म कर दुकान खोलने तैयार हुए।



Those selling puja material near Chandrahasni temple closed their shops in protest against the police administration.

Raigarh - The shopkeepers of Chandrahasini temple premises strongly protested against the arrangement of Chandrapur police administration, the shop operators selling puja material united on the morning of 10th April, the second day of Navratri and protested against the police administration by closing their shops. to be done. Chandrapur Nagar Panchayat of Shakti district is known in the entire state for Mother Chandrahasini Devi, like every year, this year also the festival of Chaitra Navratri started from 9th April in Chandrapur, the holy city of Mother Chandrahasini Devi. Under the direction of District Superintendent of Police Ankita Sharma, the police administration took the initiative to make arrangements for the people coming to the fair this year in a better convenient way for the grand Navratri fair. Let us tell you that Chandrapur is known for Mother Chandrahasni Devi, every year thousands of devotees from all over the state come here to seek the blessings of the Mother. Unlike other years, this year the police administration is trying to strengthen the arrangements for the convenience of the people in the religious fair. Under the direction of Chandrapur police station in-charge Nandlal Rathiya, for the last two-three days, the shopkeepers who have been placing puja material outside the Chandrahasini temple complex have been continuously arrested. They were requested not to park any kind of small or big vehicles of devotees in front of their shops and to cooperate with the administration, but the sellers of puja material say that outside the temple premises of Chandrapur, there has been continuous movement of vehicles for the past several decades. Such a system has been going on and the new system of the police administration is not suitable for us in the present situation. The shopkeepers say that they should be allowed to do their business on the old system, whereas the police administration is also adamant on making its own new system, this is why The shopkeepers selling puja material gathered in the morning and closed their shops and accused the police administration of arbitrariness and in protest, all the shopkeepers closed their shops and started openly protesting against the police administration.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News