इलाज के दौरान मृत्यु हो जाने से परिजनों ने डॉ. देवेंद्र अवस्थी पर लगाया आरोप aarop Aajtak24 News

 

इलाज के दौरान मृत्यु हो जाने से परिजनों ने डॉ. देवेंद्र अवस्थी पर लगाया आरोप aarop Aajtak24 News 

दमोह - पथरिया थाना अंतर्गत ग्राम नंदरुई में पन्नालाल पिता रामदयाल उम्र 50 वर्ष की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई मृत्यु का आरोप परिजनों ने गांव के ही देवेंद्र अवस्थी पर लगाया जो झोला लेकर घर-घर जाकर इलाज करता है, मृतक के भाई और रिश्तेदारों ने बताया कि घर में शादी समारोह था जिसके पश्चात शादी के बाद पन्नालाल को शरीर में थकावट हल्का बुखार और जोड़ों में दर्द हुआ तो वह गांव में ही भ्रमण करने वाले कथा कैच आईटी कहलन वाले डॉक्टर देवेंद्र अवस्थी को बुलाकर इलाज कराया इलाज के दौरान दो इंजेक्शन कूल्हे में लगाए गए एवं तीसरा इंजेक्शन नस में लगाया गया जिसके पश्चात पन्नालाल को मुंह से फसूकर कराया पेट फुल और उसके बाद बेहोस हो गया, जिसको परिजन तुरंत पथरिया के स्वास्थ्य केंद्र ले गए जहां पर उपस्थित डॉक्टरों ने उसे तुरंत दमोह चिकित्सालय के लिए रेफर किया दमोह के चिकित्सक ने उसे मृत घोषित किया, पन्नालाल की मृत्यु गलत इंजेक्शन के कारण हुई या कोई अन्य कारण से यह पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा, लेकिन प्रथम दृष्टि या प्रतीत होता है के इंजेक्शन लगने के कारण ही यह मृत्यु हुई होगी। पथरिया में फल फूल रहे हैं फर्जी कथाकथित  डाक्टर और पैथोलॉजी लैब......... जिला मुख्यालयसे मात्र 27 किलोमीटर दूर पथरिया गलत इलाज करने वाले फर्जी चिकित्सकों का हब बनता जा रहा है,पथरिया में बिना डिग्री धारी या बिना किसी डिप्लोमा धारी अनुभव विहीन होकर चिकित्सालय को धड़ल्ले से चला रहे हैं। प्रमुख चौराहों पर बैठकर नवजात शिशु से लेकर वृद्धो तक का इलाज करने में हिचकिचाते नहीं है, वही दमोह जिले में बंगाली चिकित्सकों या अनुभव विहीन चिकित्सक जो अपने आप को कथाकथित डॉक्टर कहलाने  में बड़ा गर्व महसूस करते हैं जिनके पास ना तो कोई योग्यता है, फिर भी इलाज बड़े से बड़ा करने में पीछे नहीं हटते, फर्जी होने के बाद भी इनके ऊपर किसका संरक्षण होता है। जो यह धड़ल्ले से अपनी फर्जी क्लीनिक खोले रहते हैं, इनकी अज्ञानता के चलते भोले भाले ग्रामीण इसे इलाज करते हैं लेकिन उनको नहीं मालूम कि उनकी इलाज से बीमारी और गंभीर हो जाएगी और फिर बाद में दमोह जाकर उनको मोटी रकम चुका कर अपना इलाज करना पड़ता है आखिर इसका जिम्मेदार कौन है उनका संरक्षण देने वाले या प्रशासन जो उन पर कार्रवाई नहीं करते, वही जबेरा तहसील में बनवार क्षेत्र में ऐसे ही बंगाली एवं फर्जी चिकित्सा फल फूल रहे है, और सीधे-साधे ग्रामीण जन को स्वास्थ्य लाभ देने की बजाय स्वास्थ्य को हानि पहुंचा रहे हैं, वहीं ग्राम के  जनप्रतिनिधि भी ऐसे फर्जी चिकित्सकों का विरोध नहीं कहते भले ही किसी की जान चली जाए गलत इलाज के कारण,  प्रशासन को ऐसे फर्जी चिकित्साको के खिलाफ अभियान चलाकर जांच करनी चाहिए।


ilaaj ke dauraan mrtyu ho jaane se parijanon ne do. devendr avasthee par lagaaya aarop
damoh - pathariya thaana antargat graam nandaruee mein pannaalaal pita raamadayaal umr 50 varsh kee ilaaj ke dauraan mrtyu ho gaee mrtyu ka aarop parijanon ne gaanv ke hee devendr avasthee par lagaaya jo jhola lekar ghar-ghar jaakar ilaaj karata hai, mrtak ke bhaee aur rishtedaaron ne bataaya ki ghar mein shaadee samaaroh tha jisake pashchaat shaadee ke baad pannaalaal ko shareer mein thakaavat halka bukhaar aur jodon mein dard hua to vah gaanv mein hee bhraman karane vaale katha kaich aaeetee kahalan vaale doktar devendr avasthee ko bulaakar ilaaj karaaya ilaaj ke dauraan do injekshan koolhe mein lagae gae evan teesara injekshan nas mein lagaaya gaya jisake pashchaat pannaalaal ko munh se phasookar karaaya pet phul aur usake baad behos ho gaya, jisako parijan turant pathariya ke svaasthy kendr le gae jahaan par upasthit doktaron ne use turant damoh chikitsaalay ke lie rephar kiya damoh ke chikitsak ne use mrt ghoshit kiya, pannaalaal kee mrtyu galat injekshan ke kaaran huee ya koee any kaaran se yah postamaartam ke baad hee pata chalega, lekin pratham drshti ya prateet hota hai ke injekshan lagane ke kaaran hee yah mrtyu huee hogee. pathariya mein phal phool rahe hain pharjee kathaakathit daaktar aur paitholojee laib......... jila mukhyaalayase maatr 27 kilomeetar door pathariya galat ilaaj karane vaale pharjee chikitsakon ka hab banata ja raha hai,pathariya mein bina digree dhaaree ya bina kisee diploma dhaaree anubhav viheen hokar chikitsaalay ko dhadalle se chala rahe hain. pramukh chauraahon par baithakar navajaat shishu se lekar vrddho tak ka ilaaj karane mein hichakichaate nahin hai, vahee damoh jile mein bangaalee chikitsakon ya anubhav viheen chikitsak jo apane aap ko kathaakathit doktar kahalaane mein bada garv mahasoos karate hain jinake paas na to koee yogyata hai, phir bhee ilaaj bade se bada karane mein peechhe nahin hatate, pharjee hone ke baad bhee inake oopar kisaka sanrakshan hota hai. jo yah dhadalle se apanee pharjee kleenik khole rahate hain, inakee agyaanata ke chalate bhole bhaale graameen ise ilaaj karate hain lekin unako nahin maaloom ki unakee ilaaj se beemaaree aur gambheer ho jaegee aur phir baad mein damoh jaakar unako motee rakam chuka kar apana ilaaj karana padata hai aakhir isaka jimmedaar kaun hai unaka sanrakshan dene vaale ya prashaasan jo un par kaarravaee nahin karate, vahee jabera tahaseel mein banavaar kshetr mein aise hee bangaalee evan pharjee chikitsa phal phool rahe hai, aur seedhe-saadhe graameen jan ko svaasthy laabh dene kee bajaay svaasthy ko haani pahuncha rahe hain, vaheen graam ke janapratinidhi bhee aise pharjee chikitsakon ka virodh nahin kahate bhale hee kisee kee jaan chalee jae galat ilaaj ke kaaran, prashaasan ko aise pharjee chikitsaako ke khilaaph abhiyaan chalaakar jaanch karanee chaahie.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News