जय मां वैष्णों देवी यात्रा सेवा समिति चांपा का 10-वीं बार सकुशल यात्रा पश्चात् दिव्य आयोजन aayojan Aaj Tak 24 news

  

जय मां वैष्णों देवी यात्रा सेवा समिति चांपा का 10-वीं बार सकुशल यात्रा पश्चात् दिव्य आयोजन  aayojan Aaj Tak 24 news 

चांपा - जय मां वैष्णों देवी यात्रा सेवा संस्थान चांपा के तत्वावधान में दिनांक 25 नवंबर 2023 से दिनांक 02 दिसंबर , 2023 तक छत्तीसगढ़ सहित निकटवर्ती राज्यों में निवास करने वाले श्रद्धालु तीर्थ यात्रियों के लिए बहुत ही कम रुपयों में यात्रा की व्यवस्था की जाती हैं । गत नौं आयोजनों की सफलता के बाद इस वर्ष के अंतिम माह में 10 बार मां वैष्णों देवी की यात्रा के साथ ,हरिद्वार और अमृतसर के स्वर्ण मंदिर ,बाघा बार्डर और दुर्ग्याना मंदिर का दर्शन करवाया गया। स्पेशल यात्री  ट्रेन में भक्तिमय माहौल बनाये रखने छत्तीसगढ़ अंचल के सुप्रसिद्ध जसगीत गायक देवेश शर्मा  रायगढ़ अपने साथियों के साथ गीत-संगीत के माध्यम से विशेष रुप से प्रस्तुति देते हुए नज़र आये । वे यात्रा के दौरान भक्तिमय संगीत के द्वारा सभी बोगियों में जा-जाकर भक्तिमय वातावरण बनाये रखें थे । इस दौरान जन-जागरण का आयोजन भी किया गया । इस यात्रा से सकुशल वापस लौटने की हर्षित बेला में दिनांक 10 दिसंबर , 2023 को  सायंकाल 06 बजें से गौशाला रोड स्थित डिडवानियां काम्प्लेक्स स्थित कार्यालय भवन परिसर पर कन्यापूजन , भैरव विदाई पूजन ,सेवा-सम्मान समारोह के बाद भोग-भंडारा महाप्रसाद की व्यवस्था रखी गई । जय मां वैष्णों देवी यात्रा सेवा समिति ने कन्यापूजन, भैरव पूजन ,ब्राम्हण भोजन तथा महा भंडारा के आयोजन में तय समय पर श्रद्धालु भक्तजनों को सपरिवार सादर आमंत्रित किया गया था । तय समय से डेढ़ घंटे विलंब से प्रारंभ समारोह में मुख्य अतिथि के रुप में नपाध्यक्ष चांपा जय थवाईत मुख्य अभ्यागत थे । विशिष्ट अतिथि पंडित पद्मेश शर्मा , महेश विरानी,मोहन चेतावनी,एम एल दुबे जी, प्रेस क्लब चांपा के अध्यक्ष सरदार कुलवंत सिंह सलूजा , कोषाध्यक्ष विक्रम तिवारी  उपस्थित रहे । जय मां वैष्णों देवी यात्रा सेवा समिति के मुरली विरानी,पवन यादव , दिनेश थवाईत , कृष्णा देवांगन नेवर सहित अन्यान्य लोगों ने बारी-बारी से आगंतुक अतिथियों का वैष्णवी दुप्ट्टा और पुष्पाहार से स्वागत-सत्कार किया । पंडित शीतल प्रसाद दुबे जी के मंत्रोच्चारण के साथ उत्साह और गरिमामय वातावरण में मां वैष्णव  देवी के पालकी में रखे देवी को नौं शक्ति मानकर 31 कन्याओं का महापूजन किया गया । इस अवसर पर कोच प्रभारियों में मुख्यतः पुनीत स्वर्णकार,राज सोनी, संतोष प्रजापति, रामखिलावन यादव , प्रेम साहू , तेज़ बहादुर सिंह,डांस विकास पाण्डेय,सुमीत पटेल,विक्रांत बघेल, कृष्णा पटेल, विकास पाण्डेय ,सुश्री सिमरन पाण्डेय, सुमति पटेल, ललित मोदी,रामखिलावन राठौर,श्यामसुंदर राठौर,रश्मि चंद्रा, सीमा राठौर , चित्रा राठौर, दीपक कुमार सोनी , ओम सोनी ,, सरिता सोनी, तृप्ति सोनी, सावित्री देवी सोनी , गौरव यादव सहित अनेक लोगों को सेवाभावी व्यक्ति मानकर पुण्यदाई स्वरुप सम्मानित किया गया । शशिभूषण सोनी ने बताया कि कन्या पूजन की हमारे देश में विशेष महत्ता हैं । छोटी-छोटी कन्याओं में ही देवी दुर्गा का स्वरुप देखने के कारण श्रद्धालु भक्त उनकी पूजा-आराधना भक्तिभाव के साथ करते हैं । हमारे वैदिक धार्मिक ग्रंथों में भी कन्यापूजन को अनिवार्य अंग माना गया हैं । ऐसा माना जाता हैं कि दो से दस वर्ष तक की कन्या देवी के शक्ति स्वरुप की होती हैं । वैसे भी हिंदूधर्म में दो-वर्ष की आयु की कन्या को कुमारी कहा जाता हैं । इसके पूजन से दुःख और दरिद्रता समाप्त हो जाती हैं। शशिभूषण सोनी ने आगे बताया कि हमारे देश में कन्या को देवी के रूप में पूजा तो जरुर जाता हैं किन्तु सर्वाधिक अपराध कन्याओं के प्रति हो रहा हैं । ऐसे में कन्या-पूजन की सार्थकता हैं ही कहां  ? जब तक हम कन्याओं को यथार्थ में महाशक्ति या देवी का महाप्रसाद नहीं मानेंगे ,तब तक कन्यापूजन नितांत ढोंग ही माना जाएगा । जय मां वैष्णव देवी सेवा संस्थान ने भक्तिभाव और उक्ति के साथ मां वैष्णव देवी के साथ नौं स्वरुपों की पूजा डिडवानिया काम्प्लेक्स परिसर चांपा में भक्तिभाव से किया हैं, वह अभिनंदनीय हैं, वंदनीय हैं । इस अवसर पर श्रद्धालु तीर्थ यात्र में शामिल श्रीमति सरिता संतोष सोनी, कुमारी तृप्ति सराफ  इतना ही नहीं मां दुर्गा के नौं स्वरुपों को यथार्थ मानकर 31 -कन्याओं का विधि-विधान के साथ पूजन , मंत्रोच्चारण से भैरव‌ विदाई , ट्रेन में सेवा सहभागिता देने वाले कोच प्रभारियों का एक-एक करके  सेवाभाव से सम्मान किया गया । *"प्रेस क्लब , चांपा के अध्यक्ष कुलवंत सिंह सलूजा , संरक्षक भृगुनंदन‌ शर्मा , कोषाध्यक्ष विक्रम तिवारी,स्वणकार समाज के शशिभूषण सोनी ने डिडवानिया परिसर में मां वैष्णों देवी मैय्या की महाआरती में भाग लेकर छोटी-छोटी देवी स्वरुप कन्याओं को विशेष आसन पर विराजित कर लाल चुनरी ओढ़ाई । पूड़ी हलवा, कढ़ी भजियां, दाल चांवल और मिठान्न परोसकर श्रृंगार सामग्री व‌ उपहार की वस्तुएं भेंट की गई । कुलवंत सिंह सलूजा और‌ शशिभूषण सोनी ने आरती में समिति को यथाशक्ति राशिका महादान किया , वहीं  कुछ कन्याओं को राशि देकर लाल चुनरी ओढ़ाईं ।"* बारी-बारी से समिति के सदस्यों और उपस्थित श्रद्धालुभक्त वृंद महिलाओं ने भी कन्यापूजन में सहभागिता दिखाई । कार्यक्रम का सफल संचालन पंडित शीतल दुबे और धन्यवाद पुरुषोतम शर्मा, पवन यादव ने दिया । इस आयोजन में भुवनेश्वर राठौर जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा पूरे कार्यक्रम को श्रृखंलाबद तरीके से कैद किया । आज भी देवी के‌ शक्तिपीठों सहित देवी मंदिरों में कन्याओं की नित्य पूजा होती हैं । वास्तव में शक्ति के अराधक के लिए कन्या ही साक्षात् माता के समान हैं ,संस्था समाज और देश उनकी महत्ता को समझें और उन्हें पुत्रों के बराबर स्थान दें । कार्यक्रम में स भागी कोच प्रभारियों ने भी कन्यापूजन में भाग लिया और अंत में भोग-भंड़ारा महाप्रसाद ग्रहण कर लोग अपने-अपने निवास स्थल की ओर प्रस्थान कर लिये।जय माता दी ।

Post a Comment

0 Comments