आर्ट ऑफ लिविंग का 14 से हैप्पीनेस योग शिविर का आयोजन shivir ka aayojan Aaj Tak 24 news

 


आर्ट ऑफ लिविंग का 14 से हैप्पीनेस योग शिविर का आयोजन shivir ka aayojan Aaj Tak 24 news 

बालाघाट -  पद्म विभूषण मानवतावादी गुरूदेव श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग बालाघाट केंद्र द्वारा छः दिवसीय हैप्पीनेस योग शिविर(आनन्द अनुभूति कार्यक्रम) का आयोजन स्थानीय होटल वैध रिजैन्सी के सभाग्रह में 14 से 19 मार्च तक सुबह 06:00 से 09:00 बजे रविवार तक आयोजित किया गया है। उक्ताशय की जानकारी देते हुए प्रशिक्षक सुरजीत सिंह ठाकुर ने बताया कि श्री श्री के अनुसार हिंसा मुक्त समाज, रोग मुक्त शरीर, संभ्रान्ति मुक्त मन, शंका रहित बुद्धि, सदमा रहित स्मरण शक्ति, शारिरीक क्षमतायुक्त शरीर और एक दुःख रहित आत्मा प्रत्येक व्यक्ति का जन्मसिद्ध अधिकार है। इसी उद्देश्य के साथ शिविर के माध्यम से सांसारिक व अध्यात्मिक ज्ञान एवं योग, ध्यान, प्राणायाम के साथ विश्वविख्यात सुदर्शन क्रिया की प्रक्रियाओं को मनोरंजक क्रियाओं एवं आपसी संवाद के जरिये सिखाया जाता है ।जिससे स्वस्थ शरीर तनाव एवं नकारात्मक विचारों से मुक्ति, अधिक आत्मविश्वास, एकाग्रता, निर्णय लेने की क्षमता,खुशहाल जीवन और मन की शांति के साथ ही दैनिक जीवन उपयोगी सरल ज्ञान और प्रक्रियाओं के माध्यम से तनाव मुक्त होते हुए जीवन में खुशी और सफलता के सूत्र भी सिखाये जायेंगे। इस शिविर में 16 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के सभी लोग शिविर में शामिल हो सकते है।

प्राणायाम, ध्यान, आसन, योग एवं सुदर्शन क्रिया लाभकारी

आगे जानकारी देते हुए बताया कि आर्ट ऑफ लिविंग संस्था द्वारा आमजनों को शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य लाभ दिलाने के लिए इस शिविर के अंतर्गत प्राणायाम, ध्यान, आसन एवं योग के साथ- साथ विश्वविख्यात “सुदर्शन क्रिया“ क्रिया सिखाई जाती है जिससे अनेक लाभ होते हैं। जो कि हमें शारीरिक एवं  मानसिक रूप से स्वस्थ्य रखने में सहायक होती है। हैप्पीनेस प्रोग्राम आनन्द अनुभूती 6 दिवसीय योग शिविर में योग-ध्यान कार्यशाला को प्रशिक्षकों द्वारा करवाया जायेगा। जीवन का गूढतम रहस्य हमारी साँसों में छिपा होता है।यह शिविर श्वास प्रक्रिया द्वारा शरीर व मन को लयबद्ध करता है ।जिसका मुख्य उद्देश्य आम लोगों को अच्छा स्वस्थ्य एवं खुशी प्रदान करना है। व्यक्ति सुख, शांति, आनंद एवं स्वतंत्रता का अनुभव सहजता से कर सके यह ही शिविर का उद्देश्य है। उन्होंने बताया कि योग हमारी हजारों वर्ष पुरानी सांस्कृतिक धरोहर एवं परंपरा है। गुरूदेव श्री श्री कहते हैं हम अपने जीवन में जो कोई भी कार्य करते हैं वह खुशी की तलाश में ही किया जाता है। खुशी की चाबी आपके हाथ में ही है। इसीलिये सांस के रहस्य को जाने। आपकी श्वांस द्वारा ही जीवन में मुस्कान को लाना इतना ही आसान है। आप किसी भी आर्ट ऑफ लिविंग प्रशिक्षक से पूछेंगे कि एक स्थिर मुस्कान को कैसे प्राप्त किया जा सकता है तो आपको एक बहुत आसान परंतु गहन ज्ञान मिलेगा। आपने कभी इस बात पर ध्यान दिया है कि हमारे सांस लेने की प्रक्रिया हमारी भावनाओं के साथ बदलती है? जब भी आपको क्रोध आता है, आपकी सांस की क्या गति होती है? आप छोटी एवं तेज गति से सांस लेते है। जब आप आराम व सुखमयी स्थिति में होते हैं, तब कैसे सांस लेते हैं? तब आप लंबी एवं गहरी सांस लेते हैं। इससे यही तात्पर्य निकाला जा सकता है कि हमारी श्वास हमारी भावनाओं के साथ जुड़ी हुई है। ऐसा संभव है कि हमारे भीतर की नकारात्मक भावनाओं को सांस द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। हैप्पीनेस कोर्स का लक्ष्य है कि आप अपने जीवन में खुशी को इस प्रकार महसूस करें जैसे आपने पहले कभी नही किया। योग, बीमारी ही नहीं योग से दैनिक दिनचर्या में आने वाले तनाव से मुक्ति और सजगता का विकास पूर्ण रूप से वर्तमान में जीना सीखता है, वहीं हमारी शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है। भारत मे लगभग 10 % से अधिक लोग नींद की बीमारी से जूझ रहे हैं। और नींद की गोलियों के अपने दुष्प्रभाव हैं। सीखिए सुदर्शन क्रिया और केवल अपनी साँस की विशेष तकनीक से पाइये अच्छी गहरी नींद और साथ ही स्वस्थ शरीर तथा तनावरहित मन। प्राणायाम, ध्यान, आसन,योग एवं सुदर्शन क्रिया से व्यक्ति शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ्य रहता है।

वैश्विक स्तर पर हुए अनेक शोध परिणामों में पाए गए सुदर्शन क्रिया के लाभ

वैश्विक स्तर पर हुए अनेक शोध परिणामों में पाए गए सुदर्शन क्रिया के कई लाभ बताये गये है। जिसमें तनाव के समय उत्सर्जित होने वाला हार्मोन कम होता है, खून में लैकटेट का स्तर कम होता है। हानिकारक कोलेस्ट्रॉल कम होता है और लाभकारी कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है। मस्तिष्क को तनाव रहित करने वाला हार्मोन बढ़ता है। शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।तनाव रहित शांत मन,स्वस्थ शरीर एवं भरपूर स्फूर्ति, जीवन में आनंद एवं उत्साह, आत्मिक खोज एवं आध्यात्मिक उन्नति, चिंताओं उत्तेजनाओं एवं अवसाद से मुक्ति बेहतर भावनात्मक एवं मानवीय संबंध, बेहतर शरीरिक क्षमता, बेहतर एकाग्रता, क्रोध पर नियंत्रण जैसे लाभ होते हैं।

शिविर का लाभ उठाने स्वयंसेवको ने की अपील

आगामी 14 मार्च से आयोजित होने वाले हैप्पीनेस शिविर का लाभ उठाने की अपील नगर के प्रबुद्ध नागरिकों से  आर्ट ऑफ लिविंग स्वयंसेवक विकास सोनेकर, श्रीमती सुशीला बोरीकर, ऋतु मोहारे,रमेश रंगलानी,सुरजीत सिंह ठाकुर, ज्ञान नैनवानी,जितेन्द्र मोहारे, कुमुद राहंगडाले,मौसम हरिनखेरे,डाँ.हेमन्त राहंगडाले,डाँ.सुनीती राहंगडाले,भूपेन्द्र टेंभरे, अनिल वाधवानी,गीता रंगलानी,जैनेन्द्र कटरे,संजू वराडे,प्रकाश साहू,करण बिसेन,विक्की पालेवार सहित अन्य लोगों ने की है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

कुल देवी देवताओं के प्रताप से होती है गांव की समृद्धि smradhi Aajtak24 News