श्रीमद्भागवत कथा में तीसरे दिन जड़भरत चरित्र एवं नरसिंह अवतार कथा संवाद का वर्णन किया | Shrimad bhagwat katha main tisre din jadbharat charitr evam narsingh avtar katha sanvad ka varnan kiya

श्रीमद्भागवत कथा में तीसरे दिन जड़भरत चरित्र एवं नरसिंह अवतार कथा संवाद का वर्णन किया

श्रीमद्भागवत कथा में तीसरे दिन जड़भरत चरित्र एवं नरसिंह अवतार कथा संवाद का वर्णन किया

बोरगांव (चेतन साहू) - सार्वजनिक माऊली सेवा समिति बोरगांव द्वारा  श्री हनुमान मंदिर पर चल रही कथा में व्यासपीठ से ह.भ.प.धनजय महाराज मोरे का श्रीमद्भागवत कथा में तीसरे दिन बुधवार को जड़भरत चरित्र एवं नरसिंह अवतार कथा संवाद का वर्णन किया गया | कथा के दौरान प नरसिंह  और हिरणाकश्यप अवतार की झांकी ने भक्तोंं को खूब आकर्षित किया | कथावचन मेंं राधे-श्याम के भजनोंं से पूरा माहौल भक्तिमय हो उठा| व्यास पं.धनजय महाराज मोरे ने जड़ भरत की कहानी सुनाते हुए कहा कि संसार के सभी रिश्ते स्वार्थ के हैं, हर रिश्ते को निभाने में स्वार्थ छुपा है। सिर्फ पति-पत्नी का रिश्ता ऐसा है जिसमेंं स्वार्थ नहींं होता इसीलिए पति-पत्नि रुपी गाड़ी के दोनों पहिये एक दूसरे के पूरक हैं महिलाओंं को अपने साथ-साथ पति को भी भक्ति मार्ग पर ले जाकर भवसागर पार करना चाहिए।

*80 लाख से अधिक विजिटर्स के साथ बनी सर्वाधिक लोकप्रिय*

*आपके जिले व ग्राम में दैनिक आजतक 24 की एजेंसी के लिए सम्पर्क करे - 8827404755*

Post a Comment

0 Comments