मानव जीवन शैली को प्रभावित करता मोबाइल का ज्यादा उपयोग | Manav jivan shelly ko prabavit karta mobile ka jyada upyog

मानव जीवन शैली को प्रभावित करता मोबाइल का ज्यादा उपयोग

मनावर (पवन प्रजापत) - दिनांक 14.11.2021 को संजय वर्मा "दृष्टि "125 शहीद भगत सिंग मार्ग मनावर(धार)म.प्र.के शब्दों में मोबाइल पर विचार:

जिन्दगी अब तो हमारी मोबाइल हो गई भागदौड़ मे तनिक सुस्तालू सोचता हूँ मगर रिंगटोनों से अब तो रातें भी हेरान हो गई ।

बढती महंगाई मे बेलेंस डलवाने की आदत हो गई रिसीव काल हो तो  सब ठीक है मगर डायल हो तो जैसे जुबां की बातें छोटी हो गई ।

मिस्काल मारने की कला पहले चलती थी जैसे था पकड़म -पाटी की रेस हो गई इसे कहे शब्दों का खेल हम पहले लगने लगता था जैसे शब्दों की प्रीत पराई हो गई ।

पहले -आप पहले -आप की अदा लखनवी हो गई थी यदि पहले उसने उठा लिया तो ठीक मगर मेरे पहले उठाने पर मेरे माथे की लकीरे चार हो गई थी ।

मिस्काल से झूठ बोलने की तो आदत सी हो गई थी बढती महंगाई का दोष अब किसे दे मगर हमारी आवाजे भी तो उधार हो गई ।

दिए जाने वाले कोरे आश्वासनों की भरमार हो गई अब रहा भी तो नहीं जाता मोबाइल के बिना गुहार करते रहने की तो जैसे हमारी आदत हो गई ।

मोबाइल ग़ुम हो जाने से जिन्दगी चकरा सी गई  हर एक का पता किस -किस से पूछें बिना नम्बरों के तो जैसे आवाज पहाड़ से टकरा गई ।

*दैनिक आजतक 24 अखबार से जुड़ने के लिए सम्पर्क करे +91 91792 42770*

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

सरपंचों के आन्दोलन के बीच मंत्री प्रहलाद पटेल की बड़ी घोषणा, हर पंचायत में होगा सामुदायिक और पंचायत भवन bhawan Aajtak24 News