झिरिया में डूबने से तीनों मासूमों की मौत, परिजनों के नहीं थम रहे आंसू | Jhiriya main dubne se teeno masoomo ki mout

झिरिया में डूबने से तीनों मासूमों की मौत, परिजनों के नहीं थम रहे आंसू

झिरिया में डूबने से तीनों मासूमों की मौत, परिजनों के नहीं थम रहे आंसू

अमरवाड़ा - सोमवार की दोपहर से लापता हुए तीनों नाबालिक बच्चों की खमरा रोड पर गरमेटा मंदिर के समीप की झिरिया में डूबने से मौत हो गई है|

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुराने कॉलेज के पीछे रहने वाले कार्तिक पिता सतीश वर्मा उम्र 8 वर्ष, यस पिता जीवन साहू उम्र 8 वर्ष और श्रेयांश पिता अशोक यादव सावन सोमवार की पूजा अर्चना करने के बाद गरमेटा मंदिर शिव धाम गए हुए थे| वापसी के दौरान जब पहाड़ी से उतर रहे थे| तब अचानक तीनों बच्चों की साइकिल अनियंत्रित हो जाने के कारण झिरिया में जा गिरी| वही तीनों बच्चे झिरिया के पानी में डूब गए| देर रात उनकी साइकिल झिरिया के बाहर पड़ी मिली|

इसके पूर्व बच्चों के लापता होने पर स्थानीय प्रशासन ने पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल को घटना की सूचना दी| वहीं पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में एसडीएम दीपक वैद्य के मार्गदर्शन में तहसीलदार शंकर लाल मरावी, पटवारी राजस्व निरीक्षक की टीम अलग से बच्चों की तलाश करते रहे| वहीं पुलिस की टीम में अनुविभागीय पुलिस अधिकारी संतोष डेहरिया, नगर निरीक्षक राजेंद्र सिंह सहित समस्त दलबल धार्मिक स्थलों मे जांच कर तीनों बच्चों को तलाशते हुए गरमेटा मंदिर पहुंचे| जहां उन्हें साइकिल पड़ी हुई देखी| शक होने पर झिरिया में तलाश शुरू की गई जहां पर देर रात्रि गोताखोरों एवं नगरपालिका की टीम के सहयोग से झिरिया में तलाश की गई| जहां दो बच्चों के शव निकाले गए| वही काफी कड़ी मशक्कत के बावजूद तीसरे बालक का शव भी निकाला गया| तीनों के शव रात में अमरवाड़ा के मरचुरि कक्ष में रखवाए गए हैं|

परिजनों को इसकी जानकारी मिलते ही उनके घरों में कोलाहल मच गया| इनमें से श्रेयांश पांच बहनों में इकलौता भाई था और कुछ माह पूर्व ही उसके पिता का निधन हुआ था| वही यह साहू घर का इकलौता पुत्र था उसकी एक बहन है| वहीं इस पूरे मामले में आशंका जताई जा रही है कि तीनों बालक नहाने के लिए झिरिया में उतरे होंगे|

Post a Comment

0 Comments