बारिश की बेरुखी से सुख रही मक्के की फसल किसान चिंतित | Barish ki berukhi se sukh rhi makke ki fasal kisan chintit

बारिश की बेरुखी से सुख रही मक्के की फसल किसान चिंतित

बारिश की बेरुखी से सुख रही मक्के की फसल किसान चिंतित

हर्रई (रत्नेश डेहरिया) - हर्रई सहित आसपास के ग्रामीण इलाकों में पानी ना गिरने से अब किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें बन गई है। विदित हो कि इस वर्ष शुरुआती समय में पानी अच्छा गिरा था तदोपरांत धीरे-धीरे वह कम होता गया। कई ग्रामीण इलाकों में राम नाम सत्ता का आयोजन किया जा रहा है तो कहीं हवन और कथा के कार्यक्रम किए जा रहे हैं ताकि समय पर वर्षा हो सके और अच्छी खासी फसल की पैदावार हो पाए। कई ग्रामीण क्षेत्रों में तो बद से बदतर हालत हो गई है। किसान अब सूखी और पीली पड़ी फसलों को काटकर पशुओं को खिला रहे है। मौसम विभाग भी अब बरसात होने का सटीक अनुमान नहीं लगा पा रहा है। बरहाल इस पूरे माहौल पर किसानों की चिंता बढ़ गई है और अब किसान खेतों में लगी फसल को लेकर काफी चिंतित हैं।

बारिश की बेरुखी से सुख रही मक्के की फसल किसान चिंतित

Post a Comment

0 Comments