जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक सम्पन्न, सदस्यों ने कोविड रोकथाम हेतु दिये आवश्यक सुझाव | Jila crises management samiti ki bethak sampann

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक सम्पन्न, सदस्यों ने कोविड रोकथाम हेतु दिये आवश्यक सुझाव

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक सम्पन्न, सदस्यों ने कोविड रोकथाम हेतु दिये आवश्यक सुझाव

उज्जैन (रोशन पंकज) - बुधवार को बृहस्पति भवन में सभाकक्ष में जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिले के कोरोना प्रभारी एवं उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव, सांसद श्री अनिल फिरोजिया, विधायक श्री पारस जैन, विधायक श्री महेश परमार, विधायक श्री रामलाल मालवीय, जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री विभाष उपाध्याय, श्री बहादुरसिंह बोरमुंडला, श्री विवेक जोशी, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री सत्येन्द्र कुमार शुक्ल, एडीएम श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी, नगर निगम आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल, सीईओ जिला पंचायत श्री अंकित अस्थाना, सीएमएचओ डॉ.महावीर खंडेलवाल, अपर कलेक्टर श्री जितेन्द्रसिंह चौहान, श्री एसएस रावत मौजूद थे। साथ ही वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बड़नगर विधायक श्री मुरली मोरवाल, नागदा-खाचरौद विधायक श्री दिलीप गुर्जर, महिदपुर विधायक श्री बहादुरसिंह चौहान एवं समस्त एसडीएम ने बैठक में सहभागिता की। 

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक सम्पन्न, सदस्यों ने कोविड रोकथाम हेतु दिये आवश्यक सुझाव

बैठक में समिति के सदस्य और जनप्रतिनिधियों द्वारा उज्जैन जिले में विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की स्थिति और उपचार पर विचार-विमर्श किया गया। जिले के कोविड प्रभारी मंत्री डॉ.यादव ने बैठक में कहा कि हमें मिलजुल कर इस वैश्विक महामारी से लड़ना है। समिति के सदस्यों द्वारा निम्नलिखित महत्वपूर्ण सुझाव दिये गये :-


लॉकडाउन में व्यापारी वर्ग की परेशानी को देखते हुए कुछ घंटे दुकानें खोली जाने की छूट दी जाये। शादी एवं अन्य मांगलिक कार्यक्रमों के मद्देनजर अन्य सभी दुकानों को कुछ समय के लिये खोलने की अनुमति दी जाये।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए ऑक्सीजन बेड और बढ़ाये जाने तथा निजी अस्पतालों को बतौर कोविड केयर सेन्टर चिन्हित किये जाने पर विचार-विमर्श किया गया।

कजलाना बड़नगर में निर्माणाधीन शासकीय अस्पताल को शीघ्र-अतिशीघ्र पूर्ण कराये जाने के लिये कहा गया।

तहसीलों में अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड की व्यवस्था बढ़ाये जाने पर चर्चा की गई।

उद्योगों में इस्तेमाल होने वाले ऑक्सीजन सिलेण्डर/पम्प को अस्पतालों में उपयोग में लाने का सुझाव दिया गया।

शासकीय के अलावा निजी एवं सेवा निवृत्त एमडी चिकित्सकों की सेवाएं लिये जाने पर चर्चा की गई।

जगोटी में टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने का सुझाव दिया गया।

तहसील स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाओं का विकेन्द्रीकरण किये जाने पर विचार किया गया।

रेमडीसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी पर प्रभावी कार्यवाही करने का सुझाव दिया गया।

लॉकडाउन के दौरान दिहाड़ी मजदूरों का भी विशेष ध्यान रखा जाये।

बड़े भवनों में कोविड केयर सेन्टर बनाये जायें। नर्सिंग कॉलेज के स्टाफ की भी कोविड संक्रमण की रोकथाम हेतु ड्यूटी लगाई जाये।

मेडिकल इंश्योरेंस में कोविड-19 को भी शामिल करवाया जाये, क्योंकि जिन व्यक्तियों ने इंश्योरेंस करवा रखा है, उन्हें मेडिक्लेम में काफी परेशानी हो रही है।

बैठक में की गई चर्चा अनुसार शादी एवं अन्य मांगलिक कार्यक्रमों के सम्बन्ध में गाईड लाइन तीन दिन बाद विचार-विमर्श के पश्चात दी जायेगी।

जनप्रतिनिधि अपने-अपने क्षेत्रों में लोगों से मास्क पहनने का निवेदन करेंगे।

विभिन्न तहसीलों में लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं जैसे किराना, दूध आदि की दुकानें कब खोली जाना है, इसकी समयावधि स्थानीय जनप्रतिनिधि और एसडीएम बैठक कर तय करेंगे।

तहसीलों में निजी अस्पतालों में जहां-जहां ऑक्सीजन बेड की केपिसिटी बढ़ सकती है, वहां जिला स्तर से हरसंभव सहयोग किया जायेगा।

उज्जैन में मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े लोगों की बैठक समय-समय पर आयोजित की जाये।

बैठक में जनअभियान परिषद की “मैं भी कोरोना वालेंटियर” योजना के बारे में सभी को जानकारी दी गई।

बैठक में जानकारी दी गई कि ओखलेश्वर में शमशान घाट प्रारम्भ कर दिया गया है।

Post a Comment

0 Comments