पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस ने मप्र सरकार के कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर बताई उपलब्धियां | Purv mantri archana chitnis ne MP sarkar ke karyakal ka ek saal pura hone pr batai uplabdhiya

पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस ने मप्र सरकार के कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर बताई उपलब्धियां

पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस ने मप्र सरकार के कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर बताई उपलब्धियां

बुरहानपुर (अमर दिवाने) - म.प्र. की भाजपा सरकार के एक वर्ष पूर्ण होने पर सोमवार को भाजपा कार्यालय में पत्रकार वार्ता हुई। जिसे पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस ने संबोधित कर प्रदेश सरकार की उपलब्धियां गिनाई। भारतीय जनता पार्टी द्वारा किए गए विकास कार्य का लेखा जोखा पेश किया। साथ ही 15 महीने की कांग्रेस की सरकार को लेकर कहा कि 15 महीने में कांग्रेस सरकार ने प्रदेश के गरीबों के लिए कुछ नहीं किया। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज लधवे, पूर्व विधायक रामदास शिवहरे, पूर्व फेडरेशन अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटिल, पूर्व महापौर अनिल भोसले, सांसद पुत्र हर्षवर्धनसिंह चौहान, युवराज महाजन सहित भारतीय जनता पार्टी के सभी पदाधिकारी मौजूद थे।

पूर्व मंत्री चिटनीस ने कहा कि आज पत्रकार वार्ता रखने का मुख्य उद्देश्य यह है कि प्रदेश सरकार की उपलब्धि जनजन तक पहूँचे। शिवराजसिंह चौहान के मुख्यमंत्री बनने के बाद मप्र देश में प्रथम रहा। गेहूं खरीदी, रोड निर्माण, मनरेगा में आगे रहे। आयुष्मान कार्ड जनरेशन में भी मप्र प्रथम है। मोबाइल के माध्यम से लोक सेवा प्रदान करने के काम कमलनाथ के समय में बंद था। समाधान एक दिन के माध्यम से हम प्रथम हैं। कोविड टीकाकरण में देश में दूसरे स्थान पर है। जल जीवन मिशन में केवल दो ही जिले चुने गए थे। जिसमें बुरहानपुर शामिल था। इसके लिए सांसद नंदकुमारसिंह चौहान ने प्रयास किए। मार्च के अंत तक जिले में हर घर में जल मिलने लगेगा।

पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस ने मप्र सरकार के कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर बताई उपलब्धियां

कोरोना काल में भी सरकार ने हर वर्ग की मदद की

भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज लधवे ने कहा कि 23 मार्च 2020 को कोरोना की विकट परिस्थितियों में शिवराजसिंह चौहान ने मुख्यमंत्री के रूप में बागडोर संभाली थी। पूरा प्रदेश तक कोरोना की जकड़ में था। कमलनाथ सरकार ने समुचित उपाय नहीं किए थे। प्रदेश में मात्र तीन टेस्टिंग लैब थी। जिनकी क्षमता 300 प्रतिदिन थी। हमारी सरकार ने लैब की संख्या 32 कर दी और टेस्टिंग की क्षमता को 33 हजार पर पहुंचा दिया। मप्र में बाहर से रोजगार छोड़कर आए मजदूरों के लिए श्रम सिद्धि अभियान चलाया। एक साल के भीतर सभी प्रकार के माफियाओं के खिलाफ जबरदस्त अभियान चला। अभी तक 60 साल से अधिक आयु के 3 लाख 88 हजार से अधिक गंभीर बीमारियों से ग्रसित 53 हजार से अधिक लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। स्कूली बच्चों के लिए ऑनलाइन शिक्षा की व्यवस्था की गई।  

हर क्षेत्र में हम हो रहे देश में अग्रणी

गेहूँ उपार्जन में सम्पूर्ण देश में प्रथम स्थान पर।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में गुणवत्ता मानकों और सड़क निर्माण की प्रगति के आधार पर देश में प्रथम स्थान

मनरेगा अंतर्गत श्रमिक नियोजन करने वाले राज्यों की श्रेणी में देश प्रथम स्थान पर।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के क्रियान्वयन में दिशा में प्रथम स्थान पर।

आयुष्यमान प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना अंतर्गत कार्ड जनरेशन में देश में प्रथम स्थान पर।

तेंदुओं की आबादी में मध्यप्रदेश को पहला स्थान।

मोबाईल के माध्यम से लोक सेवाएं प्रदान करने के लिए सी.एण जनसेवा योजना प्रारंभ करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है।

समाधान एक दिन के माध्यम से 24 घण्टे में चिन्हित सेवाएं प्रदान करने वाला देश का प्रथम राज्य है।

बिजली की ट्रान्समीशन हानियाँ मात्र 25 प्रतिशत रह गई है जो पूरे देश में न्यूनतम ट्रान्समीशन हानियों में से एक है। ।

स्व-सहायता समूहों को ऋण वितरण में देश में द्वितीय स्थान

पी.एम. स्वनिधि योजना ऋण वितरण में देश में द्वितीय स्थान।

स्मार्ट सिटी मिशन रकिंग में देश में मध्यप्रदेश को दूसरा स्थान। 

कोविड टीकाकरण में मध्यप्रदेश देश में द्वितीय स्थान पर है ।

जल जीवन मिशन में 25 लाख से अधिक नल कनेक्शन का लक्ष्य वाले राज्यों में देश में तृतीय स्थान पर।

जल जीवन मिशन में भीतिक उपलब्धि के प्रतिशत में मध्यप्रदेश, देश में द्वितीय स्थान पर है।

मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है जिसे जल जीवन मिशन में भारत सरकार से अनुदान की तीसरी किश्त प्राप्त हुई है ।

ग्रामीण उद्यमिता कार्यक्रम में पूरे देश में तीसरे स्थान पर। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रेकिंग में देश में चतुर्थ स्थान पर।

पर्यटन की दृष्टि से दुनिया के 10 बेस्ट वैल्यू डेस्टीनेशन्स की रेकिंग में मध्यप्रदेश तीसरे स्थान पर है।

Post a Comment

0 Comments