बिना अनुमति की जा रही अवैध ब्लास्टिंग | Bina anumati ki ja rhi awaidh blasting

बिना अनुमति की जा रही अवैध ब्लास्टिंग

बिना अनुमति की जा रही अवैध ब्लास्टिंग

डिंडौरी (पप्पू पड़वा) - जिले के विकासखंड समनापुर अंतर्गत ग्राम पंचायत झांखी के बैगा टोला में क्रेशर मशीन संचालित करने वाली जीआरटीसी कंपनी पर अवैध रूप से ब्लास्टिंंग के आरोप लग रहे हैं। बिना अनुमति की जा रही अवैध ब्लास्टिंग के चलते खनिज संपदा को नुकसान हो रहा है। पिछले कई महीनों से की जा रही ब्लास्टिंग को रोकने के लिए जिम्मेदार अधिकारी कोई पहल नहीं कर रहे हैं। आरोप है कि इसके बाद भी क्रेशर संचालक बेरोकटोक विस्फोट करने में जुटा हुआ है। ऐसे में झांखी गांव की कई हेक्टेयर भूमि में गहरी खाई बन गई हैं।

बिना अनुमति की जा रही अवैध ब्लास्टिंग

गड्ढा लोगों के लिए बना जानलेवा

डिंडौरी से बिछिया मुख्य मार्ग के किनारे बोल्डर निकालने के चक्कर में क्रेशर संचालक द्वारा रोड के किनारे बड़ा गड्डा कर दिया गया है। बरसात के दिनों में पानी भर जाने पर कभी भी हादसा हो सकता है। रोड से सटे अवैध खदान में दिन दहाड़े हो रही ब्लास्टिंग से आसपास के लोग डरे सहमे हैं। राहगीरों को आने जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पिछले कुछ दिनों में दुर्घटनाएं भी हो चुकी हैं। मुख्य मार्ग के किनारे ब्लास्टिंग कर बनाए गए गड्ढे बरसात में तालाब में तब्दील हो जाते हैं, जिससे दुर्घटनाओं का अंदेशा बना रहता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि क्रेशर संचालक द्वारा अपने लाभ के चक्कर में दूसरों की जान से खिलवाड़ करने में आमादा है। क्रेशर बैगा आदिवासियों वाले रहवासी क्षेत्र से लगभग 300 मीटर पर स्थित है। ब्लास्टिंग से पत्थर के टुकड़े उछलकर आसपास स्थित घरों में गिरते हैं। साथ ही जोरदार धमाकों से गरीबों के मकान में दरार आ रही हैं।

नियमों की कर रहे अनदेखी

ग्राम पंचायत झांखी का बैगा टोला मुख्य मार्ग के करीब है। ऐसे में लोगों का आना जाना दिन भर लगा रहता है। यहां बिना सूचना के किसी भी समय ब्लास्टिंग शुरू कर दी जाती है, जिससे जान माल का खतरा बना रहता है। राहगीर भी इस रास्ते में आने जाने से कतराने लगे हैं, लेकिन अन्य कोई मार्ग न होने से उन्हें इसी रास्ते से आना जाना पड़ता है।

गड़बड़ा रहा है भू-जल स्तर

जानकारों की मानें तो मप्र खनन अधिनियम में खदान संचालकों को समतल क्षेत्र में छह मीटर और पहाड़ी क्षेत्र में आठ मीटर से अधिक खनन की अनुमति नहीं दी जाती है। अनुमति नहीं होने के बाद भी समनापुर के खनन क्षेत्रों में वैध और अवैध खदान संचालक अत्यधिक गहराई तक खनन कर चुके हैं। वर्तमान में भी इन खदानों के तल में विस्फोटक लगाकर ब्लास्टिंग की जा रही है, जिससे भूजल स्तर भी गड़बड़ा रहा है। सरपंच सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि बैगा टोला में ब्लास्टिंग किए जाने से गांव का जल स्तर नीचे खिसक गया है और पानी की समस्या बढ़ने लगी है। यदि समय रहते अवैध ब्लास्टिंग पर रोक नहीं लगाई जाती है तो आने वाले दिनों में पानी की किल्लत बढ़ जाएगी। झांखी के जिस आदिवासी ग्रामीण की निजी भूमि को क्रेशर मशीन के लिए लीज पर लिया गया है, वहां आसपास अपने मवेशी चराने जाने वाले ग्रामीण भी हादसों से बेखबर है।

इनका कहना है

इस मामले की जानकारी मिल रही है। तत्काल पटवारी को मौके पर भेजता हूं। जांच में मनमानी सामने आने पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

दिलीप मरावी

नायब तहसीलदार समनापुर।

Post a Comment

0 Comments