एक परिसर एक शाला संबंधित बेठक मे बीईओ एवं बीआरसी ने प्राचार्यो को जानकारी साझा की | Ek parisar ek shala sambandhit bethak main beo evam brc

एक परिसर एक शाला संबंधित बेठक मे बीईओ एवं बीआरसी ने प्राचार्यो को जानकारी साझा की

एक परिसर एक शाला संबंधित बेठक मे बीईओ एवं बीआरसी ने प्राचार्यो को जानकारी साझा की

आलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - कट्ठीवाडा बीईओ अच्छेलाल प्रजापति एवं बीआरसी शंकर जाटव ने ”एक परिसर एक शाला” के संबंध में जनपद षिक्षा केन्द्र कार्यालय कट्ठीवाडा में बैठक के माध्यम से संबंधित प्राचार्य एवं षिक्षकगण को आवष्यक जानकारी प्रदान की। बैठक में विभिन्न शासकीय विद्यालय के ंप्राचार्यगण उपस्थित थे। बैठक को संबोधित करते हुए बीईओ श्री प्रजापति एवं बीआरसी श्री जाटव ने बताया कि एक परिसर एक शाला के तहत 150 मीटर की परिधि में एक ही परिसर में सम्मिलित प्राथमिक शाला, माध्यमिक शाला, हाईस्कूल एवं हायर सेकेण्डरी शालाओं जो पृथक-पृथक इकाई के रूप में संचालित है तथा उक्त विद्यालयों का शैक्षणिक एवं प्रशासकीय नियंत्रण अलग-अलग प्रधानाध्यापक अथवा प्राचार्य के द्वारा किया जा रहा है, को एक ही परिसर में स्थित विभिन्न विद्यालयों में उपलब्ध मानवीय एवं भौतिक संसाधनों का अधिकतम और प्रभावी उपयोग एवं एक ही परिसर में संचालित आश्रम शालाओ, प्राथमिक, माध्यमिक, हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी को एकीकृत विद्यालय के रूप में संचालित किया जाना है। एक परिसर में संचालित विभिन्न स्तर की शालाओं के एकीकरण उपरांत एकीकृत शाला का नाम वरिष्ठ स्तर की शाला के नाम से जाना जावेगा। उन्होंने बताया यदि किसी शाला परिसर में वर्तमान में कोई शाला किसी महापुरूष, विभूति के नाम से संचालित है, तो एकीकृत शाला का भी वही नाम रखा जावेगा। साथ ही ‘‘एक परिसर एक शाला‘‘ के चिन्हांकन के उपरांत पूर्व से संचालित विद्यालय जो 150 मीटर की परिधि में नही आते है, वे सभी विद्यालय यथावत संचालित होगें। एक परिसर में स्थित समस्त विद्यालयों का शैक्षणिक एवं अन्य अमला एकीकृत विद्यालय के अमले के रूप में माना जाकर यथावत कार्य करता रहेगा एवं एकीकृत शाला के प्राचार्य, प्रधानाध्यापक के प्रशासकीय नियंत्रण में कार्य करेगा। उन्होंने बताया ‘‘एक परिसर एक शाला‘‘ का मुख्य उद्देश्य 150 मीटर की परिधि में एक ही परिसर में विभिन्न विद्यालयों में उपलब्ध माननीय एवं भौतिक संसाधनों का अधिकतम एवं प्रभावी उपयोग किया जाना है। इस व्यवस्था से पूर्व से संचालित कोई भी संस्था प्रभावित नही होगी। उन्होंने उक्त कार्य को बेहतर ढंग से मैदानी स्तर पर क्रियान्वित किये जाने संबंधित आवष्यक दिषा निर्देष भी दिए। उन्होंने कट्ठीवाडा विकासखंड की मैदानी स्तर की कार्ययोजना को बेहतर और प्रभावी ढंग से क्रियान्वित करने संबंधित आवष्यक निर्देष देते हुए समय सीमा में उक्त कार्य को पूर्ण करने के निर्देष भी दिए।

Post a Comment

0 Comments