एक जिला एक उत्पाद केला फसल, बुरहानपुर केले के चर्चे चारों ओर | Ek jila ek utpad kela fasal

एक जिला एक उत्पाद केला फसल, बुरहानपुर केले के चर्चे चारों ओर

एक जिला एक उत्पाद केला फसल, बुरहानपुर केले के चर्चे चारों ओर

बुरहानपुर (अमर दिवाने) - असीरगढ़ किला, कुण्डी भण्डारा के लिए ख्यात बुरहानपुर जिला केला उत्पादन के लिए भी जाना जाता है। एक जिला एक उत्पाद योजनान्तर्गत बुरहानपुर जिला केला उत्पादक होने से केला फसल को एक जिला एक उत्पाद के लिए चयनित किया गया है। वर्तमान में जिला का कुल सिंचित रकबा 62,327 हेक्टेयर है जिसमें से उद्यानीकि फसलों का रकबा 27,731 हेक्टेयर है जिसमें लगभग 20,522 हेक्टेयर में केला फसल का रोपण होता है। 

एक जिला एक उत्पाद केला फसल, बुरहानपुर केले के चर्चे चारों ओर

जिले में केला फसल के एक्सपोर्ट हेतु ग्राम नाचनखेड़ा में केला पैकिंग एवं ग्रेडिंग यूनिट की स्थापना की गई है। जिसके माध्यम से प्रतिदिन 20 से 30 मैट्रिक टन केला भारत में दिल्ली, हरियाणा, जम्मू, कश्मीर राज्यों सहित दुबई, टर्की एवं अन्य देशों में एक्सपोर्ट किया जा रहा है। 

एक जिला एक उत्पाद केला फसल, बुरहानपुर केले के चर्चे चारों ओर

जिला बुरहानपुर में उद्यानीकि क्षेत्र में वर्तमान में संचालित बनाना रायपेनिंग चेम्बर की 22 यूनिट हैं जिनकी क्षमता 1 हजार 167 मेट्रिक टन, कोल्ड स्टोरेज 2 यूनिट जिनकी क्षमता 1 हजार 425 मेट्रिक टन, बनाना फाइबर एक्सटेªक्सन यूनिट 1 है जिसकी क्षमता 20 मेट्रिक टन, बनाना चिप्स प्रोसेसिंग यूनिट 6 है जिनकी क्षमता 120 मेट्रिक टन और कोल्ड चैन की संख्या 1 है जिसकी क्षमता 30 मेट्रिक टन है। उक्त यूनिटों से जिले के व्यक्तियों को रोजगार भी प्राप्त हो रहा है। बुरहानपुर जिले में लगभग 17 रायपेनिंग चेम्बर स्थापित किये जाना प्रस्तावित है साथ ही वर्तमान में छोटी-छोटी केला चिप्स यूनिट संचालित की जा रही है।

केला फसल को एक जिला एक उत्पाद योजनानतर्गत चयनित किया गया है। ग्राम लोनी स्थित श्री गोविंद फ्रेश फ्रूट बनाना रायपेनिंग चेम्बर संचालित किया जा रहा है। 

संचालक राजेन्द्र महाजन एवं सुभाष महाजन दोनो भाईयों के सहयोग से यह बनाना रायपेनिंग चेम्बर संचालित किया जा रहा है। संचालक राजेन्द्र महाजन ने बताया कि हम पेशे से किसान है हमारे द्वारा किसानों से केला खरीदा जाता है। जिन्हें कैरेट में रखकर रायपेनिंग चेम्बर लाया जाता है। चेम्बर में रखने से पूर्व चेम्बर को साफ कर फलों को पकाने हेतु गैस का स्प्रे एवं चेम्बर को निर्धारित तापमान पर रखा जाता है। चार दिन बाद पके केले को विक्रय करने हेतु मंडियों में भेजा जाता है। संचालक ने अपना अनुभव बताया कि पहले किसानों का केला व्यापारी खरीदने से सीधे मना करते थे। अब किसान अपना केला पकाकर मंडी भेज देता है। यह किसानों की हित की बात है एवं बुरहानपुर का किसान खुश है। लोनी स्थित बनाना रायपेनिंग प्रत्येक चेम्बर में 500 कैरेट जमाये जाते है। बुरहानपुर का केला अन्य राज्यों सहित कई देशों में भी भेजा जाता है।

Post a Comment

0 Comments