निगमायुक्त ने शासन को लिखा पत्र, निकाय में सफाई कार्य ठेका बंद कर 30 दिवसीय कार्य पर रखें | Nigamayukt ne shasan ko likha patr

निगमायुक्त ने शासन को लिखा पत्र, निकाय में सफाई कार्य ठेका बंद कर 30 दिवसीय कार्य पर रखें

निगमायुक्त ने शासन को लिखा पत्र, निकाय में सफाई कार्य ठेका बंद कर 30 दिवसीय कार्य पर रखें

बुरहानपुर (अमर दिवाने) - मध्यप्रदेश सफाई मजदूर विकास महासंघ विगत कुछ वर्षों से बुरहानपुर नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग सफाई कार्य से ठेकेदारी पद्धति बंद कर 30 दिवसीय कार्य पर रखने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा था। आपको बता दें कि इस संबंध में मध्यप्रदेश शासन की पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस एवं मध्यप्रदेश राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष इंजीनियर सूरज खरे ने भी नगरीय प्रशासन एवं विकास आयुक्त निकुंज श्रीवास्तव, कलेक्टर एवं निगम प्रशासक प्रवीण सिंह, नगर निगम आयुक्त भगवानदास भुमरकर को पत्र लिखकर कहा कि प्रदेश की राजधानी भोपाल एवं पड़ोसी जिलों में सफाई कार्य से ठेका पद्धति बंद कर तीस दिवसीय कार्य पर रखे जा रहे हैं। यही प्रथा बुरहानपुर नगर निगम में भी लागू की जाए। मांग पत्र एवं ज्ञापन पर कार्यवाही करते हुए नगर निगम आयुक्त श्री भूमरकर ने आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास को पत्र लिखकर सफाई कार्य से ठेका पद्धति बंद कर 30 दिवसीय कार्य पर रखने की बात कहीं हैं।


महासंघ ने कलेक्टर एवं निगमायुक्त की, की थी लिखित शिकायत, फिर भी आज तक कोई निराकरण नही हुआ


निकाय में सफाई ठेके में कार्य कर रहे श्रमिकों को वेतन से संबंधित अनियमितताएं भी पाई जा रही हैं। इसकी शिकायत भी महासंघ के संभागीय अध्यक्ष धरम सौदे द्वारा कलेक्टर प्रवीण सिंह एवं निगमायुक्त भगवानदास भुमरकर को की थी। परंतु आज दिनांक तक भी उसकी जांच नहीं हो पाई हैं। सफाई कार्य ठेकेदारी में भारी भ्रष्टाचार एवं अनियमितताएं पाए जाने के पश्चात भी निगमायुक्त ने पांच करोड़ का टेंडर जारी कर दिया हैं।

महासंघ मांग पूरी न होने पर उग्र आंदोलन करेगा

मध्यप्रदेश सफाई मजदूर महासंघ के जिलाध्यक्ष अनिल पारोचे ने कहा कि यदि निकाय में सफाई कार्य से ठेका पद्धति बंद नहीं होती है तो महासंघ द्वारा उग्र आंदोलन किया जाएगा जिसकी संपूर्ण जवाबदारी शासन एवं प्रशासन की रहेगी।

Post a Comment

0 Comments