मंत्री श्री कावरे ने अधिकारियों की बैठक में ग्रामीण विकास कार्यों पर की चर्चा | Mantri shri kavre ne adhikariyo ki bethak main gramin vikas karyo pr ki charcha

मंत्री श्री कावरे ने अधिकारियों की बैठक में ग्रामीण विकास कार्यों पर की चर्चा

मंत्री श्री कावरे ने अधिकारियों की बैठक में ग्रामीण विकास कार्यों पर की चर्चा

बालाघाट (देवेंद्र खरे) - मध्यप्रदेश शासन के राज्य मंत्री आयुष (स्वतंत्र प्रभार) एवं जल संसाधन विभाग श्री रामकिशोर “नानो’’ कावरे ने आज 08 दिसंबर को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में ग्रामीण विकास से जुड़े अधिकारियों की बैठक लेकर जिले में ग्रामीण विकास कार्यों पर विस्तार से चर्चा की और आने वाले समय में कराये जाने वाले कार्यों के संबंध में निर्देश भी दिये। बैठक में जिला पंचायत प्रधान श्रीमती रेखा बिसेन, कलेक्टर श्री दीपक आर्य, अपर कलेक्टर श्री फ्रेंक नोबल ए, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती उमा महेश्वरी, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के कार्यपालन यंत्री, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के महाप्रबंधक, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री, लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री एवं जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी उपस्थित थे।

मंत्री श्री कावरे ने अधिकारियों की बैठक में ग्रामीण विकास कार्यों पर की चर्चा

     मंत्री श्री कावरे ने बैठक में सड़क निर्माण कराने वाले विभागों के अधिकारियों से कहा कि उनके द्वारा परसवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के ग्रामों का भ्रमण किया गया है। भ्रमण के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत बनाई गई सड़कों की स्थिति ठीक नहीं है। ऐसी ही स्थिति जिले के अन्य क्षेत्रों में भी होगी। अत: अधिकारी इस बात का ध्यान रखें कि जो सड़के मेंटेंनेंस पीरियड में है, उनका नियमानुसार मरम्मत कार्य कराया जाये। उन्होंने कहा कि लिंगा से भोरवाही सड़क खराब हो गई है। चिरई डोंगरी से कनई सड़क की स्थिति खराब है। चिनी से कुरेंडा सड़क भी ठीक नहीं है। बोदा से झांगुल सड़क में गिट्टी बिछाकर रखी गई है। खैरगांव-हट्टाटोला-लोहारा सड़क, सालेटेका से हट्टा, रजेगांव से बगड़मारा सड़क की स्थिति भी खराब हो गई है। अत: सड़क निर्माण करने वाले विभाग अपनी सड़कों का सुधार एवं मरम्मत कार्य करायें। जिससे सड़कों से आम जनों को आवागमन में किसी तरह की परेशानी न हो। यदि ठेकेदार द्वारा कार्य नहीं किया जा रहा हो तो उसके विरूद्ध ब्लेक लिस्टेड करने की कार्यवाही करें।


     मंत्री श्री कावरे ने अधिकारियों से कहा कि जहां पर बजट की समस्या है या बजट उपलब्ध नहीं है तो उनके ध्यान में यह बात लायी जाये। वे स्वयं शासन से बालाघाट जिले के लिए अधिक से अधिक बजट लाने का प्रयास करेंगें। अधिकारी नये कार्यों के प्रस्ताव तैयार करें। दो ग्रामों के बीच आवागमन के लिए ग्रेवल सड़कों के प्रस्ताव तैयार करें। मनरेगा की राशि का उपयोग ग्रेवल सड़कों के साथ ही नहरों के निर्माण एवं सुधार कार्य में अधिक से अधिक किया जाये। जल निगम के कार्यों की समीक्षा के दौरान मंत्री श्री कावरे ने भटेरा, पिपरझरी, ढूटी, देवसर्रा की नल-जल योजनाओं के बारे में जानकारी ली और अधिकारियों से कहा कि इन योजनाओं का बेहतर तरीके से संचालन होना चाहिए। नल-जल योजना के संचालन के लिए समिति का गठन करें और उनके माध्यम से ही वसूली की जाये। नल-जल योजना के पाईप ले जाने के लिए जहां पर सीसी सड़कों को खोदा गया है उसे बनाकर देना जल निगम की जिम्मेदारी है।


     मंत्री श्री कावरे ने बैठक में कहा गया ग्रामीणों को पंचायत सचिव, पटवारी एवं ग्राम रोजगार सहायक से बहुत काम पड़ता है। प्रदेश शासन ने पटवारी एवं सचिव का सप्ताह में दो दिन सोमवार एवं गुरूवार को मुख्यालय वाले पंचायत भवन में रहना अनिवार्य किया है। अत: अधिकारी इन दिनों में अपने क्षेत्र की पंचायतों का भ्रमण करें और पंचायत में पटवारी, सचिव एवं ग्राम रोजगार सहायक की उपस्थिति देखें। इनके मौके पर अनुपस्थित पाये जाने पर सख्त कार्यवाही की जाये।

Post a Comment

0 Comments