ग्राम पंचायत इच्छापुर में पहुँचे मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री वानखेड़े | Gram panchayat ichchapur main pahuche mukhya karyapalan adhikari shri vankhede

ग्राम पंचायत इच्छापुर में पहुँचे मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री वानखेड़े

ग्राम पंचायत इच्छापुर में पहुँचे मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री वानखेड़े

बुरहानपुर। (अमर दिवाने) - मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत बुरहानपुर द्वारा स्व सहायता समूह की महिलाओ के साथ भेंट की गई। जिसमे समूह के द्वारा बनाये जा रहे सेनिटरि नेपकिन यूनिट का निरीक्षण किया गया और समूह की अन्य गतिविधियों की विस्तृत जानकारी ली गई। सीईओ कैलाश वानखेडे ने महिलाओ को केले के रेशे से निर्मित होने वाले सेनेटरी नेपकिन पर भी कार्य करने के लिये कहा गया, आजीविका मिशन अन्तर्गत गठित समूह के ग्राम संगठन के कार्यालय हेतु स्थान चयन कर उक्त स्थान पर कुआँ, व पोषण वाटिका बनाने के लिये निर्देश दिये गये।

ग्राम पंचायत इच्छापुर में पहुँचे मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री वानखेड़े

ग्राम संगठन को आबंटित की जाने वाली शासकीय इमारत का आंकलन करने व जानकारी देने के निर्देश तत्काल सम्बंधित बी आर सी को दिये । गौशाला का निर्माण व स्व सहायता समूह की महिलाओ के लिये तत्काल मुख्य मार्ग पर स्थित शासकीय इमारत मे आउटलेट लगाने हेतु चर्चा की गई, जिला परियोजना प्रबंधक सुश्री सरिता स्वामी द्वारा भी महिला सशक्तीकरण, समूह की भूमिका, महिला चिकित्सा, शिक्षा सुरक्षा जैसे विषयो पर विस्तृत प्रकाश डाला गया।

ग्राम पंचायत इच्छापुर में पहुँचे मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री वानखेड़े

कार्यक्रम के अन्त मे समूह की महिलाओ के द्वारा उपस्थित अतिथियों का पुष्पगुच्छ देकर आभार व्यक्त किया गया। इस अवसर पर जनपद सदस्य अरुण महाजन,पटवारी, उपयंत्री, सचिव, ग्राम रोजगार सहायक, विकास खंड प्रबंधक ललिता चौहान, विजय सोनवणे व समूह प्रेरक हेमा, सेवन्ती तथा अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित  रहे।

ग्राम इच्छापुर भ्रमण के दौरान सीईओ ने सार्वजनिक कुआं और नर्सरी बनाने की ग्रामीणों की मांग पर तत्काल निरीक्षण किया। मौके पर  उपयंत्री को निर्देशित किया कि विद्युत मंडल परिसर के पास पोष्टिक उद्यान, सार्वजनिक कुँआ, सीपीटी बनाई जाए।

संपूर्ण कार्य योजना बनाने के निर्देश देते हुए ग्रामीणों को आयुष्यमान शिविर में आयुष्मान कार्ड बनाने और नामांतरण बंटवारे के अलावा प्रत्येक खेत में कुए बनाने और जहां सार्वजनिक स्थान है, वहां पर सार्वजनिक कुएं बनाने के लिए प्रेरित किया।

शासकीय स्कूल के परिसर का निरीक्षण कर अनुपयोगी भूमि का समतलीकरण कर बगीचा और फार्म पौंड बनाने के निर्देश भी दिए।

Post a Comment

0 Comments