"मिलावट से मुक्ति अभियान" मंत्री डॉ.यादव ने संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया | Milawat se mukti abhiyan mantri doc yadav ne sambhagiy chalit khady

"मिलावट से मुक्ति अभियान" मंत्री डॉ.यादव ने संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

"मिलावट से मुक्ति अभियान" मंत्री डॉ.यादव ने संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

उज्जैन (रोशन पंकज) - मंत्री डॉ.यादव ने शुक्रवार को कोठी पैलेस से मिलावट से मुक्ति अभियान के तहत संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। मंत्री डॉ.यादव ने कहा कि नागरिकों के शुद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण आहार के लिये मध्य प्रदेश सरकार संकल्पित है। इसी उद्देश्य से मिलावट से मुक्ति अभियान व्यापक स्तर पर चलाया जा रहा है।

"मिलावट से मुक्ति अभियान" मंत्री डॉ.यादव ने संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

इस दौरान संभागायुक्त श्री आनन्द कुमार शर्मा, आईजी श्री राकेश गुप्ता, डीआईजी श्री मनीष कपूरिया, एसपी श्री सत्येन्द्र शुक्ला, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, एडीएम श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी और अन्य अधिकारीगण मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि इस चलित खाद्य प्रयोगशाला द्वारा विभिन्न स्थानों पर मिलावट की जांच की जायेगी। इस हेतु खाद्य प्रयोगशाला वाहन में ही बनाई गई है। खाद्य पदार्थों में किसी भी प्रकार की मिलावट का पता तुरन्त लग सकेगा। इस प्रयोगशाला वाहन में अत्याधुनिक उपकरणों की सहायता से खाद्य पदार्थों में मिलावट की जांच की जायेगी।


मंत्री डॉ.यादव और अन्य अधिकारियों द्वारा चलित खाद्य प्रयोगशाला का अवलोकन किया गया। साथ ही डेमो के तौर पर प्रयोगशाला को रवाना करने से पहले उसमें दूध में मिलावट की जांच भी गणमान्य नागरिकों के समक्ष की गई।


गौरतलब है कि आम नागरिकों द्वारा उपयोग किये जाने वाले दैनिक खाद्य पदार्थ जैसे दूध, घी, मावा, पनीर, मिठाईयां, मिर्च-मसाले और खाद्य तेल आदि में मिलावट नियंत्रित करने के लिये मिलावट से मुक्ति अभियान विगत 9 नवम्बर 2020 से प्रारम्भ किया गया है। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य मध्य प्रदेश के आम नागरिकों को शुद्ध खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराना है। इस अभियान में जिला प्रशासन, पुलिस विभाग, खाद्य सुरक्षा प्रशासन, नापतौल, सिविल सप्लाई एवं नगरीय प्रशासन के अधिकारियों को शामिल कर विशेष जांच दल कलेक्टर की अध्यक्षता में बनाये गये हैं। यह अभियान खाद्य पदार्थों में निर्माण के समय मिलावट करने वाले एवं बड़े पैमाने पर नकली निर्माण करने वाले व्यक्तियों पर केन्द्रित होगा।


इस अभियान में खाद्य पदार्थों की यथासंभव पहले मौके पर ही मैजिक किट और चलित खाद्य प्रयोगशाला से जांच की जायेगी। खाद्य पदार्थ जांच में फेल होने पर लीगल सेम्पल लिये जायेंगे, जिससे नमूनों के सार्थक परिणाम प्राप्त हो सकें। यहां यह बात गौरतलब है कि इस अभियान में नियम अनुसार व्यवसाय करने वाले और छोटे विक्रेताओं ठेलेवालों आदि को अनावश्यक परेशानी न हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जायेगा।


चलित खाद्य प्रयोगशाला में दूध, घी, मावा, मिठाईयां, मिर्च-मसाले, सब्जियां एवं फल आदि को मौके पर ही प्राथमिक रूप से जांचने की आधुनिकतम सुविधा है। आम नागरिक 10 रुपये का शुल्क देकर अपने खाद्य पदार्थों की जांच इस चलित खाद्य प्रयोगशाला में करा सकते हैं। इसके अलावा मैजिक किट से भी खाद्य पदार्थों की प्राथमिक जांच कराई जा सकती है। खाद्य पदार्थों में मिलावट की सूचना आम नागरिकों द्वारा ईमेल आईडी fdampbhopal@gmail.com अथवा दूरभाष क्रमांक 0755-2660662 में और जिला कलेक्टर कार्यालय में दी जा सकती है।

Post a Comment

0 Comments