ग्राम स्तरीय सतर्कता दल करेंगे उचित मूल्य दुकानों की मानिटरिंग | Gram stariy satarkta dal karenge uchit muly dukano ki monetaring

ग्राम स्तरीय सतर्कता दल करेंगे उचित मूल्य दुकानों की मानिटरिंग

समय सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिए निर्देश

ग्राम स्तरीय सतर्कता दल करेंगे उचित मूल्य दुकानों की मानिटरिंग

रतलाम (यूसुफ अली बोहरा) - जिले में उचित मूल्य दुकानों पर गड़बड़ी को रोकने के लिए ग्राम स्तरीय सतर्कता समितियां मॉनिटरिंग करेंगी। कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड ने सोमवार को समय सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक में निर्देश दिए कि ग्राम स्तरीय सतर्कता एवं मानिटरिंग समितियों को सक्रिय किया जाए।


कलेक्टर ने निर्देश दिए कि सतर्कता समिति में सम्मिलित ग्राम पंचायत सचिव पीडीएस दुकानदार के संपर्क में रहेगा। खासतौर पर जब राशन सामग्री दुकान पर आएगी तब सचिव जानकारी लेगा। समिति दुकान पर पहुंचकर सामग्री उतरने के समय मानिटरिंग करेगी। कलेक्टर ने जिले में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत पात्र व्यक्तियों को पात्रता पर्ची उपलब्ध कराने की समीक्षा करते हुए जिला खाद्य अधिकारी को निर्देशित किया कि नवीन जोड़े गए सभी पात्र व्यक्तियों को पात्रता पर्ची मिल जाए। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि राशन के मामले में कोई भी गड़बड़ी पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। यह प्रदेश की मुख्यमंत्री की सर्वोच्च प्राथमिकता में सम्मिलित है ,गड़बड़ी करने वालों के विरुद्ध रासुका लगाया जाएगा। राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे जब भी भ्रमण पर जाएं तो उचित मूल्य की दुकान का अनिवार्य रूप से निरीक्षण करें।


बैठक में कलेक्टर द्वारा सभी विभागों के कार्यालय प्रमुखों को निर्देशित किया गया कि उनके कार्यालय अंतर्गत अनुपयोगी संपत्तियों को लोक परिसंपत्ति प्रबंधन पोर्टल पर अनिवार्य रूप से इन्द्राज कराएं। इस संबंध में कार्यालय प्रमुख लिखित रूप से सूचित करें कि उनके कार्यालय में अनुपयोगी संपत्ति है अथवा नहीं। मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के संबंध में कलेक्टर ने कहा कि योजना के क्रियान्वयन में जिला प्रदेश में तीसरे स्थान पर है, अधिकारी थोड़ी और मेहनत करें तो जिला प्रदेश में अव्वल आ जाएगा।


कलेक्टर द्वारा जिले में मुख्यमंत्री के सर्वोच्च प्राथमिकता में सम्मिलित कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान निर्देशित किया गया कि खाद्य सामग्री में मिलावट के विरुद्ध सघन अभियान संचालित किया जाए। अपर कलेक्टर को निर्देशित किया कि इस संबंध में दलों का गठन करें। जिले भर में प्रतिष्ठानों का निरीक्षण सघन रूप से किया जाए। पिछड़ा वर्ग विभाग की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने निर्देश दिए कि अधिकारी नहीं होने की स्थिति में जिले में पदस्थ विभाग के निरीक्षक अनिवार्य रूप से समय सीमा पत्रों की समीक्षा बैठक में उपस्थित होंगे।


मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में लंबित शिकायतों की समीक्षा के दौरान कलेक्टर द्वारा निर्देशित किया गया कि सभी विभाग 100 दिवस से अधिक लंबित शिकायतों का निराकरण तेजी से करें। कलेक्टर ने कहा कि नियमित मॉनिटरिंग से 100 दिवस से अधिक की शिकायतें तेजी से कम हो रही है। कलेक्टर द्वारा सभी विभागों को उनके यहां रिक्त पदों की जानकारी देने के निर्देश दिए गए ताकि अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों में संबंधित व्यक्तियों को नियुक्ति दी जा सके। बैठक में अपर कलेक्टर श्रीमती जमुना भिड़े, सीईओ जिला पंचायत श्री संदीप केरकेट्टा, एसडीएम रतलाम ग्रामीण श्री एम.एल. आर्य, डिप्टी कलेक्टर श्री जैन, डिप्टी कलेक्टर श्री कृतिका भीमावद तथा अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments