एक ही किसान द्वारा बार-बार यूरिया खरीदने की होगी जांच | Ek hi kisan dvara bar bar uria kharidne ki hogi janch

एक ही किसान द्वारा बार-बार यूरिया खरीदने की होगी जांच

कलेक्टर द्वारा दल गठित किए गए

एक ही किसान द्वारा बार-बार यूरिया खरीदने की होगी जांच

रतलाम (यूसुफ अली बोहरा) - रतलाम जिले में कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड के निर्देश पर उन किसानों के यूरिया खरीदने की जांच की जा रही है जिनके द्वारा बार-बार यूरिया खरीदा गया है। कृषि विभाग द्वारा टॉप 20 बायर्स और फ्रिक्वेंट बायर्स की सूची तैयार की गई है जिनके द्वारा अगस्त-सितंबर तथा अक्टूबर महीनों में अत्याधिक यूरिया खरीदा गया है। इस संबंध में कलेक्टर श्री डाड द्वारा विकासखंडवार निरीक्षण दलों का गठन किया गया है जो उर्वरक विक्रय से संबंधित दस्तावेजों का मिलान करेंगे। इसके साथ ही किसानों के भू-राजस्व रकबे का सत्यापन भी करेंगे।


उपसंचालक किसान कल्याण कृषि विकास विभाग श्री ज्ञानसिंह मोहनिया ने बताया कि रतलाम विकासखंड के लिए गठित दल मे एसडीएम रतलाम दल प्रभारी रहेंगे। इनके साथ दल में सहायक संचालक कृषि श्री डी.आर. माहोर, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्री बी.एम. सोलंकी तथा एक सहकारिता निरीक्षक रहेंगे। इसी प्रकार विकासखंड के लिए गठित दल में एसडीएम सैलाना दल प्रभारी रहेंगे। उनके अलावा अनुविभागीय अधिकारी कृषि श्री एन.एस. मंडलोई, कृषि विकास अधिकारी श्री वाई.एस. रावत तथा सहकारिता निरीक्षक सम्मिलित रहेंगे। बाजना के लिए गठित दल में दल प्रभारी एसडीएम सैलाना के अलावा सहायक संचालक कृषि श्री पी.सी. केवड़ा, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्री बी.एम. सोलंकी तथा सहकारिता निरीक्षक शामिलरहेंगे।


जावरा के लिए गठित दल के प्रभारी एसडीएम जावरा रहेंगे। उनके साथ दल में सहायक संचालक कृषि श्री के.एस. गोयल, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्री बलरामसिंह चंद्रावत तथा सहकारिता निरीक्षक जावरा शामिल किए गए हैं। पिपलोदा के लिए गठित दल के प्रभारी एसडीएम जावड़ा होंगे। उनके साथ दल में सहायक संचालक कृषि श्री के.एस. गोयल, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्री ए.के. कुशवाह तथा सहकारिता निरीक्षक पिपलोदा सम्मिलित रहेंगे। विकासखंड आलोट के दल प्रभारी एसडीएम आलोट रहेंगे। उनके साथ दल में अनुविभागीय अधिकारी कृषि श्री एन.के. छारी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी डीपीएस तोमर तथा सहकारिता निरीक्षक आलोट सम्मिलित किए गए है। गठित निरीक्षण दलों द्वारा सात दिवस में अपना निरीक्षण पूर्ण कर जानकारी अपर कलेक्टर को प्रस्तुत की जाएगी।

Post a Comment

0 Comments