सीता मैया दूध दो बोल कर ताली बजाने पर पहाड़ पर से टपकता है पानी | Sita mayya doodh do bol kar tali bajane pr pahad pr se tapakta

सीता मैया दूध दो बोल कर ताली बजाने पर पहाड़ पर से टपकता है पानी 

देवरा महादेव और माता जानकी स्थल  में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं 

सीता मैया दूध दो बोल कर  ताली बजाने पर  पहाड़ पर से टपकता है पानी

मनावर (पवन प्रजापत) - मनावर से 14 किलोमीटर दूर धार मार्ग पर अवलदा से 4 किलोमीटर और देवरा महादेव से मात्र 2 किलोमीटर दूर ग्राम सीतापुरी में अद्भुत स्थान है। प्रकृति की सुरम्य वादियों में माता सीता मां शक्ति स्वरूपा रूप में गुफा के अंदर विराजित है।मनावर के पत्रकार और लेखक विश्वदीप मिश्रा बताते हैं कि वनवास के दौरान  मां सीता  इसी पहाड़ के नीचे की गुफा में  एक रात बिताई थी । इसीलिए इस ग्राम का नाम सीतापुरी पड़ा है  बहुत ही सुंदर इतिहास और पौराणिक महत्व है इस स्थान का लाखों साल पहले  यह समुद्री क्षेत्र था यहां पर सुखन नदी और मानसरोवर  अब मान नदी का संगम इसे अनोखा रूप प्रदान करता है साथ ही यहां पर मां बागेश्वरी मंदिर सात माता देवी और 7 पानी के कुंड है जिनका पानी कभी भी खत्म नहीं होता है। इसके साथ ही शेर की गुफाएं और प्रकृति के अद्भुत नजारे यहां देखने को मिलेंगे जीवाश्म के प्रचुर भंडार है डायनासोर के अंडे भी इस क्षेत्र में प्रचुर मात्रा में पाए गए हैं विश्वदीप मिश्रा बताते हैं कि नर्मदा किनारे क्षेत्र में शिव पार्वती और पांडव कालीन इतिहास का उल्लेख तो इस क्षेत्र में मिलता है लेकिन भगवान श्रीराम से जुड़ा या अदभुत स्थान अपने आप में अनुपम है प्राकृतिक ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व के इस स्थान को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा सकता है।



Post a Comment

0 Comments